अंजाना रास्ता compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: अंजाना रास्ता

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 09:38

Anjaana Rasta --5

gataank se aage................

"laa idhar la pani.." uncle mere hath se pani ka glas lete hue bole.

Mere najar abhi bhi didi par hi thi jo ki mujhse najar nahi mila paa rahi thi.

" Le biteyaa.pani pi le.." uncle pani ka glas didi ki tarf badaate hue bole.

Par didi ne pani nahi peyaa. Isspar uncle ne thode deer taak kuch

sochaa aur bola.." chaal tere leye thanda mangata hoo"

Phir usne mujhe pepsi ki bottle lane ke leye kuch paise deye aur bola

ki nukkad par ek paan ki dukaan hai waha se ek thandi pepsi le aooo.

Wo to mujhe ek nokar ke tarh treat kar raha thaa..par mujhe uska

muksad samjh aa gaya thaa..so me turant bahar jane kee leye bada hi

thaa ki ..achankk didi mujhe kuch bolne ko huee..shaayad bolna chaa

rahi thi ki " Anuj mujhe is adami ke sath akela mutt chod kar jaa "

par uncle ye bhaap gayee vee turant bol pada jaldi jaa beta nahi to

dunkaan bund ho gayegee..phir me bahar aa gaya..par mere demaaj me bhi

kuch chal raha thaaa..aur issbaar me kisse bhi halat me aisa sunhira

mooka chodna nahi chahata thaa.. me ghum kar us jhugi ki dosri tarf

chala gaya..aur andar jhakne ke leye koi jagah thundne lagaaa…me andar

kya ho raha hogaa soch soch kar bahut jyaada excited hone laga

thaa..zaldi hi mujhe ek jagah mil gaye ..dewaar me ek chiedh hua pada

thaa .wo chiedh koi jyaada bada to nahi thaa par phir bhi mujhe andar

ka najra saaf najar aa raha thaa…Uncle ki khole (room ) bikul kone me

thi so koi mujhe waha undeer jhakte hue dekh bhi nahi sakta thaa..phir

maine undeer dekna shuru kyaa..aur jaisa maine sochaa thaa vaisaa hi

ho raha thaa..uncle ne Anjali didi ko apne baho me jakda hua

thaaa..uska ek hath didi ki kamar ko uppar se nechi taak sehla raha

thaa..

"ab to shaaraam chod dee mere jaan…ab to tere bhai koo bhi maine bahr

bhiej diyaa hai" Uncle didi ki janjho(thighs) ko sahlaate hue bole.

"Uncle..plssss…ahhh..plzz muhi ghar jane doo" didi uncle ka hath apne

jangho se hatane ki koshis karte hue bol rahi thi.

" Inn sexy baloo ko kyoo band rakah hai tunee..bahnchod..khol

inhie.."Wo didi ke judee ko kholte huee bola.

Shaayad usko bhi ladkyoo ke lambee baal bahut pasand thi..aur didi ke

baal lambe hone ke sath sath ekdaam silky bhie thi. Balo ki chamamk or

shine yee bata rahi thi ki didi unki kItnie dekh rekh karte hai.Uncle

ke leye yee saab mano sapna sa hi thaa jiska wo pura faayada uthane

chaa rah thi. Josh me akkar uncle ne didi ke ab taak bikhier chuke

ballo ko apne hatho me bhar kar unme appna muhh daal diya aur balo ki

kushbu sugane lagee..jaise jiase didi ke baloo se aate kushbuu us

gandee addmi ke demaj me jane lagii vaise vaise uska lund lungi me

kahda honee lagaa..Ye dekh sirf uncle hi nahi didi bhie hiaran thi..Ab

to didi ko bhi apne baloo ki importance ka pata chaal gaya thaa..aur

shaayad wo apne app par thoda ghamand bhi karne lagii thi..halki wo

ghamand thode deer kel leye hi e thaa..kyonki uncle ab didi ka balo ko

apne balo se bhari buddi chatti par ragadne laga ..aur isse didi ke

baal kichne lagee to didi kaarha uthi."Aaaaaisshhh…dhiree

karoo....dard hota hai.."

Uncle ka josh ab badta hi jaa raha thaa..aur jis tarh se vo didi ke

jangho ko sahla raha thaa didi bhie thoda thoda bahakne lagii thi ..ab

didi ke hatho ne uncle ke hatho ko pakada too hua thaaa par wo unko

rook nahi rahi thi

"teri umr kya hai.."

"jii..teeishhhhhh…23" Anjali didi kappti awaj me boli.

"kise ne tujhe pahle chodaa hai…" uncle didi ki gardan par aayeee

paseno ko apne khurdurii jeeb se chat taa hua bola. Uncle ki kurdure

jib apne garden par lagtee hi didi ke badan ne ek jhtaka khaaya..aur

didi ki ankhi iss anokhie maje ke anand me band hone lagii.

