घर का दूध compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:30

Ghar Ka Doodh part--7 Gataank se aage............ subah jab Manju

chaay lekar aayi to saath mei Geeta bhi thi. dono subah subah naha kar

aayi thi, baal ab bhi gile the. Manju to maadarjaat nangi thi jaisi

uski aadat thi, Geeta ne bhi bas ek gili saadi odh rakhi thi jisme se

uska joban jhalak raha tha. "ye kya, subah subah puja wuja karne

nikali ho kya dono?" maine mazak kiya. Geeta boli "haan babuji, aaj

aapke land ki puja karungi, dekho fool bhi laai hun" sach mei weh ek

Daliya mei fool aur puja ka samaan liye thi. bade pyaar se usne mere

land par ek chhota Tika lagaya aur use ek mogre ki chhoti maalaa pehna

di. Uper se mere land par kuchh fool Daale aur fir use pakadkar apne

haathon mei lekar us per un mulaayam foolon ko ragadne lagi. dabaate

dabaate jhuk kar achaanak usne mere land ko chum liya. main kuchh

kehta iske pahle Manju hansti hui mere paas aakar baith gayi. mera jor

ka chumban lekar apni choonchi meri chhaati par ragadte hue boli. "are

ye to baawari hai, kal se aapke gore matwaale land ko dekh kar paagal

ho gayi hai. babuji, jaldi se chaay piyo. mujhe bhi aap se puja

karwaani hai apni choot ki. aap meri bur ki puja karo, Geeta beti

aapke land ki puja karegi apne munh se." mera land kas kar khada tha.

main chaay ki chuski lene laga to dekha bina Doodh ki chaay thi. Manju

ko bola ki Doodh nahi hai to weh badmaash aurat dikhaawe ke liye jhut

mut apna maatha Thok kar boli " haay, main bhul hi gayi, maine Doodh

waale bhaiya ko kal hi bata diya ki ab Doodh ki jarurat nahi hai

hamaare babuji ko. ab kya kare, chaay ke baare mei to maine socha hi

nahi. waise fikar ki baat nahi hai babuji, ab to "Ghar ka Doodh" hai,

ye do pairon waali do thano ki khoobsurat gaiyaa hai naa yehan! e

Geeta, idhar aa jaldi" Geeta se mera land chhoda nahi jaa raha tha.

badi mushkil se uthi. par jab Manju ne kaha "chal ab tak waise hi

saadi lapete baithi hai, chal nangi ho aur apna Doodh daa jaldi,

babuji ki chaay mein" to tapaak se uth kar apni saadi utar kar weh

mere paas aa gayi. uske desi joban ko main dekhta reh gaya. uska badan

ekdam maansal aur gol matol tha, chunchiyaan to badi thin hi, chootad

bhi achchhe khaase bade aur chaude the. garbhaavastha mei chadha maans

ab tak uske sharir par tha. jaanghen ye moti moti aur paav roti jaisi

fuli bur, puri baalon se bhari hui. main to jhadane ko aa gaya. "jaldi

Doodh Daal chaay mei" Manju ne use khinch kar kaha. Geeta ne apni

choonchi pakad kar chaay ke kap ke uper laai aur daba kar usme se

Doodh nikaalne lagi. Doodh ki tej patli dhaar chaay mei girne lagi.

chaay safed hone tak weh apni choonchi duhti rahi. fir jaakar meri

kamar ke paas baith gayi aur mere land ko chaatne lagi. maine kisi

tarha chaay khatam ki. swaad alag tha par meri us awastha mei ekdam

mast lag raha tha. mera sir ghumne laga. ek jawaan ladki ke Doodh ki

chaay pi raha hun aur wahi ladki mera land chus rahi hai aur uski maan

is intjaar mei baithi hai ki kab meri chaay khatam ho aur kab weh apni

choot mujhse chuswaaye. maine chaay khatam karke Manju ko baanhon mei

khincha aur uske mamme masalte hue uska munh chusane laga. meri haalat

dekh kar Manju ne kuchh der mujhe chumne diya aur fir mujhe lita kar

mere chehare par chadh baithi aur apni choot mere munh mei de di.

