अमेरिका रिटर्न बंदा compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: अमेरिका रिटर्न बंदा

Unread post by raj.. » 14 Dec 2014 04:31



AMERICA RETURN BANDA--2

gataank se aage…………………………..
"uhhh, ppllllllllzzz. bhaaii" "chumma liye bagair to naheen jaane doonga" kahte huye Pankaj jhuka or uske honTon ko choom liya. "bolo! de rahi ho chumma, ya yoon hi haath phairta rahoon apni sexy bahan ke badan par, " "aapppp ne le to liya" Priya ki nigaahain jhuki ja rahi thee. airport ka chumma to bhai ke pyaar jataane ka tarika tha lekin yah chumma uski zind'gee ka pahla chumma tha or woh uski sar'saraahaT ko mahsoos kar rahi thee. woh na chaahte huye bhi ise enjoy kar rahi thee. . "yah bhi koi chumma tha. chumma to woh hoga jo tum khud apni marzi se dogi or main jab tak jaam khaalee na kar doon in labon ko chhoRne waala to naheen" shararat se kahte huye doosra haath bhi daraar se uTha kar chuttaRon par rakha or dono haathon se tight squeeze di. Priya ne nikalti siskaari ko honTh daba-kar roka or kuchh kahne ki koshish ki lekin Pankaj ne phir baadha dee. "pyaaree bahna! de do warna yoonhi haath phairta rahoonga or jahaan dil chaaha chumma bhi karoonga, " yah kahte huye ek kaatilaana muskurahat Pankaj ke cheh're par saj gayee thee aur ek haath chuttaR se haTa kar saam'ne ki taraf laaya or seedha aage se dono taangon ke beech main pahooncha diya. apni choot ko bachaane ke liye Priya kuchh bhi na kar paayee siwaye ouch kahne ke. Priya ne peechhe haT'na chaaha par peechhe deewar hi thee. jaatee kahaan so kas masa kar rah gayee. use is khail main ab maza aane laga tha lekin saath saath Dar bhi lag raha tha ke koi aana nikle yahaan. "theekkk hai. sirf ek, " hole se sharmaate huye kaha, "good. yah huyee na baat!!" kahte huye Pankaj ne apne dono haathon ke pyaale main Priya ka cheh'ra thaam liya or uske honTon par jhuk gaya. Pankaj ap'nee bahan ke mastaane honThon ko na jaane kit'nee der choos'ta raha. Priya ne bhee aankhen band kar lee thee. Phir achaanak Priya haR'baRa ke Pankaj se haTee aur bhaag kar ap'ne kam're men chalee gai. Is ghaT'na ke baad Priya Pankaj ke saam'ne akelee paR'ne se kat'raane lagee.
Kuchh din phir yoonhee beet gaye. Par Priya ke saath jo bhee Pankaj ne kiya tha us'se us'kee himmat aur baDh gayee. Ek din Pankaj jaise hi apne bedroom ka darwaza khol kar andar ghusa Nita ko andar hi pa kar apni aankhain gol gol ghumaane laga. Nita bed par jhuki jhuki Pankaj ke suit case ko khaalee kar rahi thee. use yah ahsaas hi na ho saka ke uska America men big'Ra huwa devar andar aan pahooncha hai. Pankaj kuchh der khaRa khaRa ap'nee mast bhaabhee kee suDol gaanD ka nayan sukh leta raha. Phir wah apne kadam bhaabhee kee or baDhaane laga. bazaahir to Nita suit case se kap'Re nikaalne main hi magan thee lekin uska zehan Pankaj main hi khoya huwa tha aur honTon par halki si muskurahat jami huyee thee. chuttaRon or choochiyon par Pankaj ke haath ki shaitaaniyat uske dil ko gud gudaaye de rahi thee or isi doraan Pankaj uske peechhe aa khaRa huwa or use pata hi na chala ke kab Pankaj kam're main andar aaya or kab uske peechhe aakar khaRa ho gaya. jhukne ki wajah se Nita ki gaanD kuchh aage ko baahar nikal aayee thee aur yah dekh kar Pankaj ke haath be-qaaboo se ho gaye or seedhe haath se phoole huye chutaaRon par ek dhup si raseed kar dee or Nita sahmi huyee aawaaz ke saath uchhal si pari. aur haD'baDa kar jaise hi palti Pankaj ko apne saam'ne pa kar uske haathon ke tote uR gaye. aakhir himmat baTor ke us'ne kaha,"yahaan kyon aaye ho, baahar jao. abhi main kaam kar rahee hoon. " "nope!!! main naheen jaoonga, yahin baiTha hoon aap apni safaayee jaari rakhiye" shararat se Pankaj ne kaha or Nita ki side se nikal kar waheen bistar par seedha leT gaya or shara'rat se Nita ko dekhte huye seeti bajaane laga. Achaanak Pankaj ek dum se uTha or lapak kar darwaza band kar diya. "yah kya bad-tameezi hai or abhi tum ne yah peechhe se kya kiya tha" jhoot moot ka gussa dikhaate huye Nita ne kaha, "bad-tameezi?, bad-tameezi kahaan thee. meree mastaanee bhabhi, maine to pyaar kiya tha. " Pankaj ne daant nikaale or kadam Nita ki taraf baDhaana shuru kar diye, "dekho!!! bad-tameezi ki naheen ho rahi hai, haan, sharaafat se yahaan bagal men baiTh jao main tumhare suit case se kapde nikaal kar hanger main set kar detee hoon." bokhlaate huye Nita ne peechhe khisakna shuru kiya. "ok, ok, baiTh jaata hoon bhai side pe. Dar kyon rahi hain. " yah kahte huye Pankaj suit case ke bara bar main hi baiTh gaya.