"bola salii…chudii hai kise se pahle….vaise tujhe dekh kar lagta nahi

ki tuu abhi taak chudaii se bachie hogi..."

"Aaaaahhhh…nahi me kawarii hoo…"Didi apne band akho ko aur jyaada ban

karte hue jawab diyaa.

Uncle ko to mano kuber ka khazana mil gaya jab didi ne bataaya ki wo

abhi kawari hai.wo jaldi khada huaa aur fatafat apne lungi khol ek

tarf phiek dee woo ab pura nanga didi ke samne khada tha didi abhi bhi

charpai par btahi thi. Uska Lund rook rook kar jhatke khaa raha thaa

..ye dekh mera halak sukhh gaya thaa too app samjh sakte hai ki didi

ki kya halat hue hojii. lund kafi bada lag raha thaa ..

"hath me le isee.." uncle ko dobara nahi bolna pada aur naa chahte hue

bhi didi ka hath apne app uss vishal lund par chala gaya. Aur kyoo naa

jata isse ko to vo apne room se chupke chupke dekh kar apne badan ko

sahlaate thi..

Didi ke thande naaraam naaraam hatho ko sparsh pakar lund ne ek joor

ka jhatka mara. Aur uncle ke muh se niklaa "aaa.hhh…Sali…kya naaraam

hath hai teree..randii…ahh."

Appni badi bahan ko us unjan bhudee addmi ka lund is tarah se hilaate

dekh mujhse contol nahi huaa aur maine bhi appna lund pant kaa jippar

khol bahar nikal leyaa aur muth marnee lagaa..

Tabhi mer kismet ne mujhe phir se dhokaa diyaa..aur uncle ne didi ko

charpai se uthaa kar ek tarf khade kyaa..wo pata nahi kya karna chaa

raha thaa.phit vo jhuka aur charpai koi waha se uthane lagaa..maine

dekha ki didi ki ankho me mano nasha fela hua thaa..wo lagatar uncle

ke tango me lataktee lund ko bina palke band kya dekhtee hi ja rahi

thi..shaayad didi ne pahle baar lund itna pass dekha thaaa..kuch is

minute baad uncle ne khaat jhuggii ( room ) ke dusare tarf wale hisse

be bhiecha de aur phir wo didi ka hath pakad unhi use hisse me le

gaya…ab mujhe kuch bhi najar nahi aa raha thaa..mujhe apne kismat par

gusaa anee lagaa…itna achcha moka mere hath laga thaa..me ye soch hi

raha thaa ki tabhi mujhe ..charpai ki jor jor se hilne ke awaj anee

lagee…Chhhar…chaar..chaar" aur beech beech me didi ki siskya bhi anee

lagee…"Ahhhhh…

isshhhhhhhhhhhhhh…."

Kya uncle didi ki chudaayee karne laga hai..ye sochte hi bechain hone

legaa..me phata phat appna lund wapas apne pant me daala..aur koi

jagah andar dekne ke leye thundnee lagaa…

Phir tabhi mere kismaat dobara khule aur maine dekha ki didi bhagti

hue dobara jhugii ke use hisse me aa gaya jaha wo pahle thi…unhone

apne dono hatho se apne safeed chudidar pajamii pakkdi hue thi.necchi

latakta hua nada se bata raha thaa ki didi ki pagami khule hue hai….

"Nahie me ye saab nahi karwaungiii..plzzz….chod do mujhe..uncle..appko

pasie chahye to wo le loo….plz mere zingdagi mut burbaad karoo" didi

ki ankho me ab asoo aa chuke thi..tabhi dusaree tarf se uncle bahar

aayaa …uncle ki aankhe hawas ke nase se lala ho rahi hie..

"Sali…thode deer pahle to bade maje se karwa rahi thi..ab kya hua

tujhe ..tujhe lagta hai ki me tere jaisa kora aur jawan mall bina

chode jane dungaa…" Uncle didi ke taraf badhte hue bola..didi dhire

dhire peeche hone lagi aur vo shitaan ajee badhne lagaa…Didi ki aisee

halat dekh main soch me pad gaya ki aaj ki tareekh me ladki hona kitna

bada gunaah hai aur upar se agar ladki didi jaisee khubsurat ho to kya

kahana…..

Phir maine dobara undhir chaltee hawas ke nange naach par appna dhyaan

kendarit kyaa .aur jo maine dekha use mera hath dobara mere lund par

chala gaya …Didi dewar se saate khade thi aur uncle ka ek hath suit ke

upparse unke left chochii ko daba raha thaa aur dusare hath se vo didi

ki pajami ke andar hath dalne ki koshish kar rahi thi….