"babuji, ab nakhra na karo, aise nahi chhodungi aapko, bur ka ras

jarur pilaaungi, chalo jibh nikaalo, aaj usiko chodoongi" udhar Manju

ne mujhe apni choot ka ras pilaaya aur udhar uski beti ne mere land ki

malaai nikaal li. Geeta ke munh mei main aisa jhada ki lagta tha

behosh ho jaaunga. Geeta ne mera pura virya nigla aur fir muskarate

hue aakar maan ke paas baith gayi. Manju ab bhi mujh par chadhi mere

honthon par apni bur ragad rahi thi. "kyon beti, mila prasaad, ho gayi

tere man ki?" "ammaa, ekdam malaai nikalti hai babuji ke land se, kya

gaadhi hai, taar taar tutate hai. Tu to tin mahine se kha rahi hai

tabhi teri aisi mast tabiyat ho gayi hai ammaa. ab iske baad aadhi

main lungi haan!" Geeta Manju se lipatkar boli. ek baar aur mere munh

mei jhad kar samaadhaan se si si karti Manju uthi. "chal Geeta, ab

babuji ko Doodh pila de. fir aage ka kaam karenge" Geeta mere uper

jhuki aur mujhe litaaye litaaye hi apna Doodh pilaane lagi. raat ke

aaraam ke baad fir uske mamme bhar gaye the aur unhein khaali karne

mei mujhe das minute lag gaye. tab tak Manju baayi ki jaadui jibh ne

apna kamaal dikhaaya aur mere land ko fir se tanna diya. Geeta ke

Doodh mei aisa jaadu tha ki mera aisa khada hua jaise jhada hi na ho.

udhar Geeta mujhse lipat kar sehsa boli "babuji, aap ko babuji kehna

achchha nahi lagta, aapko bhaiya kahun? aap bas mere se tin chaar saal

to bade ho" Manju meri or dekh rahi thi. maine Geeta ka gehra chumban

lekar kaha "bilkul kaho Geeta raani, aur main tujhe Geeta behan ya

behnaa kahunga. par ye to bata teri ammaa ko kya kahun? is hisaab se

to use amma kehna chahiye" Manju mera land munh se nikaal kar mere

paas aa kar baith gayi. uski aankhon mei gahari waasna thi. "haan,

mujhe amma kaho babuji, mujhe bahut achchha lagega. aap ho bhi to mere

bete jaisi umar ke ho, aur main aapko beta kahungi. samjhungi mera

beta mujhe chod raha hai. aap kuchh bhi kaho babuji, bete ya bhaai se

chudwaane mei jo maza hai wo or kahin nahi" mujhe bhi maza aa raha

tha. kalpana kar raha tha ki sach mei Manju meri maan hai aur Geeta

bahan. un nangi chudailon ke baare mei yeh soch kar land uchhalne

laga. "amma, to aao, ab kaun chudegaa pahale, meri behna yaa amma?"

"amma, ab main choodun bhaiya ko?" us ladki ne adhir hokar puchha.

Manju ab taish mei thi "badi aai chodne waali, apni amma ko to chudne

de pahale apne is khoobsurat bete se. tab tak tu aisa kar, unko apni

bur chataa de, wo bhi to dekhen ki meri beti ki bur ka kya swaad hai.

tab tak main tere liye unka sonta garam karti hun" mujhe aankh maar

kar Manju baayi hansne lagi. ab weh puri masti mei aa gayi thi. Geeta

fatafat mere munh par chadh gayi. "o nalaayak, baithna mat abhi bhaiya

ke munh par. jara pehle unhe thik se darshan to kara apni jawaan

gulaabi choot ke" Geeta ghutno par tik gayi, uski choot mere chehare

ke teen chaar inch uper thi. uski bur Manju baayi se jyada gudaaj aur

maansal thi. jhantein bhi ghani thin. choot ke gulaabi papote santare

ki faank jaise mote the aur laal chhed khula hua tha jisme se ghee

jaisa chipchipa paani beh raha tha. maine Geeta ki kamar pakadkar

niche khincha aur us mithai ko chaatne laga. Udhar Manju ne mera land

apni bur mei liya aur mujhpar chadh kar mujhe haule haule maje lekar

chodne lagi. apni beti ka stanpaan dekhkar weh bahut uttejit ho gayi

thi, uski choot itni gili thi ki aaraam se mera land usme fisal raha

tha. Geeta ke chhootad pakadkar maine uski tapti bur mei munh chhupa

diya aur jo bhaag munh mei aaya weh aam jaisa chusne laga. uska anaar

kaa kada daana maine halke se daanton mei liya aur us per jibh ragadne

laga. do minute mei weh chhokri sukh se sisakti hui jhad gayi. mere

munh mei ras tapakne laga. "ari amma, bhaiya kitna achchha karte hai.