"thora udhar ho kar baiTho ya wahan chair par ja kar baiTho, " mun-munaate huye Nita ne kaha. "ab har baat naheen manoonga bhabhi waise bhi aap ne kuchh dikhaane ka kaha tha apni. " apni aankhain Nita ki choot ki taraf focus karte huye kaha, Haay re maine kkab kaha besharam, maaroongi ek haath" Nita ek dum bokhla si gayee."besharam thoRi si bhi lajja naheen aati is tarah se baat karte huye" gussa dikhaate huye woh ek baar phir suit case par jhuk gayee or Pankaj use sir se pair tak kha jaane wali nigahon se ghoorne laga or in nigahoon ki tapish Nita apne poore jisam par mahsoos kar rahi thee aur bokh'lahat main jo kapde nikaal chuki thee; unhe phir suit case main thoonsne lagi or jab ahsaas huwa to jhun'jhala si gayee. "kya hai Pankaj, kaam kyon naheen karne de rahe" gussa dikhaate huye Nita ne seedhe ho kar kaha, "Kuchh dikha den. chala jaoonga, " yah kahte huye Pankaj ne jeebh nikaal di. "besharam, Thah'ro tum ek minute, abhi bataati hoon tumhen" yah kahte huye Nita use jhoot moot maarne ke liye jhuki or Pankaj jaise isee moqe ki talash main tha. ek jhatka hi dena tha or Nita chaaron khaane uski chhaatee par chit thee. Pankaj ka ek haath foran Nita ke chuttaRon par gaya or doosra haath blouse ke khulle hisse par, "kkkkiaa kar rahe ho, chhoRrro, lofer kaheen ke. " ek dum se kas'masaate huye Nita ne ba-mushkil kaha, or Pankaj ki giraft se azaad hone ke liye machalne lagi. kisi chikni machhli ki tarah. Bhaabhee ko haathon se nikalte dekh kar Pankaj ne baanhon main liye liye hi ek karwat li or ab Nita Pankaj ke neeche aachuki thee aur kas'masahat main us'men pahle jaisi jid-o-jahad baakee na rahi. "kuchh naheen karoonga meree garma garam bhabhi, sirf pyaar karoonga or aapki yah raseeli see choot dekhoonga. " saaRee ke oopar se hi choot ko apne lauRe se ragarte huye kaha. lauRe ki chubhan Nita ne bhi foran mahsoos kar li or us par Pankaj ki saaf ishaara kar'tee baatain, jis'se Nita ek dum laal si ho gayee. hat jao haan dewar ji, ab cheekhoongi na to devar ji itne joote parainge na , saaree choo. . . " or ek dum se apni jeebh daanton tale daab li, Pankaj bhi samajh chuka tha ke yah 'choo' sirf choo naheen tha balke choot ki taraf ishara kiya ja raha tha. "cheekhaingi to aap bilkul bhabhi, America main kaafi launDiyon kee lee hai or jise bhi choda woh cheekhti zaroor thee. , " yah kah'te hi Pankaj jhuka or Nita ke dahak'te labon par apne honTh rakh diye or maza hi aagaya, seedhe dono haath apni bhabhi ke joban par the or honTh apni pyaas bujha rahe the. Nita ke andar ek toofaan sa barpa ho raha tha. Pankaj ke haath or honTh dono apna kamal dikha rahe the. "wonderful!! aah bhabhi kya raseele honTh hain aap ke. dil chaahta hai yah jaam peeta hi rahoon" ek haath se unki choochi ko dabaate huye kaha. "ji to dikhayen ab apni pyaaree pyaaree choot." gaalon ko choomte huye Pankaj ne kaha. "besharam na ho to." sharam se laal hote huye Nita sirf yahi kah paayee. "Main kal hi tumhaare bhaiyaa se kkkahti hoon ke tumhare liye koi ladki dekhain, bbbesharrram. aahhhhh, " mummon par Pankaj ke haathon ka dabaav kuchh jyaada baDh gaya to siskaariyon ko Nita rok na paayee.

"huh!!, aap hotee to shadi ka foran haan kar deta, haan albatta aap ki koi bahan ho aap jaisi to most welcome" kahte huye apna ek haath choochi se haTa kar naaf ki taraf le gaya, anghoothe ko naabhee main ghusa kar dabaate huye thoRa neeche ki taraf kheencha to Nita ke honTh O shape main khul se gaye jise Pankaj dekh kar muskura diya. haath ki harkat ko jaaree rakhte huye kuchh aur neeche le gaya. saaRee 2 inch naabhee ke neeche thee aur uskee yah setting munasib naheen lag rahi thee. ek ungli saaRee or pettycoat dono ke konon main ghusa kar haath ke safar ko phir jaaree rakha or naabhee se neeche ki taraf saaRee ko kheencha .
"oh oh, kkkkia , kya karrr rahe hooo yah, hato. " haath haTaane ki koshish ki lekin jis qadar saaRee khich sakti thee, woh khich chuki thee aur is qadar khich chuki thee ki Pankaj agar anghoothe ke sahare saaRee ko thoRa oopar uThaata to choot bilkul neeche hi hoti.
Pankaj jawab main Nita ke honTon par phir jhuk gaya or ek bharpoor choomma liya. Saath hee apne haath ki harkat ko jaaree rakhte huye ek angooTha to saaRee main ghusaye rakha or haath ko balisht naapne ke andaz main shape di. chooke saaRee is qadar neeche thee to woh balisht kuchh is tarah aayee ke poori choot ko occupy kar liya. Nita haath ko haTaane ki nakaam koshish kar rahi thee; chumme ke doraan bhi lekin haath ki shaitaaniyat jaaree thee.
Ab Pankaj sir uTha kar Nita ke poore badan ko bhooki nigahon se dekhne laga. jab ke Nita apni saanson ko kaaboo karne ke saath saath Pankaj ko haTaane ki koshish bhi karne lagi.
"ssshhhh, kuchh naheen sunoonga, choot dekhe bagair naheen jaoonga pyaaree sexy bhabhi jaan" or apne haath ko jo balisht naapne ke andaz main choot par phaila huwa tha woh haath ek dum muthi ki shakal main bana or itni tight squeez di ke Nita khud par kaaboo na rakh saki or donon haathon se Pankaj ke kandhe ko bheench liya.
"ohhhh, ouchhhh." haath kuchh is sthiti main tha ke chaar ungliyaan choot ko neeche se oopar ki taraf bheenchne ki koshish kar rahi thee jab ke angooTha jo ke saaRee main adsa huwa tha woh angle de kar kuchh is tarah shape main aaya ke angooTha jahaan pahansa huwa tha wahaan se saaRee kuchh oopar ko uTh gayee. andar ka nazara kar ke hi Pankaj mast ho gaya or Pankaj ne jhuk kar apne honTh mummon par rakhne chaahe. tabhee Pankaj ki giraft kuchh halki padi or Nita ne Pankaj ko oopar se dhakaila or jaise hi uTh kar bhaagne ki koshish ki Pankaj ne jaldi se Nita ka ek haath pakaR kar ek lahar si jo use di to ghoomti huyee woh apne hi zor main aakar Pankaj ki god main dhum se giri. "oucchhhh!!aah maar Daala.
"kya chheena jhapti lagayee huyee hai bhabhi. kaha na choot dekhe bagair to bilkul bhi naheen jaane doonga" shararat bhare andaz main Pankaj ne kaha. Nita ke seene se saaRee haT chuki thee; ghoomne ke doraan or Pankaj ka ek haath Nita ke baayen mumme par tha jab ke doosra haath se us'ne phir saaRee ko neeche sarkaane ki koshish ki thee. lekin baiThe hone ki wajah se ab woh pahle jitni neeche na ja saki. yah mahsoos kar ke Pankaj ne Nita ki naabhee main apna angooTha or ek ungli Daal di or use mukhtalif tariqon se masal raha tha. kabhi naabhee ke dono cornors angooTha or ungli rakh kar is tarah masal'ta ke gaharee naabhee band see ho jaatee or kabhi apni ungli Daal kar drolling si kar deta.