"bahnchod …kyaa..mulaayaam chuchie haai tere ranii.aaj taak maine

Itnie chochiya dabaaya par tere jasie kadak aur mulaayam chuchi kise

ke naa thi .i…." Wo didi ki chochiya dabata hua bola..

Udhir didi apne pure takkat ke sath apne pajami me gusnee ki koshis

karte uncle ke hatho ko rook rahi thi..jaab unko laga ke vo uncle ke

hath ko nahi rook paayegee tab wo achanak dewar ki tarff mudd

gayee….ab didi ki peth uncle aur mere tarf thi…

"mujhe chatpatati ladkya bahut pasand hai..Sali ..kuteyaa aaj to me

teri chut ko chod chod kar bosda bana dungaa…" wo bhuda uncle phir

pechhi se hi didi se lipat gaya aur appna dono hatho se didi ko apne

giraft me le leyaa…Didi ke ab aise halt dekh mujhe un par dya bhi aa

rahi thii…par mere andar peda ho chuki hawas mujhe yee sab dekne ke

leyuee uksaa rahi thi..tabhi ek hi jhatki me uncle ne didi ki pajami

ko apne anubhavii hattho se sarka kar nechi kar diya aur phir neechi

beth kar didi ke gore gore chutaad par chaadi hari (green ) kachie

(Panty ) dekh ne lagaa…usnee phir kaachi par halka sa kiss kya aur

apne dono hatho se kachchi ke uppar se didi ke chotadoo ko maslnee

lagaa..phir ek jhatke me didi ki harii kachi ko usne nechi sarka

diyaa..ab chudaad pure nagee ho chuke thi…didi ke chudaat to blue film

wale ladkyo se bhi achchi thi ek dam gol aur sudol..ubhre huee bahar

ki tarf neikle huee didi ke chutaad dekh mera lund pagal ho gaya thaa

to app soch hi sakte hai ki uncle ka kya haal hua hogaa kyonki didi to

unki pass hi khadee thi.phir bina koi vakat gawaayee uncle ne apne

ganda sa muhh didi ke gore gore chutado me guusa diyaa aur wo unhi

chatne lagaa..Uncle ke khurduri jib, muh par aaye daddi (beard) aur

unke muh se aate gaaraam garm sasoo ko meshssos kar didi ke muh se na

chakar bhi ek siskarii nikal gyaaee

…"Aaaa..issssssssssh….ma….issshhh…" didi ke leye ye ek naaya anubhav

thaa aur unke chutad apne app uncle ke jibh ka saparsh pane ke

leyee..uncle ke muuh me gusane ki jadoojahad karne lagee..uncle ki

jiibh didi ke chutadoo ke dararo me uppar se nechi unki choot taak gum

gum kar appna kamal dekhane lagii…ab didi ki akhi masti me phir se

band hone lagi thi aur unhone pratiroodth band kar diya thaa..didi ki

kawari chut chat chat kar uska raas peete hi uncle josh se bhar gaya

…ladki ab uskee kabuu me dobara aa gaye thi…is bar usne samay gawane

ki kooshis naa ki aur khada hokar usne appna tana hua loda ab taak

jhook chuki Anjali didi ki chut (pussy) par rakh diyaa..ye socch kar

ki ab too didi koi koi chudne se nahi bachaa pahyegaaa…tabhi mujhe

lagaa koi mere alawa bhi shaayad koi aur yee sab dekh raha hai..vo jo

koi bhi thaa wo bund darwaje se andar jhaak raha thaa..kyonki darwaja

thoda thoda hil raha thaa.( mano ki koye bada utsuk thaa andar dekne

ke leyee ) .par .mere lund taav me aa gaya aur

..''''faacchh..faachh..mere lund ne pani chod diyaa..itna teej orgasm

mujhe pahle kabhi nahi hua thaa….mere tange kaap rahi thi. Tabhi faat

ki jor se awaj hue aur men dekha ki uncle jamin par behosh pada

hai..uskaa saar khon se ladthpath hai…aur didi ke hath me ek tooti

kach ki bottle hai….

Hua ye thaa ki jaise hi uncle appna lund didi ki chut me dalne wala

thi tabhi didi ke hath side me rakhi sharb ki bottle par aa gaya aur

unhone wo bottle uncle ke saar par dee marii thii…Didi fatfat apne

pajami pahnee lagii…me bhi ab vakaaye me ghabra gay thaa..so me bhi

apne chuppi hui jagah se bahar agaya aur didi ki tarf bhada. Me jaise

hi jhugii ke gaate par pahuchaa..didi bahar aa rahi thi phrt vo mer

pass aaye aur boli Anuj zaldi chaal yah se…maine kuch aur nahi poccha

aur phir fatafat ham waha se nikal kar apne ghar aa gayee..par ghar

aate aate bhi mere demaag me ek sawla chall rah thaa..ki..akhair wo

kon thaa jo darwaje se undhir jhaak kar yee sab dekh rah thaa….

