Hindi Sex Stories By raj sharma

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

दा मैड

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:31

हिंदी सेक्सी कहानियाँ
दा मैड
"क्या मैं अंदर आ सकता हूँ?" रचना ने दरवाज़ा खोला तो मैं फूल आगे बढ़ता हुआ बोला
"बाहर मत खड़े रहो अंदर आओ, कोई देख लेगा" उसने मेरी शर्ट पकड़ कर मुझे
अंदर खींचा और दरवाज़ा बंद कर लिया.
"अर्रे देखने दो, यहाँ तुम लोगों को जानता ही कौन है" मैं अंदर आता हुआ बोला
"जानते फिलहाल नही हैं तो इसका मतलब ये नही के कभी नही जानेंगे. बाद में
मोम डॅड से लोग बातें करेंगे तो बताएँगे नही के आपके पिछे आपकी लड़की रात
को घर पर लड़के बुलाती है"

रचना अपने माँ बाप की एकलौती लड़की थी और पिच्छले हफ्ते ही उन्होने इस
नये घर में शिफ्ट किया था.
मैं पिच्छले 5 साल से उसे जानता था, उससे प्यार करता था और सही मौके की
तलाश में था के बात को घरवालो की मर्ज़ी से आगे बढ़ाया जाए. उस रात उसके
मोम डॅड किसी रिलेटिव के यहाँ रुके हुए थे तो उसने मुझे फोन करके बुला
लिया.

मैं अपना कोट उतारता हुआ ड्रॉयिंग रूम में दाखिल हुआ. रात के करीब 11.30
बज रहे थे. बाहर मौसम ठंडा था पर घर के अंदर हीटर ऑन होने की वजह से कमरे
का टेंपॅरेचर गरम था. ड्रॉयिंग रूम में ही उनके घर में काम करने वाली
लड़की ज़मीन पर बैठी टीवी देख रही थी.

"आइ थॉट यू सेड यू वर अलोन?" मैने रचना की तरफ देखते हुए कहा तो उसने
मुझे आँख मारी और पलट कर फ्रिड्ज से कुच्छ खाने को निकालने लगी.

मैं सोफे पर आकर बैठ गया और टीवी देखने लगा. उस लड़की ने एक बार मेरी तरफ
देखा. मैं जवाब में मुस्कुराया पर वो अजीब नज़रों से मुझे देखती वहाँ से
उठी और एक कमरे के अंदर चली गयी.

"यू वाना ईट हियर ओर यू वाना गो टू दा बेडरूम?" रचना ने मुझसे पुछा तो
मैने इशारे से कहा के बेडरूम में चलते हैं हाथ में खाने की प्लेट्स उठाए
हम उसके बेडरूम तक पहुँचे.

"घर तो बहुत मस्त है" मैने खाने की प्लेट्स टेबल पर रखते हुए कहा
"और काफ़ी सस्ते में मिला है डॅड कह रहे थे. ही सेड इट वाज़ आ प्रेटी गुड
डील" रचना झुकी हुई खाना टेबल पर लगा रही थी.

उसने उस वक़्त एक स्कर्ट और टॉप पहेन रखा था. स्कर्ट घुटनो तक था और आगे
को झुकी होने के कारण टॉप खींच कर उपेर हो गया था.
"आइ थिंक प्रेटी गुड डील तो ये है जो मुझे मिली है" मैने आगे बढ़कर उसकी
कमर को पकड़ते हुए अपना खड़ा लंड उसकी गांद पर टीका दिया.
"औचह" वो फ़ौरन ऐसे खड़ी हुई जैसे बिच्छू ने डॅंक मार दिया हो "क्या करते हो?"
"तुम्हें प्यार" मैने फ़ौरन उसको अपनी तरफ घुमाया और होंठ उसके होंठों पर रख दिए.
"खाना तो खा लो" वो किस के बीच में बोली
"पूरी रात पड़ी है"
"ठंडा हो जाएगा"
"गरम कर लेंगे. खाने के साथ साथ ज़रा हम दोनो भी ठंडे हो लें"

वो अच्छी तरह जानती थी के फिलहाल मुझसे बहस करने का कोई फायडा नही था
इसलिए बिना आगे कुच्छ बोले मेरा साथ देने लगी.