"chhorrrrroo" apne nazuk haathon se Pankaj ke haathon ki shaitaaniyan rokne ki koshish karte huye Nita mun'munayee. "choot" Pankaj choochee se haath haTa kar saaRee ke oopar se hi choot par rakhte huye kaha or hole hole sahlaane laga. "bilkul naheen" Nita ne sharam se laal hote huye kaha or Pankaj ke haathon ko haTaane ki nakaam koshish jaaree rakhi. "hm to bhabhi aap ko bhi maza aaraha hai is chheR'khaanee main haan, warna ab tak to apni raseeli choot dikha kar jaan chhuRa chuki hoteen" gaalon ko choomte huye Pankaj ne shararat se kaha.
"bad-tameez!!, " Nita buri tarah se sharma gayee. "besharam! tumhare bhai ko paata chala na ke tum mere saath kya kya kar rahe ho or kya maang rahe ho to itni maar lagayenge ke saaree mastiyaan andar rah jaayengi, "ek bharpoor koshish kar ke Nita uThne main kaamyaab huyee thee ki Pankaj ne phir god main gira liya. "are, bhai ko kya problem hogi bhaabhee, jo cheez woh dekh chuke hai main bhi to wahee dekhne ko kah raha hoon" yah kahte huye Pankaj ne apni giraft kuchh halki chhoRi or Nita moqa guneemat jaante huye foran uThi. lekin Pankaj ne giraft halki ki hi isi liye thee ki woh use seduce karna chaah raha tha. jaise hi woh uThi Pankaj bhi uTh khaRa huwa or lapak kar neeche jhukte huye Nita ko apni baanhon main uTha liya. chooke saaRee pahle hi apni jagah se haT kar neeche aan pahoonchi thee so naabhee Pankaj ke honTon ke bilkul saam'ne hi apne joban par thee. Pankaj apne sulagte honTh apni bhabhi ki naaf par hole se abhi rakh hi paya tha ke Nita ko jaise ek current sa laga or ajeeb andaz main nikalne ki koshish ki jis'se sthiti kuchh is tarah bani ki Nita ka peT to honTon se haT gaya lekin nitamb peechhe ko ho kar Pankaj ke haathon ko maza dene lage. Pankaj Nita ko aise hi uThaye huye ghum kar bed par khaRa kar diya or khud neeche hi khaRa raha. ek haath Nita ki kamar ke back par doosra chuttaRon par rakhte huye. jab ke Nita use sir se thaame use door karne ki koshish kar rahi thee. woh samajh chuki thee ki Pankaj uski naabhee ko choom'na chaahta hai or Nita achchhee tarah jaanti thee ki yah uski kaafee senseous jagah hai. woh apne jazbaat par niyantraN naheen kar paayegi. lekin Pankaj ek mun'h zor toofaan tha. aakhir us'ne apne honTh Nita ki naaf par rakh diye.