"are Anjali tumhra serway kaisa rah aaj" Chacha ji roote ka tukda

todaate hue bole. Ham sab raat ka khane kha rahi thi.

"Jii…ji achcha thaa" Didi haklati jabaan se boli.

"are beta tum Itni pareshan kyoo lag rahi ho..tabeyaat to thik hai na

tumhrai' Chachi ji didi ki tarf dekhte hue bole.

"Han..hanjiii..papa..ji.. bus mujhe thoda saa sar me dard hai" didi

najre neechi kkarte hue boli.

" aur tumhri garden par yee nishan kaisaa hai" Chacha ji didi ki

garden ke neechil hisse par pade nishan ki tarf ishara karte hue bole.

App log to ab samjh hi gaye honji ke wo nishan kissne didi ko diya

thaaa. Didi to mano suun hi paad gaye thi.

"ji wo aaa…waha kafe gundagi thii ise wajah se koi keda kaat gaya

thaa" Didi nishan ko apne hatho se chupta hu boli.

Me yee ssab chup chaap dekh raha tha aur khana kha raha thaa.

" bhai. maine yee bhi suna hai tumhre chote bhai ne tumhari bahut

madad ki aaj serway me ' chahch ji muskuraate hue mere tarf dekhte hue

bol rahi thi.

"Ha.. bahut mudad ki maine ..us sharbi gande bhudee ko apne jawan

bahan thali me paroos kar daay dee thi aaj…balatkaar hota hota bachaa

thaa aaj didi kaa.."…Maine mun mun me apne app se kaha.aur phir mai

halka sa muskura diyaa. Didi soup petee pete mujhe dekh rahi thi.

Manoo ki jaan naa chahte ho ki me kyaa jawab dungaa..

"papa mere sar me bahut dar ho raha hai mer dawaaye le kar sone jaa

rahi hu" Didi napkin se appna hath pochhte hue boli aur uthi kar uppar

room me chale gayee

Kuch deer baad me bhi sonne ke leye room me aa gayaa.

"Anuj tujse ek bat pocho..pls sach sach batana" didi ki awaj mere kano me aaye.

Room ke lights band thi aur raat ke shaayad 11 baag rahi thi. Me dar

gaya aur sochne laga kahie didi jante to nahi hai ki maine unka woo

nanga naach dekha hai.

"Ahh..ha haji didi pocho" me jhijhakte hua bola.

"Tune Itni deer kyo lagaye thi waha anee me..aur tu kab wapas aaya

thaa" Didi bhi thoda hitchakte hue boli

"me tabhi tabhi hi aayaa thaa didi"maine faatak se jawab diyaa.

"par tere pas cold drink to nahi thi" didi boli

Ab me fas gaya ….maine apne app se kaha . par phir maine samay ki

gambhirta ko samjhte hue jawab diyaa " Didi sabhi dukane baand thi

..me bahut ghuma par kahi bhi cold drink nahi mile thi. So khale haath

wapas aa gaya ."

Didi ko ab shaayad yakin ho gaya thaa ki maine wo saab nahi dekha thaa

kyonki phir dobara unhone koi sawal na kyaa. Aur Diin ki baat yaad

karte karte mujhe na janee kaab neend aa gaye pata hi naa chala.

kramashah.......................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: अंजाना रास्ता

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 09:39

अंजाना रास्ता --6

गतान्क से आगे................