हम दोनो उसके बेड के पास खड़े हुए थे. वो अपने पंजो पर खड़ी मेरे होंठों
को चूस रही थी और मेरे हाथ उसके टॉप के अंदर उसकी नंगी कमर को सहला रहे
थे.
"क्या इरादा है?" अपने पेट पर कपड़ो के उपेर से ही मेरे खड़े लंड को
महसूस करते हुए वो बोली
"तुम्हें चोदने का" मैं आँख मारते हुए कहा और आगे को झुक कर उसके गले को
चूमने लगा. मेरे हाथ अब उसकी कमर से नीचे सरक कर उसकी गांद तक पहुँचे.
"ओह लव" उसने मुझसे लिपट-ते हुए एक ठंडी आह भरी. मैने धीरे धीरे उसके
स्कर्ट को उपेर की ओर उठाना शुरू कर दिया.

"वेट. उतार ही दो" वो बोली
हम दोनो एक पल के लिए अलग हुए और वो मुस्कुराती हुई बेड पर चढ़ कर खड़ी हो गयी.
"लेट्स स्ट्रीप टुगेदर"
उसने कहा तो हम दोनो ने एक दूसरे के देखते हुए एक साथ कपड़े उतारने शुरू
कर दिए. उसने टी-शर्ट और स्कर्ट के नीचे कुच्छ भी नही पहना हुआ था. अगले
ही पल वो नंगी हो चुकी थी.
"नो अंडरगार्मेंट्स?" मैने मुस्कुराते हुए पुच्छा और पूरी तरह नंगा होकर
बिस्तर पर चढ़ गया
"पता था के तुम आओगे तो वैसे ही उतारने पड़ेंगे तो सोचा के पेहेन्के फायडा ही क्या"
वो बिस्तर पर अपनी पीठ पर लेट गयी और दोनो टांगे खोल दी. मैं इशारा समझ
गया. पेट पर उल्टा लेट कर मैने उसकी टाँगो को अपने कंधो पर रखा. उसकी चूत
किसी फूल की तरह खुल चुकी थी और रस टपका रही थी.
"यू आर सोकिंग वेट" मैने कहा और आगे बढ़कर अपने होंठ उसकी जीभ पर टीका दिए.
"लिक्क मी" उसने ऊँची आवाज़ में सरगोशी की और टाँग उपेर हवा में उठा दी.
जैसे जैसे मेरी जीभ उसकी चूत की गहराइयों में उतरती रही, वैसे वैसे उसकी
मेरे बालों पर पकड़ और मज़बूत होती रही. नीचे से वो कभी बिस्तर पर अपनी
गांद को कभी रगड़ने लगती तो कभी एडीयन नीचे रख कर अपनी चूत मेरे मुँह पर
दबाने लगती.
"सक मी ... लिक्क इट .... जीभ घुसाओ अंदर .... अंगुली डालो"
जब वो इस तरह से बोलने लगती तो मैं समझ जाता था के वो गरम हो गयी थी.
"लंड चाहिए?" मैने चूत से मुँह हटा कर पुच्छा
"हां"
"चूत में या पहले मुँह में लोगि?"
"फक मी फर्स्ट .... आइ विल सक यू लेटर. पूरी रात पड़ी है" वो बेसब्री
होते हुए बोली और मुझे अपने उपेर खींचने लगी.
"कम ऑन ... हरी अप ... फक मी फास्ट"
मैं पूरा उसके उपेर आ गया तो उसने खुद ही हाथ हम दोनो के बीच ले जाकर
मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत के मुँह पर लगा दिया.
"घुसाओ अंदर"
मैने हल्का सा धक्का मारा और लंड उसकी गीली चूत में ऐसे गया जैसे मक्खन
में गरम च्छुरी.
"ओह गॉश ..... " मैने धक्के मारने शुरू किए तो उसने फिर सरगोशी की "यू
अरे फक्किंग मी सो वेल ... सो डीप .... पूरा घुसाओ ना अंदर जान ...."
"मज़ा आ रहा है?" मैने उसकी आँखों में देखते हुए पुच्छा
"बहुत ..... यू आर फक्किंग माइ चूत सो वेल बेबी ...."
उसकी दोनो टांगे मेरी कमर पर लिपटी हुई थी और मेरे हर धक्के के साथ उसकी
बड़ी बड़ी चूचियाँ ऐसे हिल रही थी जैसे अंदर पानी भरा हो. मैने आगे झुक
कर उसका एक निपल अपने मुँह में लिया.
"सक देम माइ लव ... सक देम"
मैं बारी बारी उसकी दोनो चूचियाँ चूस्ता हुआ उसकी चूत पर धक्के मारता
रहा. कमरा वासना के एक तूफान से भर गया था और रचना की चीखने चिल्लाने की
आवाज़ से गूँज रहा था. वो ऐसी थी थी, जब एग्ज़ाइटेड होती तो ज़ोर ज़ोर से
चिल्लाने लगती थी.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:33