"umm.plllzzzz, dewarrrr jee." uski saans jaise andar hi kaheen ruk gayee thee aur TooTti, bikharti saansoon se betarteeb yah alfaaz Pankaj ko mazeed uksa rahe the. "bussssss. abbb, chhhoorrrro pankaj" woh use chhoRne ka kah rahi thee. lekin apne haathon se Pankaj ke sir ko andar ki taraf dabaaye ja rahi thee, jazbaat ke maare. "um, kya mast maal ho bhabhi, maza aagaya." Pankaj ne apna sir uThaaya or jeebh phairte huye kaha or gaanD par rakhe haath ko choot area par laate huye ek baar phir saaRee ko pettycoat ke saath neeche ko kheencha. saaRee pahle se bhi jyaada neeche aagayee or Nita achanak hosh main aagayee. al'ta ke gaharee naabhee ba "kyon, ji dikha rahi hain choot apni, apne devar ko .bhai jab sali aadhi ghar wali ho sakti hai to devar kyon naheen, haan. ?, bhaiya aap ki choot dekh sakte hain to hamen bhi kuchh haq milna chaahiye na ji." Nita ki gaanD ko pinch karte huye Pankaj ne kaha. bahut kuchh ho chuka tha. ab Nita ko Dar lag raha tha ke koi andar na aajaaye. Pankaj kaaboo main hi naheen aaraha tha or use lag raha tha ke woh choot dekhe bagair use jaane bhi naheen daiga, lekin is khayaal se hi us par dhairon sharam aarahi thee ki woh apne devar ko khud choot ka nazara karwaye. Tabhee door beel bajee aur Nita haR'baRa ke uThee. Darwaaja khola to kaam kar'ne waalee baee thee. Us din to bhaabhee kee Pankaj se jaan chhuT gai. Doos're hee din ki baat hai. Pankaj roj ki tarah nahaane waala tha. bhaabhee ne aawaaj dee aur bolee .
tere nahaane ka paanee taiyaar hai" Pankaj bath room men gaya. tabhi bhaabhee ko yaad aaya ke usne Pankaj ko bahut hi garam paanee diya hai. bhaabhee ne kaha " Are, thodi der rook men tujhe thanda paanee parosti hoon". bhaabhee ne saaRee pahanee thee. bathroom bahut chhoTa tha. Do admiyon se bhi wah bhar jaata hai. Pankaj andar tha aur bhaabhee bathroom men aagai. Pankaj nanga hee nahaata tha par bhaabhee aane wali thee is'liye towel baandh ke rakha tha. bhaabhee ander aayee, Pankaj bhaabhee ke peechhhe khada tha. bhaabhee Pankaj ke saam'ne jhuki. uska mun'h doos'ree taraph tha aur uski gaanD Pankaj kee taraph thee. Wah thanda paanee garam paanee men Daal rahi tahi. Tabhi uski gaanD Pankaj ke lunD ko lagi. Pankaj ko current sa laga aur lunD 180 digree khada ho gaya. Bhaabhee ko bhee chubhan mahasoos hui. bhaabhee ne paanee Daala aur wah fauran kuchh mus'karaatee see baahar chali gai. Usee raat Pankaj bhaabhee ke kam're men pahooncha aur aashcharya ki bhaabhee ka kam'ra andar se band naheen tha. bhaabhee doos'ree taraf mun'h kar'ke soi hui thee. Pankaj palang par baiTh gaya aur bhaabhee kee kamar par hal'ke se haath rakh diya. Bhaabhee jab hilee bhee naheen to Pankaj bhee Nita ke peechhe leT gaya aur bhaabhee ko chipka liya. Ab lunD bhaabhee kee gaanD ko chhoone laga. Dhire dhire Pankaj ne haath bhaabhee kee choochiyon par rakhe aur unhe sehalaane laga. use laga bhaabhee so gai hai lekin wah sone ka naaTak kar rahi thee. Pankaj ne dhire dhire haath bhaabhee ke peT se ghuma ke bhaabhee kee saaRee men Daala. achaanak, bhaabhee ne haath pakda aur Bolee.

kramashah…………………………….




raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: अमेरिका रिटर्न बंदा

Unread post by raj.. » 14 Dec 2014 04:32

अमेरिका रिटर्न बंदा--3

गतान्क से आगे…………………………..

" क्या कर रहा है तू? अब तू इट'ना बिगड़ गया है कि यहाँ भी आ पहूंचा है. और वह सीधी होके बैठ गई . एक'बार तो पंकज बहुत घबरा गया लेकिन तुरंत बोल पड़ा,भाभी कल तो तू बिना दिखाए भाग गई थी पर आज देखे बिना नहीं छोड़ूँगा. कल ही आप दिखा देती तो यह नोबत ही नहीं आती. नीता कई देर खामोश रही. वह जान'ती थी कि डान्ट डपट से यहाँ काम चल'ने वाला नहीं है. आख़िर उस'ने मन ही मन कुच्छ निर्णय किया और खुद ही मुस्कुरा उठी और कहा. " अभी तू जवान हो गया है, मैं तेरे भैया से कह के तेरी शादी करा दूँगी. कोई लड़की देखी है के नहीं? पंकज ने कहा," में अनुभव लिए बगैर शादी नहीं करूँगा. मैने तो अभी कुच्छ भी अनुभव अप'ने देशी माल का लिया नहीं है'. भाभी ने कहा. मैं तेरे ही बारे में सोच'ती रही हूँ और तुम ऐसे ही मान'ने वाले भी नहीं हो. देख मेरी एक छोटी बहन है जो घर से आज से सात साल पह'ले 17 साल की उमर में ही भाग गई थी. इन 7 सालों में उस'ने क्या क्या पापड बेले होंगे यह तो मैं नहीं जान'ती पर आज वह एक फिल्म अभिनेत्री, चरुलाता है. अभी दो महीने पह'ले मेरा 17 साल का छोट भाई चिक्कू भी उस'के पास चला गया है. मैं तुम्हें उस'का मुंबई का पता ठिकाना दे देती हूँ और तुम अमेरिका रिटर्न बंदा हो, स्मार्ट हो. तुम उसे पटा लो और अप'नी बीवी बना लो. तुम कहो तो मैं उस'से फोन पर बात कर'के उसे तुम्हारे मुंबई आने की बात बता दूँ.

भाभी देखो दिखाने वाली बात को यूँ मत टालो नहीं तो..... पंकज ने नीता की एक चूची पर हाथ रख'ते हुए कहा.

ठीक है, यदि तुम्हें मेरी बात मंजूर है तो शनिवार तक जब तक तुम्हारे भैया यहाँ नहीं आ जाते मैं तुम्हारे लिए कुच्छ करूँगी. लेकिन उस'के बाद कभी नहीं. और हां दो दिन भैया के पास गुज़ार के तुम्हें सोमवार को मुंबई जाना है. भाभी ने कहा.यह सुन'ते ही पंकज शुरू हो गया. उस'ने भाभी के माथे पे चुम्मा किया, धीरे धीरे भाभी के गालों पर, भाभी के होन्ठो पर और फिर भाभी के गले पर. धीरे धीरे पंकज नीचे आया और भाभी का ब्लाउस खोला और चूचियों को चूसने लगा, चाट'ने लगा और काटने लगा. उस'ने एक हाथ भाभी की साऱी में डाला और भाभी की पैंटी में हाथ डाल कर भाभी की चूत तक ले गया और भाभी की चूत में उंगली डाल कर उसे सहलाने लगा. भाभी को भी अच्छा लग रहा था. उस के मूँ'ह से आवाज़े आ रही थी. एयेए.ऊओच...आ एयेए और्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर " उसकी साँसें बढ़'ने लगी और आवाज़े भी .