अगली सुबह मेरी आँख 9 बजे खुली.मैं बेड पर उठ कर बैठा ही था कि मेरी नज़र

दीदी के बॅड पर पड़े न्यूज़ पेपर पर गयी..हालाकी मैं ज़्यादा न्यूज़ पेपर

पढ़ने का शॉकिन नही था पर फिर भी ना जाने क्यो आज मेरा मन पेपर पढ़ने का

होने लगा. मैं उठा और पेपर लेने के लिए दीदी के बिस्तर की तरफ़ गया और

जैसे ही मैने पेपर की हाइडलाइन पढ़ी तो मेरा सर चकरा गया… मुझे लगा कि

जैसे मैं बेहोश हो जाउंगा.. न्यूज़ पेपर की हाइडलाइन थी " दिन दहाड़े एक

बुढ्ढे आदमी की हत्या.." साथ मे एक फोटो भी छपी हुई थी. फोटो देखते ही

मैं समझ गया कि ये वोही अंकल था जिसके साथ हम कल थे..फिर मैने अख़बार वही

फेक नीचे डाइनिंग रूम की तरफ़ बढ़ चला . और जैसा मैने एक्सपेक्ट किया था

अंजलि दीदी टी.वी मे आती न्यूज़ को बड़े गोर से देख रही थी..उनके

खूबसुर्रत चेहरे का रंग उड़ा हुआ था और पसीने की हल्की हल्की बूंदे उनके

चेहरे पर आई हुई थी..मैं भी दीदी के पास बैठ गया..दीदी तो मानो रोने ही

वाली थी…

"अ..अनुज ये क्या होगया..मैने एक खून कर दिया…" दीदी मेरी तरफ़ देखते हुए बोली

"छ्ह्ह…ऐसे मत बोलो आप.." मैं दीदी के पास सोफे पर बैठता हुआ बोला.

अंजलि दीदी बहुत इमोशनल हो गयी थी.

'अनुज मुझे बहुत डर लग रहा है" दीदी मेरी तरफ़ झुकते हुए बोली मानो कह

रही हो कि मुझे अपनी बाँहो मे ले लो. और मैं ऐसा सुनेहरा मौका कैसे हाथ

से जाने देता.मैने भी अपनी बाँहे खोल डी ..अब अंजलि दीदी मेरी बाहो मे

थी. हालाकी मैं सेक्षुयली एग्ज़ाइटेड नही होना चाह रहा था.पर ऐसा मौका भी

तो बार बार नही आता दीदी अपने नाइट ड्रेस मे ही थी ( लूज़ टी-शर्ट और

पाजामा ) बालो का जुड़ा बना हुआ था.पर मन पर किसका ज़ोर चलता है दीदी के

बदन की गर्मी महसूस करते ही मेरे दिमाग़ मे कल वाला सीन दौड़ गया और मैने

थोड़ी सी हिम्मत कर कर अपना उल्टा हाथ फेलाकर दीदी की पीठ (बेक) पर रख

दिया. मेरा हाथ काप रहा था..पर दीदी को तो मानो कुछ होश ही ना था उनकी

नज़र अब भी टीवी स्क्रीन पर ही थी..मेरा जोश बढ़ने लगा ..मेरे अंदर छुपा

शैतान मुझे बार बार बोल रहा था कि "अनुज तुझे ऐसा मौका दोबारा नही

मिलेगा..फ़ायदा उठा ले इसका…" पर जैसे कि सिक्के के दो पहलू होते है उस

तरह मेरे अंदर भी एक अच्छी आत्मा थी वो मुझे बोल रही थी " नही..ये सब

ग़लत है..ये तेरी बड़ी बहन है..और तेरी बहन कितनी परेशान है ..क्या तू

मदद करने के बजाय उसकी मजबूरी का फ़ायदा उठाएगा " .कुछ मिनिट्स तक मेरे

दिमाग़ मे कस्माकस होती रही.

और जैसा हर बार होता था शैतान जीत गया और मेरी हवस मुझ पर हावी हो

गयी.मैने धीरे से अपना हाथ दीदी की टी-शर्ट के उपर से उनकी पीठ पर फेरना

शुरू कर दिया. इस हरकत का सीधा असर मेरे लंड पर पड़ा और वो खड़ा होने लगा

. मैं अब दीदी की ब्रा स्ट्रॅप्स को उनकी टी-शर्ट्स के उपर से फील कर

सकता था. दीदी का ध्यान तो टीवी पर आ रही न्यूज़ पर था पर अगर कोई तीसरा

आदमी ये सब देख लेता तो उसको पूरा यकीन हो जाता के मैं जिस तरह से दीदी

की कमर को सहला रहा हू उसका मतलब क्या है. सो मैने दीदी से पूछा " चाची

जी नज़र नही आ रही "