main to ghante bhar apni choot chuswaaungi aaj." main ek ajib masti

mei duba hua us jawaan chhokri ki choot chus raha tha, weh uper niche

hoti hui mere sir ko pakadkar mera munh chod rahi thi aur uski weh

adhed amma mujhpar chadh kar mere land ko chod rahi thi. Aisa lag raha

tha jaise main cykal hun aur ye dono aage pichhe baithkar mujhpar

sawaari kar rahi hai. main sochne laga ki agar yeh swarg nahi hai to

aur kya hai. Geeta halke halke sitkaariyaan bharte Manju se boli

"amma, chuchiyaan kaisi halki ho gayi hai, bhaiya ne puri khaali kar

din chus chus kar. tu dekh na, ab jara tan bhi gayi hai nahi to kaise

latak rahi thin." meri naak aur munh Geeta ki bur mei kaid the par

aankhen baahar hone se uska sharir dikh raha tha. maine dekha ki Manju

ne pichhe se apni beti ke stan pakad liye the aur pyaar se unhein

sahala rahi thi. "sachi beti, ekdam mulaayam ho gaye hai. chal main

inki maalish kar deti hun, tujhe sukun mil jaayega." Manju boli. mujhe

dikhate hue uske haath ab Geeta ke stano ko dabaane aur masalne lage.

fir mujhe chumne ki aawaaj aayi. shaayad maan ne laad se apni beti ko

chum liya tha. mujhe lagne laga ki ye maan beti ka saada prem hai yaa

kuchh gadbad hai? das minute baad un dono ne jagah badal li. main ab

bhi tannaaya hua tha aur jhada nahi tha. Manju baayi ek baar jhad

chuki thi aur apni choot ka ras mujhe pilaana chahati thi. Geeta do

tin baar jhadi jarur thi par chudne ke liye mari jaa rahi thi.

kramashah........