ऊऊऊ म्‍मा अहह. ईीइसस्स्स्स्स्स्स्स्सस्स. आ भाभी, हाई. ऊओ अयू" अचानक वह बोली. आब्ब्ब्ब तो डालल्ल्ल्ल्ल ना रीईए आई"

लेकिन पंकज नहीं. मान रहा था. पंकज वही कर रहा था. उस वक़्त भाभी एक " कामदेवी" लग रही थी. पंकज भाभी के पास गया और उसको चूमने लगा और चाटने लगा. चूमते- चूमते पंकज नीचे आया और भाभी की नाभि ( नवल) चाटने लगा. पंकज फिर से खड़ा हुआ और भाभी के चूचियाँ दबाने लगा और एक हाथ भाभी के नीचे डालकर भाभी की बूर में उंगली डालने लगा, पहेले एक और बाद में दो और तीन उंगलियाँ उस'ने भाभी की चूत में डाली.

" आ उउउंमा बस कर. आ आब्ब्ब्ब चल लगा मुझे. आब्ब्ब्ब्बबब रहा नहिी जाताअ आईम्म" लेकिन पंकज नहीं मान रहा था. भाभी की चूत से पानी निकल रहा था. भाभी और भी तड़प'ने लगी, "आब्ब्ब्बब लगा रीए. "

तभी पंकज ने भाभी को पूछा. " भाभी, क्या मैं आप'को नाम से पुकार सकता हूँ?' भाभी ने भी कहा, " हां, तू मुझे नाम से पुकार सकता है और मैं तुझे रेस्पेक्ट दे के पुकारूँगी." ( यानी एक औरत अपने पति को पुकारती है वैसे) फिर पंकज ने जब भाभी के चूचियाँ दाबी और उसकी बुर में उंगली डाली तब भाभी बोली. . "एजी, आब्ब्ब्ब्बबब बस भी किजीए, , आप मुझे आइसे मत तरसाऊ, अब्ब डालल्ल्ल्ल्ल भी दो और्र्र्ररर कितना तरसाओ गे, क्या बुर्र्र्र्र्ररर का पॅनीयियी ऐसे ही नीईकालोगे." पंकज उठा. भाभी के दोनों पैर अप'ने कंधे पर लिए और उसे पेट के बल सोने को कहा. उस'ने लंड निकाला, भाभी की चूत पर लगाया और ज़ोर से भाभी के अंदर ठेला. " ऊ आम्म्मी, आ, एम्म माइ अओ. आप का बहुत बड़ा हाई. , अओउू" पंकज के धक्के और बढ़ने लगे और भाभी और चिलाती रही अहह , अहह. अहह अम्मी. ऊओ तकलीफ़ हूओ रहीए है.लेकिन, अच्छा लग रहा है आम, ईएसससा". वह भाभी भी नीचे से कमर हिला कर साथ दे रही थी. पंकज और धक्के मार ने लगा, तभी भाभी ने कहा. "पंकज तुम छोटी का दिल ज़रूर जीत लोगे. तुम्हारा हथियार बहुत बड़ा है. पंकज ज़ोर के धक्के दे रहा था और बोला." और, क्या भैया ऐसा नहीं करते. ?" तभी भाभी बोली, "आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह तेरे भैया यहाँ हर'दम तो रह'ते नहीं, पंकज धक्के दे रहा था और फिर एक आखरी जबर'दस्त झटका दिया और पानी भाभी में गिर गया. भाभी बोली "आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह. आब्ब्ब्बब, ठीक लग रहा हाीइ. आज से हर रात आप मेरे पति और मैं आप की नीता. सालों बाद आज मुझे तृप्ति मिली है" और वे दोनों एक दूसेरे से चिपक कर सो गये. करीब 1 घंटे बाद भाभी की नींद खुली, पंकज सोया था. तभी एक हाथ पंकज को चड्डी में जाता महसूस हुआ और पंकज की हल्की सी आँखे खुली. तभी देखा तो भाभी का हाथ पंकज की चड्डी में था. पंकज उठा तो भाभी से कहा. "नीता चल, पलंग पर पसर जा" भाभी पलंग पर पसर गई. पंकज भाभी को पलंग के कोने में ले गया. पंकज ने नीता के हाथ दीवार पर टिकाए और पलंग पर घुटने पर बैठने को भी बोला. अब भाभी का मूँ'ह दीवार की तरफ और भाभी की गान्ड पंकज की तरफ थी. पंकज भी भाभी के पीछ्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह घुट'ने पर बैठ गया. भाभी बोली.

" आप, क्या सोच रहे हो जी?"

पंकज भाभी के गान्ड पर हाथ घुमा रहा था. उसे सहला रहा था और बोला. " नीता, मैं जब से यहाँ आया हूँ तब से र्तेरी गान्ड का दीवाना हो गया हूँ. पह'ले मैं तेरी गान्ड मारूगा, उस'के बाद ही कुच्छ और सोचूँगा.",

भाभी ने कहा

" हांजी मुझे मालूम है, लेकिन थोड़ा धीरे से . नहीं तो आप की बड़ी तलवार से गान्ड फट जाएगी"

यह सुन कर पंकज ने भाभी के पिछे के छेद में अंगुल डाली, लंड निकाला और भाभी के गान्ड के होल पर रख कर झटका दिया लेकिन वह नहीं जा रहा था.

भाभी ने कहा. "अजी , आप तेल लगाओ और फिर करो" पंकज नीचे के रूम में गया और तेल ले के आया. तेल पह'ले लंड में लगाया और भाभी की गान्ड में भी डाला. इतना डाला के भाभी की गान्ड पूरी तेल से भर गई.

पंकज बोला. " नीता, मेरी जान अब तैयार हो जा. हाय रानी तेरी गान्ड क्या मस्त है?"