"यू वाना चेंज पोज़?" मैने पुछा
"न्प ... डोंट टेक इट आउट. कीप फक्किंग. लंड अंदर ही रखो प्लस्ससस्स" वो फ़ौरन बोली
अब मेरे हर धक्के के साथ वो अपनी गांद बिस्तर पर पटक रही थी और कोशिश कर
रही थी के मेरा लंड जितना अंदर हो सके ले ले. एक बार फिर उसे चोद्ते हुए
मैं झुका और उसके सूजे हुए निपल्स को चूसने लगा, अपनी जीभ से उसकी
चूचियों को चाटने लगा.
"दाँत से काटो" उसने खुद कहा तो मैने एक निपल पर अपने दाँत गड़ाए.
"आ ... इतनी ज़ोर से नही ... धीरे"
मेरे हाथ उसके पुर जिस्म पर घूमते हुए नीचे उसकी गांद पर आ टीके. मैने
अपने दोनो हाथों से नीचे उसके कूल्हों को पड़का और उपेर की ओर उठाया ताकि
लंड और अंदर तक घुसा सकूँ. जवाब में उसने भी अपनी टाँगें मेरी कमर से
उपेर सरका कर मेरे कंधो पर रख दी और चूत और ज़्यादा हवा में उठा दी.

"चोदो मुझे" वो वासना से पागल होती जैसे रोने ही वाली थी "ज़ोर से चोदो
ना .... आइ आम अबौट टू कम"
मैने धक्को की तेज़ी और बढ़ा दी.
"लेट मी राइड युवर कॉक" कुच्छ देर बाद वो हान्फ्ते हुए बोली तो मैं उसके
उपेर से हटकर नीचे आकर लेट गया. वो एक पल के लिए अपनी साँस संभालती हुई
उठ कर बैठ गयी और फिर अपनी टाँगें मेरे दोनो तरफ रख कर बैठ गयी.

"इट्स ड्राइ ... घुसेगा नही" मैने कहा तो वो रुकी और नीचे झुक कर लंड
थोड़ा सा अपने मुँह में लिया, जीभ रगड़ कर थूक से गीला किया और फिर सीधी
होकर अपनी चूत पर लगाया.

"आआहह" लंड पकड़े वो नीचे को बैठी तो इस बार मेरे मुँह से भी आह छूट
पड़ी. अपने दोनो हाथ मेरी छाती पर रख कर वो अपनी गांद उपेर नीचे हिलाने
लगी. उसके शरीर के साथ उसकी चूचियाँ ऐसे हिल रही थी जैसे पपीते के पेड़
पर लटके दो पपीते हवा के झोंके से हिल रहे हों.

"आइ डोंट थिंक आइ कॅन होल्ड एनी लॉंगर" मैने कहा और उसके दोनो चूचियों को
अपने हाथ में जाकड़ लिया.
"थ्ट्स ओके ... मेरा भी होने वाला है" वो अपने गांद तेज़ी से हिलाते हुए बोली
"जब मैं कहूँ तो उठ जाना. निकलने वाला होगा तो बता दूँगा"
"नही ... चूत में ही निकालो ... मुझे वो एक पिल ला देना ....." उसने कहा
और अपनी कमर को और तेज़ी से हिलाने लगी.