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:31

घर का दूध पार्ट--8

गतान्क से आगे............ मंजू तो सीधे मेरे मुँह पर चढ़ कर मुझे बुर
चुसवाने लगी. गीता ने पहले मेरे लंड का चुम्मा लिया, जीभ से चाता और
कुच्छ देर चूसा. फिर लंड को अपनी बुर मे घुसेड कर मेरे पेट पर बैठ गयी और
चोदने लगी. मेरे मन मे आया की मेरे लंड को चूस्ते समय अपनी माँ की बुर के
पानी का स्वाद भी उसे आया होगा. गीता की चूत मंजू से ज़्यादा ढीली थी.
शायद माँ बनने के बाद अभी पूरी तरह टाइट नही हुई थी. पर थी वैसी ही मखमली
और मुलायम. मंजू ने उसे हिदायत दी "ज़रा मन लगा कर मज़े लेकर चोद बेटी
नही तो भैया झाड़ जाएँगे. अब मज़ा कर ले पूरा" गीता ने अपनी माँ की बात
मानी पर सिर्फ़ कुच्छ मिनिट. फिर वह ऐसी गरम हुई की उच्छल उच्छल कर मुझे
पूरे ज़ोर से चोदने लगी. उसने मुझे ऐसे चोदा की पाँच मिनिट मे खुद तो
झड़ी ही, मुझे भी झाड़ा दिया. मंजू अभी और मस्ती करना चाहती थी इसीलिए
चिढ़ गयी. मेरे मुँह पर से उतरते हुए बोली "अरी ओ मूरख लड़की, हो गया काम
तमाम? मैं कह रही थी सबर कर और मज़ा कर. मैं तो घंटो चोदती हूँ बाबूजी
को. अब उतर नीचे नलायक" मंजू ने पहले मेरा लंड चाट कर साफ किया. फिर
उंगली से गीता की बुर से बह रहे वीर्या को सॉफ करके उंगली चाटने लगी "ये
तो पर्शाद है बेटी, एक बूँद भी नही खोना इसका. तू ज़रा टांगे खोल, ठीक से
साफ कर देती हूँ" उसने उंगली से बार बार गीता की बुर पुंच्ची और चॅटी.
फिर झुक कर गीता की जाँघ पर बहे मेरे वीर्या को चाट कर सॉफ कर दिया. मेरे
मन मे फिर आया कि ये क्या चल रहा है माँ बेटी मे. दोपहर का खाना होने के
बाद गीता ने फिर मुझे दूध पिलाया और चुदाई का एक और दौर हुआ. शाम को उठकर
मैं क्लब चला गया. रात को वापस आया तो खाने के बाद फिर एक बार गीता का
दूध पिया और फिर माँ बेटी को पलंग पर आजू बाजू सुलाकर बारी बारी चोदा.
गीता के दूध की अब मुझे आदत होने लगे थी. दूसरे दिन रविवार था. मैने
थोड़ा अलग प्रोग्राम बनाया. सुबह गीता का दूध पिया और फिर दोनो माँ बेटी
की चूत चूस कर उन्हे खुश किया. बस मेरे लंड को हाथ नही लगाने दिया. मैं
दोपहर तक उसे और तना कर खड़ा करना चाहता था. मंजू बाई मेरे दिल की बात
समझ गयी, क्योंकि ये हर रविवार को होता था. अपने छूतदों को सहलाती हुई
अपनी बेटी से बोली "गीता बिटिया, आज दोपहर को मेरी हालत खराब होने वाली
है" गीता ने पुचछा तो कोई जवाब नही दिया. मैं भी हंसता रहा पर चुप रहा.
मंजू की आँखों मे दोपहर को होने वाले दर्द की चिंता सॉफ दिख रही थी.