"वो..पड़ोस वाली शर्मा आंटी के यहा गयी है..अगले हफ्ते उनके यहा शादी है

ना.." दीदी बोली

अब जब मुझे पता चल गया था कि दीदी और मैं अकेले है तो मेरी हिम्मत बढ़ने

लगी..दीदी का सर मेरे सीने पर रखा हुआ था ..तो मैने अपना मूह थोड़ा नीचे

किया और उनके बालो से आती खुसबु को सूंघने लगा…मेरा राइट हॅंड जो कि दीदी

के बॅक पर था वो अब उनकी लोवर बेक तक पहूच चुका था..दीदी का ध्यान तो

टीवी पर केंद्रित था पर उनका बदन मेरे हाथ की हरकत बखूबी समझ रहा

था..इसका पता मुझे तब लगा जब लोवर बेक से मैने दीदी की टी-शर्ट के छोर (

कॉर्नर) को थोड़ा उठा या और अपना हाथ उनकी नंगी कमर पर रखा. एक हाइ टच मे

दीदी का बदन थोड़ा आकड़ा और उन्होने हल्का सा झटका खाया.मैं डर गया और

मुझे लगा कि शायद अब मेरी चोरी पकड़ी जाएगी पर ऐसा कुछ ना हुआ दीदी थोड़ा

कसमासाई और दोबारा मेरे सीने पर सर रख कर टीवी देखने लगी..इसी दौरान मेरे

हाथ की कोहनी पर मुझे कुछ बहुत नरम नरम महसूस होने लगा. मानो कि कोई

स्पंज मेरी कोहनी से लगा हो. मैने चुपके से नज़रे नीची की तो देखा कि

दीदी की लेफ्ट चूची मेरी कोहनी से लग गयी है..दोस्तो अब आप खुद ही इमॅजिन

कर सकते है मेरी हालत को …ये पहली बार था जब मैने अंजलि दीदी की चूचियो

की नर्माहट महसूस की थी..मैं अब होश और हवास खोने लगा था..दिल कर रहा था

अभी दीदी को अपने बाहो मे कस लू और उनकी इन मदमस्त चुचियो को दबा दबा कर

उनसे रस निकाल लू और फिर उस रस को पी जाऊ. पर दोस्तो आपको तो पता ही है

मेरी किस्मत तो गधे( डोंकी ) के लंड से लिखी है..बेहन की लोदी हमेशा एन

मोके पर धोका दे देती है.

"टिंग टॉंग" दरवाजे की घंटी बज गयी.

दीदी को एकदम से झटका सा लगा और वो फॉरन मुझसे अलग होने के लिए उठी..पर

किसी ने सही कहा है कि बंद घड़ी (क्लॉक) भी दिन मे एक बार सही टाइम बताती

है सो उठते हुए अचानक ही दीदी का हाथ मेरे पाजामे मे खड़े लंड पर लग गया

उनको तो पता नही पर मुझे वो स्प्रश कमौतेजित कर गया.

चाची घर आ गयी थी.

"ये क्या सुबह सुबह मर्डर की ख़बरे सुन रहे हो…..कुछ और काम नही है तुम

भाई बेहन के पास….जब से तुम लोगो की छुट्टियाँ (हॉलिडेज़) पड़ी है ..सारा

दिन टीवी ही देखते रहते हो" चाची सोफे पर बैठते हुए बोली

दीदी किचिन से पानी का ग्लास ले आई थी चाची के लिए. तभी न्यूज़ रिपोर्टर

ने बोला कि खून की वजह धार दार चाकू है . चाकू दिल के आरपार होने की वजह

से ही मौत हुई है" ये न्यूज़ सुनते ही अंजलि दीदी के आँखे चमक उठी थी..और

एक हल्की सी मुस्कुराहट उनके खूबसुर्रत चेहरे पर आ गयी थी. पर इस हादसे

की वजह से दीदी अब काफ़ी चोकस हो गयी थी .जिस खिड़की की वजह से दीदी बहक

गयी थी अब दीदी उस खिड़की को कभी नही खोलती थी चाहे कितनी ही गर्मी हो…और

इसका रीज़न मैं अच्छी से समझता था.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: अंजाना रास्ता

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 09:40

अगले दो दिन नॉर्मल रहे और कुछ ख़ास्स नही हुआ..तीसरे दिन मैं स्कूल से

घर आया तो मुझे किसी के ज़ोर ज़ोर से हस्ने की आवाज़ आई. आवाज़ उपर रूम

से आ रही थी..मैं उपर जाने लगा . रूम मे पहूच कर मैने देखा की चाची ,

दीदी और रेखा भाभी रूम मे बैठी है और किसी बात पर हसी मज़ाक चल रहा है.

रेखा भाभी हमारे पड़ोस मे ही रहती थी. रूप रंग उनका भी कुछ कम ना था उनकी

उम्र 30-32 के आस पास होगी. उनके पति जतिन किसी MणC कंपनी मे काम करते थे

और अक्सर वो काम के सिलसिले मे बाहर जाते रहते थे. मैने रेखा भाभी के

बारे मे कुछ बाते सुनी थी कि उनका चाल चलन अच्छा नही है पर मुझे ऐसा कुछ

नही लगता था क्योंकि वो मुझसे बड़े अच्छे से बात करती थी और कभी कभी हसी

मज़ाक भी कर लेती थी. उनके रूप रंग को देख कई औरते उनसे जलती थी शायद

उन्होने ही ये अफवाह फैलाई थी. खैर हमारे घर पर कोई भी इन अफवाहॉ पर

ध्यान नही देता था सो हमारे घर भाभी का आना जाना लगा ही रहता था.