"खाना ठंडा हो गया" जब वासना का तूफान उठा तो मैने खाने की तरफ देखता हुआ बोला
"हां हमारे साथ साथ खाने को भी ठंडा होना ही था" वो हँसते हुए बोली "रूको
मैं गरम करके लाती हूँ"
"नही" मैने उसका माथा चूमा और उठकर बैठ गया "आप आराम कीजिए. गुलाम है ना
सेवा करने के लिए"

मैं खाने की प्लेट्स उठाए नीचे किचन में आया तो वो काम करने वाली लड़की
अब भी वहीं बैठी टीवी देख रही थी और तब मुझे ध्यान आया के किस तरह मैं और
रचना दोनो ही पूरी तरह उसको भूल चुके थे.
जितनी ज़ोर ज़ोर से रचना थोड़ी देर पहले शोर मचा रही थी, मुझे पूरा यकीन
था के उसने नीचे सुना ज़रूर होगा. उपेर से मेरी हालत ऐसी थी के कोई एक
नज़र देख कर बता दे के मैं उपेर क्या करके आ रहा हूँ.

जब उसने नज़र भरके मुझे देखा तो जाने क्यूँ पर मैं शर्मिंदा हो गया. वो
उमर में कोई 14-15 साल की थी इसलिए मैं अंदाज़ा नही लगा पाया के वो सेक्स
के बारे में जानती है के नही. क्या उसे समझ आया के उपेर क्या हो रहा था
या नही. मेरी नज़र उससे मिली तो मैं खिसिया कर मुस्कुराया. जवाब में वो
मुझे वैसे ही घूर कर देखती रही और फिर उठ कर कमरे में चली गयी.

"शिट मॅन " मैने अपने आप से कहा और खाना गरम करने लगा. कुच्छ देर बाद ही
वो अपने हाथ में एक पिल्लो और चादर उठाए आई और बेसमेंट का दरवाज़ा खोल कर
सीढ़ियाँ उतर कर नीचे चली गयी.

"चलो अच्छा है के ये नीचे बेसमेंट में रहती है. अट लीस्ट रात भर हमारी
आवाज़ें तो नही सुनेगी" मैने दिल ही दिल में सोचा और खाना गरम करके फिर
रचना के रूम में पहुँचा.

"वी वर टू लाउड यार" मैने उसे कहा
"आइ नो ... बहुत चिल्लाने लगती हूँ ना मैं?" वो भी शर्मिंदा सी होती मेरी
तरफ देखने लगी
मैं उसे बताने ही वाला था के नीचे वो लड़की सब सुन रही थी के मुझसे पहले
रचना बोल पड़ी.
"यू डिड्न्ट गेट दा सपून्स?"
तब मैने देखा के मैं सपून्स नीचे ही छ्चोड़ आया था.
"होल्ड ऑन. मैं ले आती हूँ. हाथ भी धोने हैं मुझे" कहकर वो बिस्तर से उठी
और नीचे चली गयी.
मैं बैठा उसका इंतेज़ार ही कर रहा था के कोई 10 मिनिट बाद एक बर्तन गिरने
और फिर रचना के चिल्लाने की आवाज़ आई. मैं फ़ौरन बिस्तर से उतरा और नीचे
की तरफ भगा.

"यू ओके बेबी?" कहता हुआ मैं नीचे आया और ड्रॉयिंग रूम में जो देखा, वो
देख कर मेरी साँस उपेर की उपेर और नीचे की नीचे रह गयी.
रचना नीचे ज़मीन पर उल्टी पड़ी थी और वो काम करने वाली लड़की उसकी कमर पर
चढ़ि बैठी थी. एक हाथ से उसने रचना के बाल पकड़ रखे थे और दूसरे हाथ से
एक चाकू उसकी गर्दन पर चला रही थी, जैसे कोई बकरा हलाल कर रही हो.
मेरे मुँह से चीख निकल गयी.
मेरे चिल्लाने की आवाज़ सुनकर वो मेरी तरफ पलटी और अपने हाथ को एक झटका
दिया. अगले ही पल रचना की गर्दन कट कर धड़ से अलग हो उसके हाथ में आ गयी.
मेरे मुँह से फिर चीख निकल गयी.