भाभी बोली. " प्लीज़ थोड़ा धीरे धीरे कर'ना, डर लग रहा है. " तभी पंकज'ने ज़ोर से लंड का धक्का गान्ड में दिया. भाभी चिल्लई,

"ऊऊ आए फत्त्त्त गाययययययया आह्ह्ह्ह, आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह निकाल एयेए. " पंकज नहीं माना और ज़ोर से धक्के देने लगा लेकिन पहले ही धक्के से लंड भाभी की गान्ड में आधा घुस गया. भाभी चिल्लाई. "आह्ह्ह्ह्ह्ह. ईए तेरे लंड का अगला हिस्सा बड्डा ही मोटा हाई, , साले मॅदर चोद निकाल नहीं तो फट जाएगीइइ"

तब पंकज बोला, , " नीता अभी क्या बोला तूने?"

तभी भाभी सम'झी. मैने आप को 'साले और मॅदर चोद' बोला और बोली. " आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह माफ़ करना . मुझसे ग़लती हो गई. .मैने अप्प्प्प्प कू तुऊउ बोला, गाली दी. प्लीज़ लेकिन थोड़ा धीरे करोना. मैं कहीं भागे थोड़े ही जा रही हूँ. शनिवार तक अब त्तुम ही मेरे पती हो और सब छूट है. आह्ह्ह्ह्ह्ह एक तो आप का 8 इंच का मूसल और ऊपर से मेरी सन्कऱी गान्ड. तभी बाहर तूफ़ानी बारिश शुरू हो गई और पंकज अंदर तूफान बन गया था. पंकज अब मस्त भाभी की भारी भर'कम गान्ड ताबड तोड़ मार रहा था और भाभी चिल्ला रही थी. " आहह उआ, प्ल'सस्स्स्स्स्स्सस्स. धीरे. पंकज मर गई. आहह और धीरे रे. अम्ज़ी, मुझे दर्द हो रहा है, आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह धीरे धीरे मज़े लेके मार ना" पंकज के धक्के बढ़'ते गये और लंड आधे से भी ज़्यादा भाभी की गान्ड में घुस गया. पंकज ने धक्के थोड़े धीरे किए.

भाभी ने कहा " क्या हुआ. रुक क्यों गये? अरे मेरे कह'ने की परवाह ना करो."

पंकज बोला,तुझे तकलीफ़ हो रही है.

भाभी ने कहा. " लेकिन मज़ा आ रहा है", उस'ने फिर धक्के बढ़ाए. भाभी फिर चिल्लाने लगी. पंकज का लंड भाभी की गान्ड में पूरा घुस गया. वह फिर चिल्लाने लगी. 'आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह, आब्ब्ब्ब्ब्ब्बबब डालल्ल्ल्ल्ल, मेरी जनंननननणणन्, आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उउउम्माम, अब नहीं सह सकती, , आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह मत रुक. अभीयी अओ, तभी पंकजने भाभी को ज़ोर से पकड़ा और ज़ोर का आखरी झटका मारा और सफेद पानी भाभी की गान्ड में रिस रिस के गिर'ने लगा. " भाभी बोली. 'आह्ह्ह्ह्ह्ह क्या तेरे मे गर्मीी हाीइ. आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह बहुत अच्छा लगा. दो दिन भैया के साथ रह नीता भाभी से किए गये वादे के अनुसार पंकज मुंबई के लिए रवाना हुआ. उस'ने चरुलाता की फिल्में देख रखी थी. वह बहुत खुश हुआ क्योंकि चरुलाता उस'के ख्वाबों की शहज़ादी बन गई थी और वह कयी बार चारू को सपनों मैं चोद चुका था. चारू घर मे अपने 17यियर्ज़ ओल्ड छ्होटे भाई चिक्कू के साथ ही थी. पंकज सीधे चरुलाता के घर पहून्च गया. दरवाजा चिक्कू ने खोला. चिक्कू 17 साल का फूला फूला मस्त गद'राया लौंडा था. पंकज अप'नी हर'कत से बाज नहीं आया और चिक्कू की फूली गान्ड के दरार पर हाथ रख'ते हुए पूछा, क्यों चिक'ने तुम चिक्कू ही हो ना? चिक्कू ने उसे घूर'ते हुए पूछा, लेकिन आप कौन है और यहाँ क्या काम है? भाई हम तो तुम्हारी दीदी के देवर राजा हैं. ओह! पंकज भैया आप. और दीदी और जीजाजी कैसे हैं. चिक्कू ने चहक के कहा. पंकज ने फिर पूछा, भाई हमारी होने वाली माशुका नहीं दिखाई पड़ रही. चिक्कू ने अर्थ पूर्ण निगाहों से पंकज की तरफ देखा तो पंकज बोला. अरे भाई जवान दिलों की धड'कन तुम्हारी चारू दीदी. पंकज ने दीदी शब्द पर जान'बूझ कर ज़्यादा ज़ोर दिया. दीदी अभी सो रही है. ठहरिए मैं दीदी को जगाता हूँ. नहीं रह'ने दो. मैं उसे सर्प्राइज़ देना चाह'ता हूँ. तभी पंकज ने फिर चिक्कू की गान्ड की दरार पर हाथ रखा और इस बार उस'ने अंगुल भी चला दी. छोकरा बिल्कुल लाल हो उठा पर बोला कुच्छ नहीं. यार चिक्कू तुम बड़े मस्त हो. मेरी मदद करोगे. चिक्कू बोला पऱ,कैसी भैया. मैं जो कहू तुम कर'ते जाना फिर देख'ना तुम्हें कित'ना मज़ा देता हूँ. दोनों में कुच्छ देर ख़ुसर पुसर होते रही और चिक्कू नहीं, नहीं कहे जा रहा था पर अंत में उस'ने पंकज के आगे हथियार डाल दिए. पंकज ने उसे पूरा विश्वास दिला दिया था कि वही उस'का होने वाला जीजा है.

सामने दो रूम थे जिन'में एक खुला था और दूसरा बंद. पंकज बंद रूम के दरवाजे पर पहून्च गया और दरवाजे को भीतर हल्का सा झट'का दिया. बंद दरवाजा खुल चुका था और पंकज अंदर घुस गया. ड्रीम गर्ल चरुलाता एक आलीशान पलंग पर ब्लंकेट लिए सो रही थी. पंकज ने चरुलाता के चुत्तऱ पर ब्लंकेट के ऊपर से एक थाप दी. चरुलाता हड'बड़ा के उठ गई.