"आओ जी मिस्टर शर्मीले कैसे हो…" रेखा भाभी मुझे चिड़ाते हुए बोली.

अब तीन्नो लोग मेरी तरफ़ देख कर हस्ने लगे. मैं शर्मा गया और अपना स्कूल

बॅग अपने बॅड पर रखने लगा..

"भाभी आप मेरे भाई को ऐसे मत चिड़ाया करो…देखो उसका मूह टमाटर की तारह

लाल हो गया है " दीदी मुस्कुराते हुए मेरी वकालत करते हुए बोली.

"ओह..हो क्या प्यार है भाई बेहन का..देखो जी कही मेरी नज़र ना लग जाय"

रेखा भाभी अपने आँखे मतकाते हुए बोली.

"अरे भाई मैं चलती हू ….. अनुज का खाना लगा दो..बेचारा कितना भूका लग रहा

है…." चाची वाहा से उठती हुई बोली.

फिर चाची नीचे चली गयी और मैं भी नीचे बाथरूम मे फ्रेश होने के लिए चला

गया. मैं खाना खा रहा था . दीदी और भाभी उप्पर रूम मे ही थी. तभी चाची

मेरे पास आई और मेरे सर को प्यारसे सहलाते हुए बोली .."बेटा अनुज मैं

शर्मा आंटी के साथ शॉपिंग पर जा रही हू..उनकी बेटी की शादी है ना अगले

हफ्ते" फिर चाची चली गयी. मैं खाना खाकर टीवी देखने लगा फिर तकरीबान 10

मिनट बाद ब्रेक हुआ तो मुझे याद आया कि मुझे कुछ नोट्स की फोटोकॉपी कराना

है सो मैं फटा फॅट उपर रूम की तरफ़ बढ़ चला. रूम का दरवाजा थोड़ा झुका

हुआ था. रूम से आती धीमी धीमी आवाजो ने मेरा ध्यान खिचा

"अरे उसका बहुत लंबा है.." भाभी की आवाज़ मेरे कानो मे पड़ी.

"सच मे …कितना ..लंबा हाई" दीदी की आवाज़ धीरे से आई.

अब मैं वही रुक गया और कान लगाकर कर सुनने लगा.

"तेरी कभी थुकाइ हुई है .." भाभी दीदी की तरफ़ देखते हुए बोली

. "थुकाइ …कहा पर " दीदी कन्फ्यूज़ होती बोली

तभी रेखा भाभी मुस्कुराइ और उन्होने पाजामी के उपर से दीदी की चूत को

अपने हाथो से दबा दिया और बोली " यहा पर "

दीदी को तो मानो करेंट लग गया अपनी इज़्ज़त पर इसतरह से हमला होते देख वो

सकपका गयी और भाभी का हाथ अपनी चूत से हटाती हुई बोली " क्या करती हो

भाभी….नीचे मम्मी और अनुज है"

"अरे नीचे ही तो है ना …तू डरती बहुत है..अरी मैं जब तेरी उम्र की थी तो

मुहल्ले के सारे मर्दो का लंड खड़ा करवा कर रखती थी. इतनी भरी जवानी को

ऐसे मत बर्बाद कर अंजलि…"

"अच्छा अपनी फिगर बता तू.." भाभी अपने सूट पर से चुननी को हटा साइड मे

रखते हुए बोली.

"जी..34-26-36…" दीदी बोली

"वाह वाह…तुझे मेरी फिगर पता है क्या है…." भाभी बोली

"जीई..नही..और मुझे जाननी भी नही है.." दीदी थोड़ा घबराती हुई बोली

"अरे तू डरती क्यू है मैं तेरी बड़ी बहन की तरह हू…मुझसे तू बाते शेर नही

करेगी तो किससे करेगी पग्ली.."रेखा भाभी दीदी को कन्विन्स करने के कोशिश

करते हुए बोली. मुझसे अब रहा नही जा रहा था और मैने अंदर झाँकना शुरू कर

दिया था साइड से चुपके चुप्पके. रेखा भाभी और अंजलि दीदी आमने सामने बैठी

थी बेड पर .

"तेरे इन्न आमो को किसी ने दबा दबा कर इनका रस पीया है क्या" भाभी ने

अपने दोनो हाथो को टी-सीर्ट के उप्पर से दीदी की तन्नी हुई दोनो चुचियो

पर रख दिया . घबराहट और शर्म से अपने आप ही दीदी के दोनो हाथ अपने खाजने

की रक्षा करने के लिए उठ गये और दीदी ने भाभी का हाथ पक्कड़ लिया..

"अब ये मत बोलना कि तूने इनको अभी तक नही मसलवाया है" भाभी ताना सा मारते हुए बोली.