"ही ही ही ही !!" इस बार मेरी चीख के जवाब में वो हस्ती हुई कटा हुआ सर
लिए फिर बेसमेंट का दरवाज़ा खोल कर नीचे भाग गयी.
मैं कुच्छ देर वहाँ खड़ा रचना की सर कटी लाश देखता रहा. तभी बेसमेंट का
दरवाज़ा फिर खुला और वो फिर चाकू लिए बाहर निकली. इस बार मैने भाग कर
अपने आपको बाथरूम में बंद कर लिया और तब तक वहीं रहा जब तक के पोलीस वालो
ने दरवाज़ा तोड़ नही दिया.

"क्या हुआ? वॉट हॅपंड हियर?" कुच्छ देर बाद एक पोलिसेवला मेरी आँखों में
टॉर्च मारता हुआ चिल्ला कर मुझसे पुच्छ रहा था. मेरे सामने ही रचना के
मोम डॅड बैठे रो रहे थे और मुझे देख रहे थे.
"यौर मैड किल्ड हर. उस लड़की ने मार डाला उसे"
वो दोनो हैरत से मेरी तरफ देखने लगे.
"व्हाट मैड? हमने इस घर में फिलहाल कोई मैड रखी ही नही है. ढूँढ रहे हैं
अब तक" उसके बाप का जवाब आया
"क्या बकते हो?" मैं लगभग चिल्ला पड़ा "तो वो कौन है जो नीचे बेसमेंट में रहती है?"
इस बार रचना के मोम डॅड के साथ पोलिसेवाले भी मुझे हैरत से देखने लगे.

"कौन सा बेसमेंट?" एक पोलिसेवला बोला "इस घर में तो कोई बेसमेंट है ही नही"

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:33


THE MAID
"Kya main ander aa sakta hoon?" Rachna ne darwaza khola toh main phool
aage badhata hua bola
"Bahar mat khade raho andar aao, koi dekh lega" Usne meri shirt pakad
kar mujhe andar khincha aur darwaza band kar liya.
"Arrey dekhne do, yahan tum logon ko janta hi kaun hai" Main andar aata hua bola
"Jaante filhal nahi hain toh iska matlab ye nahi ke kabhi nahi
jaanenge. Baad mein Mom Dad se log baaten karenge toh batayenge nahi
ke aapke pichhe aapki ladki raat ko ghar par ladke bulati hai"

Rachna apne maan baap ki eklauti ladki thi aur pichhle hafte hi unhone
is naye ghar mein shift kiya tha.
Main pichhle 5 saal se use janta tha, usse pyaar karta tha aur sahi
mauke ki talash mein tha ke baat ko gharwalo ki marzi se aage badhaya
jaaye. Us raat uske Mom Dad kisi relative ke yahan ruke hue the toh
usne mujhe phone karke bula liya.

Main apna coat utarta hua drawing room mein daakhil hua. Raat ke
kareeb 11.30 baj rahe the. Bahar mausam thanda tha par ghar ke andar
heater on hone ki vajah se kamre ka temparature garam tha. Drawing
room mein hi unke ghar mein kaam karne wali ladki zameen par bethi TV
dekh rahi thi.

"I thought you said you were alone?" Maine Rachna ki taraf dekhte hue
kaha toh usne mujhe aankh maari aur palat kar fridge se kuchh khaane
ko nikalne lagi.

Main sofe par aakar beth gaya aur TV dekhne laga. Us ladki ne ek baar
meri taraf dekha. Main jawab mein muskuraya par vo ajeeb nazron se
mujhe dekhti vahan se uthi aur ek kamre ke andar chali gayi.

"You wanna eat here or you wanna go to the bedroom?" Rachna ne mujhse
puchha toh maine ishare se kaha ke bedroom mein chalte hain Haath mein
khaane ki plates uthaye ham uske bedroom tak pahunche.

"Ghar toh bahut mast hai" Maine khaane ki plates table par rakhte hue kaha
"Aur kaafi saste mein mila hai Dad keh rahe the. He said it was a
pretty good deal" Rachna jhuki hui khaana table par laga rahi thi.