दोपहर को हम नंगे होकर मेरे बेडरूम मे जमा हुए. मेरा लंड कस कर खड़ा था.
गीता ललचा कर मेरे सामने बैठ कर उसे चूसने की कोशिश करने लगी तो मैने रोक
दिया. "रुक बहना, तुझे बाद मे खुश करूँगा, पहले तेरी इस चुदैल माँ की
गांद मारूँगा. हफ़्ता हो गया, अब नही रहा जाता. चल अम्मा, तैयार हो जा"
मंजू चुपचाप बिस्तर पर ओंधी लेट गयी "अब दुखेगा रे मुझे, देख कैसे खड़ा
है बाबूजी का लंड मूसल जैसा" गीता समझ गयी कि उसकी माँ सुबह से क्यों
घबरा रही थी. बड़े उत्साह से मेरी ओर मूड कर बोली "भैया, मेरी मार लो,
मुझे मज़ा आएगा. बहुत दीनो से सोच रही थी की गांद मरवाने का मज़ा मिले.
उंगली डाल कर और मोमबत्ती घुसेड कर कई बार देखा पर सुकून नही मिला. आप से
अच्च्छा लंड कहाँ मिलेगा गांद मरवाने को?" मैं तैयार था, अंधे को क्या
चाहिए दो आँखें! नई कोरी गांद मे घुसने की कल्पना से ही मेरा लंड और
उच्छलने लगा था. मंजू जान छ्छूटने से खुश थी "अरे मेरी बिटिया, तूने मेरी
जान बचा ली आज. चल मक्खन से मस्त चिकनी कर देती हूँ तेरी गांद, दुखेगा
नही" गीता को ओँदा लिटा कर उसने उसकी गुदा मे और मेरे लंड को मक्खन से
खूब चुपद दिया. मैं गीता पर चढ़ा तो मंजू ने अपनी बेटी के छ्छूतड़ अपने
हाथ से फैलाए. उसके भूरे गुलाबी छेद पर मैने सुपाड़ा रखा और पेलने लगा.
सुपाड़ा सूज कर बड़ा हो गया था फिर भी मक्खन के कारण फ़चाक से एक बार मे
ही गांद के अंदर घुस गया. गीता को जम कर दुखा होगा क्योंकि उसका शरीर ऐंठ
गया था और वह काँपने लगी थी. पर छ्छोकरी हिम्मत वाली थी, मुँह से अफ तक
नही निकाली. उसे संभालने का मौका देने के लिए मैं एक मिनिट रुका और फिर
लंड अंदर घुसेड़ने लगा. इस बार मैने कस के एक धक्के मे लंड सत्त से उसके
छ्छूतदों के बीच पूरा गाढ दिया था. अब वह बेचारी दर्द से चीख पड़ी.
सिसकते हुए बोली "माँ मेरी, मर गयी मैं, भैया ने गांद फाड़ दी. देख ना
अम्मा, खून तो नही निकला ना!" मंजू उसे चिढ़ाते हुए बोली "आ गयी रास्ते
पर एक झटके मे? बातें तो पाटर पाटर करती थी की गांद मरवौन्गि. पर रो मत,
कुच्छ नही हुआ है, तेरी गांद सही सलामत है, बस पूरी खुल गयी है चूत जैसी.
बेटा, तूने भी कितनी बेरहमी से लंड डाल दिया अंदर, धीरे धीरे पेलना था
मेरी बच्ची के चूतदों के बीच जैसे मेरी गांद मे पेला था." "अरे अम्मा, ये
मरी जा रही थी ना गांद मराने को! तो सोचा की दिखा ही दूं असली मज़ा. वैसे
गीता बहना की गांद बहुत मोटी और गुदाज है, डन्लोपिलो की गद्दी जैसी है,
इसे तकलीफ़ नही होगी ज़्यादा" मैने गीता के चूतड़ दबाते हुए कहा.