दीदी को शायद अब जलन होने लगी थी रेखा भाभी की इस बात पर और उनके दिमाग़

मे वो बॅंक वाली और उस बुढ्ढे अंकल वाली बात आ गयी. पर वो ये बात भाभी को

कैसे बताती सो कसमसाकर चुप हो गयी. रेखा भाभी के हाथ अब भी अंजलि दीदी की

दोनो चूचियो पर रखे थे.

"चल कोई बात नही मैं तो हू ना तेरी हिल्प के लिए" और भाभी ने दीदी की

चुचियो को टी-शर्ट के उप्पर से सहलाना शुरू कर दिया. दीदी का गोरा चेहरा

फिर से लाल पड़ने लगा था. हलाकी दूसरी लड़की का हाथ अपने बदन पर ईस्तरह

से चलते देख उनको बड़ा आजीब लग रहा था पर इस से मस्ती की जो लहर पैदा हो

रही थी वो सीधा उनकी टाँगो के बीच छिपी उनकी योनि मे खलबली मचाने लगी थी.

"भाभी..बस करो…नीचे सब है…आहह.इसस्स्शह..…" दीदी की आँखे तो मस्ती मे बंद

होने लगी थी पर उनका दिमाग़ उनको बार बार ये बता रहा था कि वो लोग अकेले

नही है.

"रुक मैं दरवाजा बंद करते हू" भाभी बेड से उठती हुई बोली.

मुझमे भी मस्ती छाने लगी थी और इस मस्ती की खुमारी थोड़ी अलग थी क्योंकि

इस बार दीदी के साथ कोई आदमी ना होकर एक औरत थी..रूम का दरवाजा बंद हो

गया..पर वो कहते है ना जहा चाह वाहा राह..मुझे भी अंदर देखने के लिए के

होल मिल गया था.मैने फटाफट अपना लंड बाहर निकाला और उस पर अपना हाथ

फिराते हुए अंदर झाँकने लगा…अंदर का सीन देखते ही मेरा आधा खड़ा लंड पूरा

खड़ा हो गया..भाभी ने दीदी के दोनो हाथ अपने खरबूजे के आकार वाली चूचियो

पर रखे हुए थे और खुद के हाथ दीदी के आम के आकार वाली चुचियो पर..

"दबा इन्हे.." भाभी बोली

"ये कितनी बड़ी और नरम है भाभी" दीदी भाभी की चूचियो को दबाती हुई बोली

"अरे इन पर ही तो आदमी लोग मरते है ….औरत के बदन पर यही तो आदमी को सबसे

ज़्यादा उत्तेजित करती है " भाभी दीदी की अब तक मस्ती मे आकर फूल चुकी

चूचियो को थोड़ा ज़ोर से दबाते हुए बोली

"आपके पति तो बाहर रहते है…तो….एयेए..आप…" दीदी शायद कुछ बोलन चाहती थी

पर चूप हो गयी.

"शर्मा मत ….तो मैं किस से चुदवाती हू…यही पूछना चाहती है ना तू.." भाभी

के चेहरे पर हवस की मस्ती छाने लगी थी.

चुदाई का नाम सुनते ही दीदी के बदन मे एक झुरजुरी सी हुई..और उनकी चूत

पन्याने लगी..

"हा जीई…" दीदी शरमाती हुई बोली

"देख किसी को बताना मत.. वो हमारी गली के कोने मे जो बिजली की दुक्कान है

ना....जो आदमी वाहा बैठता है…क्या नाम है उसका….हा …जावेद…उससे करवाती

हू…साला बहुत लाइन मारता था मुझ पर…" भाभी बोली

"क्याअ…पर .पर वो तो मुस्लिम है…और आप ब्रामिन" दीदी चोकते हुए बोली.

"अरे पगली तुझे क्या पता ..अरे मुस्लिम आदमी का लंड बहुत तगड़ा होता

है…बड़ा मस्त कर कर चुदाई करते है वो... " और भाभी ने इसी के साथ अपना एक

हाथ नीचे कर अंजलि दीदी के पाजामे मे छुपी चूत पर रख दिया और धीरे धीरे

वो उसको सहलाने लगी. दीदी की फिर से आँख बंद हो चुकी थी और अचानक ही उनके

मूह से निकल गया.."कितना लंबा है जावेद का….."

दीदी की ये बात सुनते ही रेखा भाभी के चेहरे पर मुस्कान आ गयी थी और

उन्होने अपना हाथ जो कि दीदी की चूत के साथ खेल रहा था पाजामे के उप्पर

से अपनी मुथि मे कस कर पकड़ लिया और बोली "पूरा गधे (डोंकी) के जितना है

…9 इंच का ".

क्रमशः.......................