Usne us waqt ek skirt aur top pehen rakha tha. Skirt ghutno tak tha
aur aage ko jhuki hone ke karan top khinch kar uper ho gaya tha.
"I think pretty good deal toh ye hai jo mujhe mili hai" Maine aage
badhkar uski kamar ko pakadte hue apna khada lund uski gaand par tika
diya.
"Ouchhhh" Vo fauran aise khadi hui jaise Bichhu ne dank maar diya ho
"Kya karte ho?"
"Tumhein pyaar" Maine fauran usko apni taraf ghumaya aur honth u ske
honthon par rakh diye.
"Khana toh kha lo" Vo kiss ke beech mein boli
"Poori raat padi hai"
"Thanda ho jaayega"
"Garam kar lenge. Khaane ke saath saath zara ham dono bhi thande ho lein"

Vo achhi tarah jaanti thi ke filhal mujhse behas karne ka koi fayda
nahi tha isliye bina aage kuchh bole mera saath dene lagi.

Ham dono uske bed ke paas khade hue the. Vo apne panjo par khadi mere
honthon ko choos rahi thi aur mere haath uske top ke andar uski nangi
kamar ko sehla rahe the.
"Kya irada hai?" Apne pet par kapdo ke uper se hi mere khade lund ko
mehsoos karte hue vo boli
"Tumhein chodne ka" Main aankh maarte hue kaha aur aage ko jhuk kar
uske gale ko choomne laga. Mere haath ab uski kamar se neeche sarak
kar uski gaand tak pahunche.
"Oh love" Usne mujhse lipat-te hue ek thandi aah bhari. Maine dheere
dheere uske skirt ko uper ki aur uthana shuru kar diya.

"Wait. Utaar hi do" Vo boli
Ham dono ek pal ke liye alag hue aur vo muskurati hui bed par chadh
kar khadi ho gayi.
"Lets strip together"
Usne kaha toh ham dono ne ek doosre ke dekhte hue ek saath kapde
utaarne shuru kar diye. Usne T-Shirt aur skirt ke neeche kuchh bhi
nahi pehna hua tha. Agle hi pal vo nangi ho chuki thi.
"No undergarments?" Maine muskurate hue puchha aur poori tarah nanga
hokar bistar par chadh gaya
"Pata tha ke tum aaoge toh vaise hi utarne padenge toh socha ke
pehenke fayda hi kya"
Vo bistar par apni peeth par let gayi aur dono taange khol di. Main
ishara samajh gaya. Pet par ulta let kar maine uski taango ko apne
kandho par rakha. Uski choot kisi phool ki tarah khul chuki thi aur
ras tapka rahi thi.
"You are soaking wet" Maine kaha aur aage badhkar apne honth uski
jeebh par tika diye.
"Lick me" Usne oonchi aawaz mein sargoshi ki aur taang uper hawa mein utha di.
Jaise jaise meri jeebh uski choot ki gehraiyon mein utarti rahi, vaise
vaise uski mere baalon par pakad aur mazboot hoti rahi. Neeche se vo
kabhi bistar par apni gaand ko kabhi ragadne lagti toh kabhi ediyan
neeche rakh kar apne chhot mere munh par dabane lagti.
"Suck me ... Lick it .... jeebh ghusao andar .... anguli daalo"
Jab vo is tarah se bolne lagti toh main samajh jata tha ke vo garam ho gayi thi.
"Lund chahiye?" Maine choot se munh hata kar puchha
"Haan"
"Choot mein ya pehle munh mein logi?"
"Fuck me first .... I will suck you later. Poori raat padi hai" Vo
besabri hote hue boli aur mujhe apne uper khinchne lagi.
"Come on ... hurry up ... fuck me fast"
Main poora uske uper aa gaya toh usne khud hi haath ham dono ke beech
le jaakar mera lund pakda aur apni choot ke munh par laga diya.
"Ghusao andar"
Maine halka sa dhakka maara aur lund uski geeli choot mein aise gaya
jaise makkhan mein garam chhuri.
"Oh gosh ..... " Maine dhakke maarne shuru kiye toh usne phir sargoshi
ki "You are fucking me so well ... so deep .... Poora ghusao na andar
jaan ...."
"Maza aa raha hai?" Maine uski aankhon mein dekhte hue puchha
"Bahut ..... You are fucking my choot so well baby ...."
Uski dono taange meri kamar par lipti hui thi aur mere har dhakke ke
saath uski badi badi chhatiyan aise hil rahi thi jaise andar paani
bhara ho. Maine aage jhuk kar uska ek nipple apne munh mein liya.
"Suck them my love ... suck them"
Main baari baari uski dono chhatiyan choosta hua uski choot par dhakke
maarta raha. Kamra vasna ke ek toofan se bhar gaya tha aur Rachna ki
cheekhne chillane ki aawaz se goonj raha tha. Vo aisi thi thi, jab
excited hoti toh zor zor se chillane lagti thi.