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर का दूध

Unread post by The Romantic » 22 Oct 2014 04:31

मेरा
लंड अब लोहे की मुसली जैसा उसके चूतदों की गहराई मे उतर गया था. गीता की
गांद बहुत गुदाज और मुलायम थी. मंजू जितनी टाइट तो नही थी पर बहुत गरम
थी, भट्टि जैसी. मैं उस पर लेट गया और उसके मम्मे पकड़ लिए. उसके मोटे
चूतड़ स्पंज की गद्दी जैसे लग रहे थे. उसकी चूंचियाँ दबाते हुए मैं धीरे
धीरे उसकी गांद मारने लगा. शुरू मे हर धक्के पर उसके मुँह से सिसकी निकल
जाती, बेचारी को बहुत दर्द हो रहा होगा. पर साली पक्की चुदैल थी. पाँच
मिनिट मे उसे मज़ा आने लगा. फिर तो वह खुद ही अपनी कमर हिला कर गांद
मरवाने की कोशिश करने लगी. "भैईयाज़ी, मारो ना! और जम कर मारो, बहुत मज़ा
आ रहा है! हाय अम्मा, बहुत अच्च्छा लग रहा है, तेरे को क्यों मज़ा नही
आता? भैया, मारो मेरी गांद हचक हचक कर, पटक पटक कर चोद मेरी गांद को, माँ
कसम मैं मर जाउन्गि" मैने कस कर गीता की गांद मारी, पूरा मज़ा लिया. मैं
बहुत देर उसके चूतड़ चोदना चाहता था इसीलिए मंजू को सामने बैठकर उसकी बुर
चूसने लगा, नही तो बेचारी अपनी बेटी की गांद चुदति देख कर खुद अपनी चूत
मे उंगली कर रही थी. मन भर कर मैने गीता की गांद चोदि और फिर झाड़ा. बचा
दिन बहुत मज़े मे गया. छुट्टी होने के कारण दिन भर चुदाई चली. गीता के
दूध का मैं ऐसा दीवाना हो गया था की चार घंटे भी नही रुकता था. हर घंटे
उसकी चूंचियाँ चूस लेता, जितना भी दूध मिलता पी जाता. रात को मैने मंजू
से कहा की गीता को गाय जैसा दूह कर गिलास मे दूध निकाले. मेरी बहुत
इच्च्छा थी ऐसे दूध दुहते हुए देखने की. मंजू ने गीता को बाजू मे बैठा कर
उसके हाथ मे गिलास थमाया. गीता ने उसे अपनी चूंची की नोक पर पकड़ कर रखा
और मंजू ने अपनी बेटी के मम्मे दबा दबा कर दूध निकाला. गीता के निपल से
ऐसी धार छूट रही थी की जैसे सच मे गाय हो. पूरा दूध निकालने मे आधा घंटा
लग गया. बीच मे मैं गीता का चुम्मा ले लेता और कभी उसके सामने बैठ कर
उसकी चूत चूस लेता. दुहने का यह कार्यकरम देख कर मुझे इतना मज़ा आया की
मेरा लंड कस कर खड़ा हो गया. गिलास से दूध पीकर मैने फिर एक बार गीता की
गांद मारी. मंजू बहुत खुश थी कि गीता के आने से उसकी गांद की जान तो
च्छुटी. दूसरे दिन मुझे टूर पर जाना पड़ा. दूसरे दिन मुझे टूर पर जाना
पड़ा. दोनो माँ बेटी बहुत निराश हो गयी. उन्हे भी मेरे लंड का ऐसा चस्का
लगा था कि मुझे छ्चोड़ने को तैयार नही थी. मैने समझाया की आकर चुदाई
करेंगे, मेरे लंड को भी आराम की ज़रूरत थी. गीता को मैने सख़्त हिदायत दी
कि मेरी ग़ैरहाज़िरी मे अपना दूध निकाल कर फ्रिज मे रख दे, मैं आ कर
पियुंगा. मैं तीन दिन बाद शाम को वापस आने वाला था. पर काम जल्दी ख़तम हो
जाने से दोपहर को ही आ गया. सोचा अब ऑफीस ना जाकर सीधा घर चल कर आराम
किया जाए. लच के समय दरवाजा खोला. मुझे लगा था की अभी वो दोनो घर मे नही
होंगी, मेरी ग़ैरहाज़िरी मे गाँव चली गयी होंगी. पर जब घर के अंदर आया तो
बेडरूम से हँसने की आवाज़ आई. मैं दबे पाँव बेडरूम के दरवाजे तक गया और
उसे ज़रा सा खोल कर अंदर देखने लगा. जो देखा उससे मेरा लंड तुरंत तन्ना
गया. उस दिन चोद्ते समय माँ बेटी के चुम्मे और मंजू ने जिस तरह गीता के
मम्मे सहला दिए थे, उसे देखकर मेरे मन मे जो संदेह उठा था वह सच था. माँ
बेटी के बीच बड़ी मतवाली प्रेमलीला चल रही थी. मंजू बाई बिस्तर पर
सिरहाने से टिक कर बैठी थी. गीता उसकी गोद मे थी. मंजू उसके बार बार
चुंबन ले रही थी. मंजू का एक हाथ गीता की चूंचियों को दबा रहा था. गीता
अपनी माँ के गले मे बाँहे डाले उसके चुम्मों का जवाब दे रही थी. बीच बीच
मे माँ बेटी जीभ लड़ाती और एक दूसरे की जीभ चूसने लगती थी. मैं अंदर जाना
चाहता था पर अपने लंड को मुठियाता हुआ वहीं खड़ा रहा. सोचा ज़रा देखें तो
आगे ये चुदैल माँ बेटी क्या करती है. गीता बोली "अम्मा, बहुत अच्च्छा लग
रहा है. तू कितना मस्त करती है मेरी बुर को. पर चूंचियाँ फिर टपक रही है,
बर्तन ले आ ना रसोई से और निकाल दे मेरा दूध. बहुत भारी भारी लग रहीं
है." मंजू गीता को चूम कर बोली "कोई ज़रूरत नही बिटिया, दो दिन मे ही सेर
भर दूध जमा हो गया है बाबूजी के लिए, उनके लिए बहुत है, इससे ज़्यादा दूध
वो कहाँ पिएँगे?" गीता मचल कर बोली "पर मैं क्या करूँ अम्मा? बहुत दुख
रही है चुचियाँ" मंजू ने झुक कर उसके मम्मे को प्रेम से चूमते हुए कहा
"तो मैं काहे को हूँ मेरी रानी? मैं खाली कर देती हूँ दो मिनिट मे!" गीता
मंजू बाई से लिपट कर खुशी से चाहक पड़ी "सच अम्मा? बड़ी छुपि रुस्तम
निकली तू? मुझे नही पता था कि तुझे मेरे दूध की आस होगी!" मंजू बाई गीता
को नीचे लिटाते हुए बोली "मुझे तो बहुत दिन की आस है बेटी, सिर्फ़ तेरे
दूध की ही नही, तेरे बदन की भी आस है. जब से बाबूजी से चुदाई शुरू हुई
है, मेरे दिल मे आग सी लग गयी है. मैं तो उनके सामने ही पी लेती पर क्या
पता वो नाराज़ ना हो जाएँ इसीलिए चुप रही. उनके हिस्से का दूध पीने मे
हिचक होती थी. अब आ, तेरी छाति हल्की कर दूं, फिर तेरी बुर हल्की करूँगी"
क्रमशः............