कौन है? तभी उस'की नज़र अप'ने भाई पर पड़ी और साथ ही पंकज पर भी.

चिक्कू तुम लोगों की यहाँ ऐसे आने की हिम्मत कैसे हुई और तुम्हारे साथ यह कौन है? गुस्से मे पंकज को घूर'ते हुए चरुलाता बोली,

कौन हो तुम और क्या चाह'ते हो.

तुम्हारा दीवाना हूँ नाम पंकज है और तुम्हारे साथ मस्ती कर'ना चाह'ता हूँ. अगर प्यार से राज़ी नहीं हुई तो ज़बेरदस्ती भी करूँगा और तुम्हारे भाई को भी जान से मार दूंगा . तभी पंकज ने अप'नी बॅग से एक गन निकाली जो चिक्कू ने ही उसे दी थी. यह ऐसे ही खेल'ने वाली गन थी. चरुलाता की घिग्गी बँध गई.

प्लीज़ मेरे भाई को छोड़ दो और मेरे साथ ऐसा मत करो.

तुम्हारा भाई सिर्फ़ इसी सूरत मे ज़िंदा बच सकता है जब कि तुम मेरी बात आराम से मान लो वरना. . . . पंकज ने चिक्कू के माथे से गन लगा दी.

कुच्छ देर खामोशी छ्चाई रही. चरुलाता थर थर काँप रही थी पर चिक्कू वैसे ही शांत खड़ा था. उसे होने वाले जीजा की अदाएँ प्यारी लग रही थी. जिस दीदी का वह ख़ौफ़ खाते रह'ता था अब वह खडी काँप रही थी.

तो तुम दोनों भाई बहन अब पूरे तैयार होना. अगर राज़ी राज़ी सब कर'ने दिया तो मैं तुम दोनों का बाल भी बांका नहीं होने दूँगा और थोड़ी मस्ती कर'के चला जाउन्गा. उस'के बाद पंकज ने चिक्कू को हुकुम दिया कि चारू को नंगा करो. चरुलाता बूरी तरह से घब'रा गई थी और बोल पडी,

मैं खुद कप'ड़े उतारती हूँ. चिक्कू को दूसरे रूम मे भेज दो.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: अमेरिका रिटर्न बंदा

Unread post by raj.. » 14 Dec 2014 04:32

चिक्कू ही तुम्हारे कप'ड़े उतारे गा और फिर तुम मेरे और चिक्कू के कप'ड़े उतारो गी. चिक्कू यह सुन'ते ही लाल हो गया पर डर'ने की आक्टिंग कर'ते हुवे चारू को देखा तो चारू बोली,

मेरे भाई जान है तो जहाँ है. जो यह कह रहा है वह करो वेर्ना यह तुम को मार देगा. चिक्कू आगे बढ़ा और चारू की पोशाक उतारने लगा. चारू ने एक नाइट सूट पह'ना हुवा था. चिक्कू ने चारू की पोशाक उतारी तो अब साम'ने चारू के गोरे चिट 36 के सुडोल मम्मे ब्रा मे क़ैद से बाहर निकल्ने को बैक़रार लग रहे थे.

अब चिक्कू ने चारू के पाजामे का नाडा खोला तो रेशमी पाजामा कमर से स्लिप हो कर चुत्तऱ से अटकता हुआ पैरों मे आ गया तो चारू ने खुद ही पाँव से पाजामा निकाल दिया. चारू अब ब्लॅक ब्रा और पैंटी मे 36-24-36 के फिगर के साथ साम'ने खड़ी थी. अपनी दीदी का खूबसूरत बदन देख कर चिक्कू का लंड उस की पॅंट मे खड़ा सॉफ नज़र आ रहा था. अब चिक्कू चारू की ब्रा का हुक खोलने के लिए उस के पीछे गया तो हुक खोलते हुवे चिक्कू का लंड चारू की गांद से टकराया तो चारू ने उसे घूर कर देखा तो चिक्कू शर्मिंदा हो गया और थोड़ा पीछे हट कर ब्रा का हुक खोल दिया.

ब्रा का हुक खुलते ही चारू ने ब्रा उतार फैंकी. अब चारू की 36 की चूचियों पर लाइट ब्राउन कलर के छ्होटे से सर्कल पर पिंक कलर के निपल्स नज़र आ रहे थे जो कि शरम की वजह से अकडे हुए थे. चिक्कू ने अब पैंटी उतारनि शुरू की तो चारू ऐक बार फिर बोली.

प्लीज़ चिक्कू को दूसरे रूम मे भेज दो. पंकज कुच्छ कह'ने ही वाला था कि चिक्कू बोल पड़ा.

दीदी मैं तुम को अक़ेला इस आदमी के साथ छोड़ कर कहीं नहीं जाउन्गा, मालूम नहीं यह तुम्हारे साथ क्या करे, मैं तुम्हारी हिफ़ाज़त के लिए इसी रूम मे रहूं गा. मैरी तर'ह आप सब भी समझ गये होंगे कि चिक्कू चारू की हिफ़ाज़त के लिए रुकना चाह'ता था या अप'नी बहन को नंगा देखने के लिए रुकना चाह'ता था. चिक्कू ने अब चारू की पैंटी थोड़ी नीचे की तो वह टाइट होने की वजह से गान्ड पर फँस रही थी. चिक्कू ने अब चारू के साम'ने खड़े होकेर दोनो हाथ साइड्स से पीछे किए और गान्ड को थोड़ा दबाते हुए पैंटी नीचे कर'ने लगा. इस तर'ह खड़े होने से उस की छाती से चारू की चूचियाँ दब रही थी और नीचे से चिक्कू का लंड चारू की चूत से टकरा रहा था.