"You wanna change pose?" Maine puchha
"Np ... Dont take it out. Keep fucking. Lund andar hi rakho plsssss"
Vo fauran boli
Ab mere har dhakke ke saath vo apni gaand bistar par patak rahi thi
aur koshish kar rahi thi ke mera lund jitna andar ho sake le le. Ek
baar phir use chodte hue main jhuka aur uske sooje hue nipples ko
choosne laga, apni jeebh se uski chhatiyon ko chaatne laga.
"Daant se kaato" Usne khud kaha toh maine ek nipple par apne daant gadaye.
"Aah ... itni zor se nahi ... dheere"
Mere haath uske poore jism par ghoomte hue neeche uski gaand par aa
tike. Maine apne dono haathon se neeche uske koolhon ko padka aur uper
ki aur uthaya taaki lund aur andar tak ghusa sakun. Jawab mein usne
bhi apni taangen meri kamar se uper sarka kar mere kandho par rakh di
aur choot aur zyada hawa mein utha di.

"Chodo mujhe" Vo vasna se pagal hoti jaise rone hi wali thi "Zor se
chodo na .... i am about to come"
Maine dhakko ki tezi aur badha di.
"Let me ride your cock" Kuchh der baad vo haanfte hue boli toh main
uske uper se hatkar neeche aakar let gaya. Vo ek pal ke liye apni
saans sambhalti hui uth kar beth gayi aur phir apni taangen mere dono
taraf rakh kar beth gayi.

"Its dry ... ghusega nahi" Maine kaha toh vo ruki aur neeche jhuk kar
lund thoda sa pane munh mein liya, jeebh ragad kar thook se geela kiya
aur phir sidhi hokar apni choot par lagaya.

"Aaaahhhhhhhhh" Lund pakde vo neeche ko bethi toh is baar mere munh se
bhi aah chhut padi. Apne dono haath meri chhati par rakh kar vo apni
gaand uper neeche hilane lagi. Uske shareer ke saath uski chhatiyan
aise hil rahi thi jaise papeete ke ped par latke do papeete hawa ke
jhonke se hil rahe hon.

"I dont think i can hold any longer" Maine kaha aur uske dono
chhatiyon ko apne haath mein jakad liya.
"Thats ok ... Mera bhi hone wala hai" Vo apne gaand tezi se hilate hue boli
"Jab main kahun toh uth jana. Nikalne wala hoga toh bata doonga"
"Nahi ... Choot mein hi nikalo ... Mujhe vo ek pill la dena ....."
Usne kaha aur apni kamar ko aur tezi se hilane lagi.

"Khana thanda ho gaya" Jab vasna ka toofan utha toh maine khane ki
taraf dekhta hua bola
"Haan hamare saath saath khane ko bhi thanda hona hi tha" Vo haste hue
boli "Ruko main garam karke laati hoon"
"Nahi" Main uska matha chooma aur uthkar beth gaya "Aap aaram kijiye.
Ghulam hai na sewa karne ke liye"

Main khaane ki plates uthaaye neeche kitchen mein aaya toh vo kaam
karne wali ladki ab bhi vahin bethi TV dekh rahi thi aur tab mujhe
dhyaan aaya ke kis tarah main aur Rachna dono hi poori tarah usko
bhool chuke the.
Jitni zor zor se Rachna thodi der pehle shor macha rahi thi, mujhe
poora yakeen tha ke usne neeche suna zaroor hoga. Uper se meri haalat
aisi thi ke koi ek nazar dekh kar bata de ke main uper kya karke aa
raha hoon.