चारू लगातार चिक्कू को गुस्से मे घूर रही थी लेकिन चिक्कू अब शर्मिन्दा तो था मगेर वह पीछे नहीं हट रहा था. जब पैंटी घुटनों तक उतर गयी तो चारू की तिकोनी उभरी हुई चूत पर काले घूंघ'राले बाल भर'ती थे. चिक्कू अब नीचे बैठ कर चारू की ऐक टाँग उठा कर उस मे से पैंटी निकालने लगा (चिक्कू का चह'रा चारू की चूत के बुलकुल साम'ने था). चारू ने चिक्कू के कंधे का सहारा लेते हुए ऐक टाँग उठाई तो उस की चूत पहली बार साफ नज़र आई. चूत के अंदर के लिप्स हल'का गुलाबी कलर के थे और लिप्स के सेंटर मे ऐक छोटा सा दाना भी नज़र आ रहा था. चिक्कू पैंटी उतार कर साइड पर खड़ा हो गया और अपनी दीदी के खूबसूरत बदन को लालचाई हुई नज़रों से देखने लगा. अब चरुलाता सिर से पाँव तक नंगी खऱी थी.

चारू अब तुम चिक्कू को नंगा करो. पंकज ने हुकम सुनाया. चारू आगे बढ़ी और अपने भाई की बन्यान उतार दी और फिर पैरों के बल बैठ कर चिक्कू की पॅंट की ज़िप खोलने लगी. चारू के बैठ्ने से उस की गान्ड का दरार थोड़ा खुल गया और उस मे से उस की गान्ड का छोटा सा हल'का गुलाबी छेद नज़र आने लगा. यह सब देख कर पंकज का खुद बुरा हाल था. पंकज का लंड पूरी लंबाई से पॅंट मे खड़ा हुआ था. चारू ने चिक्कू की पॅंट और अंडरवेर खोली तो चिक्कू का करीब 6" इंच लंबा-लंड खड़ा हुआ था. चारू की नज़र भाई के खड़े लंड पर पड़ी तो वह शर्मिंदा हो गयी. तभी पंकज ने कहा,

चारू अब तुम मेरे पास आओ और मेरे कप'ड़े उतारो. चारू उस'के पास आई तो पंकज ने उस का हाथ पकड़ कर पॅंट के ऊपर से ही अपना लंड पक'ड़ा दिया. लंड पर हाथ पड़'ते ही चारू के बदन ने ऐक झुरजुरी ली और पॅंट के ऊपर से ही उस'के लंड को मसल्ने लगी. फिर उस'की पॅंट को जल्दी से उतार कर उस'के नंगे लोडे पर हाथ फैरने लगी. पंकज का 8 इंच लंबा-लंड किंग कोब्रा की तर'ह खड़ा हुआ था. चारू की आँखों मे पंकज का लंड देखते और पकड़ते ही लाल डोरे आ गये थे. पंकज समझ गया कि अब चारू के जज़्बात जाग रहे हैं और वह आहिस्ता आहिस्ता गरम हो रही है.

यह देख पंकज ने चारू को उठ कर बेड पर लिटाया और उस की चूचियों को प्यार कर'ने लगा और दबाने लगा, कभी कभी वह निपल्स को दाँतों मे लैकेर मसलता तो उस की सिसकारी निकल जाती. चारू लगातार पंकज के लंड पर ऊपर नीचे हाथ फेर रही थी. कुच्छ देर बाद पंकज और चारू 69 की स्थिति मे आ गये अब चारू के मूँ'ह मे पंकज का 8 इंच का लंड था जो वह मज़े मे चूस रही थी और अपने हाथ से उस'के बॉल्स से खैल रही थी. दूसरी तरफ पंकज अपनी जीभ से चारू की चूत चाट रहा था और कभी कभी ऐक उंगली उस की चूत के छेद मे अंदर कर देता तो वह मज़े मे अहह, ओईए कर'ने लगती. कुच्छ देर बाद पंकज सीधा लेट गया. पंकज का लंड क़ूताब मीनार की तर'ह सीधा खड़ा हुआ था.

चारू तुम मेरे ऊपर आओ. चारू ऐक टाँग इधर ऐक टाँग उधर कर के उस'के ऊपर आई तो उस की चूत लंड के बुलकुल साम'ने आ गयी. चारू ने लंड को अपनी चूत के क़रीब देखा तो डर कर बोली.

पंकज इतना बड़ा लंड मैरी इतनी छ्होटी सी चूत मे कैसे जाए गा यह तो मैरी चूत ही फाड़ देगा. तब पंकज ने रहम दिखाते हुए कहा,

चिक्कू वेसिलिन लाओ और अपनी बहन की चूत पर और मेरे लंड पर अच्छी तर'ह वेसिलिन लगाओ. चिक्कू जो इतनी देर से बेड के पास खड़ा अप'नी बहन और होने वाले जीजा दोनो को देख देख कर अप'नी नज़रों को ठन्डक पहूंचा रहा था, हुकुम मिलते ही वेसिलिन ले आया और उंगलिओ से वेसिलिन लैकेर चूत के लबों को चीर कर अंदर लगाने लगा. चिक्कू बहुत ही कोमल हाथों से बहन की चूत पर वासेलीन मल'ने लगा. चारू सिसकारियाँ लैने लगी.

भाई वेसिलिन ज़्यादा अंदर तक लगाना वेर्ना यह लंबा-लंड मैरी चूत का सत्यानास कर देगा. यह सुनते ही चिक्कू ने वेसिलिन बीच की अंगुल मैं लैकेर अंदर तक घुस्सा दी. अंगुल अंदर जाते ही चारू की सिस'कारियाँ और तेज हो गयीं. फिर लंड पर वेसिलिन लगा कर चिक्कू हट गया.

तब पंकज लंड को चारू की चूत के दाने पर मलने लगा और ऊपर नीचे रगड़ना शुरू किया तो चारू बिल्कुल ही मस्त हो गयी.

पंकज अब जल्दी से अंदर डाल दो अपने डंडे को मैरी चूत मे. आग लगी हुई हे. पंकज ने लोहा गरम देखते ही लंड की टोपी चूत के छेद पर रख कर आहिस्ता से धक्का दिया तो टोपी अंदर चली गयी. चारू के मूँ'ह से अजीब सी आवाज़े निकलने लगी.

म्‍मन्‍ंननणणन् आहह ओह पंकज ने अब की दफ़ा नीचे से ज़रा ज़ोर से झटका मारा तो ..............................

क्रमशः…………………………….