Jab usne nazar bharke mujhe dekha toh jaane kyun par main sharminda ho
gaya. Vo umar mein koi 14-15 saal ki thi isliye main andaza nahi laga
paya ke vo sex ke baare mein jaanti hai ke nahi. Kya use samajh aaya
ke uper kya ho raha tha ya nahi. Meri nazar usse mili toh main khisiya
kar muskuraya. Jawab mein vo mujhe vaise hi ghoor kar dekhti rahi aur
phir uth kar kamre mein chali gayi.

"Shit man " Maine apne aap se kaha aur khana garam karne laga. Kuchh
der baad hi vo apne haath mein ek pillow aur chadar uthaye aayi aur
basement ka darwaza khol kar seedhiyan utar kar neeche chali gayi.

"Chalo achha hai ke ye neeche Basement mein rehti hai. At least raat
bhar hamari aawazen toh nahi sunegi" Maine dil hi dil mein socha aur
khana garam karke phir Rachna ke room mein pahuncha.

"We were too loud yaar" Maine use kaha
"I know ... Bahut chillane lagti hoon na main?" Vo bhi sharminda si
hoti meri taraf dekhne lagi
Main use batane hi wala tha ke neeche vo ladki sab sun rahi thi ke
mujhse pehle Rachna bol padi.
"You didnt get the spoons?"
Tab maine dekha ke main spoons neeche hi chhod aaya tha.
"Hold on. Main le aati hoon. Haath bhi dhone hain mujhe" Kehkar vo
bistar se uthi aur neeche chali gayi.
Main betha uska intezaar hi kar raha tha ke koi 10 minute baad ek
bartan girne aur phir Rachna ke chillane ki aawaz aayi. Main fauran
bistar se utra aur neeche ki taraf bhaga.

"You ok baby?" Kehta hua main neeche aaya aur Drawing room mein jo
dekha, vo dekh kar meri saans uper ki uper aur neeche ki neeche reh
gayi.
Rachna neeche zameen par ulti padi thi aur vo kaam karne wali ladki
uski kamar par chadhi bethi thi. Ek haath se usne Rachna ke baal pakad
rakhe the aur doosre haath se ek chaaku uski gardan par chala rahi
thi, jaise koi bakra halal kar rahi ho.
Mere munh se cheekh nikal gayi.
Mere chillane ki aawaz sunkar vo meri taraf palti aur apne haatk ko ek
jhatka diya. Agle hi pal Rachna ki gardan kat kar dhad se alag ho uske
haath mein aa gayi.
Mere munh se phir cheekh nikal gayi.

"Hee hee hee hee !!" Is baar meri cheekh ke jawab mein vo hasti hui
kata hua sar liye phir Basement ka darwaza khol kar neeche bhaag gayi.
Main kuchh der vahan khada Rachna ki sar kati laash dekhta raha. Tabhi
Basement ka darwaza phir khula aur vo phir chaaku liye bahar nikli. Is
baar maine bhaag kar apne aapko bathroom mein band kar liya aur tab
tak vahin raha jab tak ke police walo ne darwaza tod nahi diya.

"Kya hua? What happened here?" Kuchh der baad ek policewala meri
aankhon mein torch marta hua chilla kar mujhse puchh raha tha. Mere
saamne hi Rachna ke mom dad bethe ro rahe the aur mujhe dekh rahe the.
"Your maid killed her. Us ladki ne maar dala use"
Vo dono hairat se meri taraf dekhne lage.
"What maid? Hamne is ghar mein filhal koi maid rakhi hi nahi hai.
Dhoondh rahe hain ab tak" Uske baap ka jawab aaya
"Kya bakte ho?" Main lagbhag chilla pada "Toh vo kaun hai jo neeche
basement mein rehti hai?"
Is baar Rachna ke mom dad ke saath policewale bhi mujhe hairat se dekhne lage.

"Kaun sa basement?" Ek policewala bola "Is ghar mein toh koi basement
hai hi nahi"
samaapt