दामिनी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 23 Dec 2014 08:47

Uffff kya nazara tha ...Papa ke chaaTne se aur wine ki mauzoodgi se gaanD andar kaphi mulayam tha aur khula bhi tha ..unka adha lund fatch se Aunty ki gaanD mein tha ..

." Haiiiiiii mar gayee main ...uffff Jeeju poora pel do na ....addhe mein mat roko ...aaaaaaaaaaah aaj gaanD aur choot donon ki khoojli saath saath meetani hai .......Abhi aa ja na .....samne se meri choot phad de na mere raja ..aaaa.." Aunty madhooshi mein bake ja raheen thi

Tabhi Papa Aunty ki kamar ko jakad thoda upar kar liya aur neeche apne louDe ko push kkiya ....poora lauDa unki gaanD mein jad tak andar tha ...aur Aunty ne apne pair phaila diye unke panje neeche kaleen par hi teeke THE ...aur apni peeth Papa ke seene se lagate hue , un par peeth ke bal let gayee , Papa ne unhein apne hathon se jakad liya ..unka chehra apni taraf ghoomate hue Aunty ke honth choos rahe THE ..aur lauDa andar hi andar gaanD mein hila rahe THE .....Aunty ko ab gaanD mein lund ka dard nahin tha aur maza aa raha tha ..

Unki choot khuli THE aur pani rees raha tha ...Tabhi MAMMI ne Bhaiyaa ko kaha " Are dekhta kya hai ...dekhta nahin Payal ki choot kitni khuli hai ? Pel de apna kadak lauDa ..unhein bhi aaaj ek saath do do louDe ka maza lene de na .....hamari cheenta chod ,,hamein dekhne main hi kitni masti aa rahee hai..."

Aur unhone Bhaiyaa ka kadak lauDa apne hathon mein leTe hue Payal Aunty ki choot ke upar rakh diya ..Bhaiyaa Aunty ki kamar jakadte hue ek jordar dhakka lagaya aur unka lauDa bhi jad tak andar tha ...

Maine aisi chudaai aaj tak nahin dekhi THE , Papa ka lauDa gaanD mein aur BHaiyaa ka unki choot mein aur Payal Aunty masti mein karah raheen thi ...

Bhaiyaa dhakke lagaye ja rahe THE

Bhaiyaa ka lauDa jab andar jata ..unke balls Papa ke louDe ko choote ....is sparsh se donon ki masti aur badh jati ... Papa apna lund andar hi andar hila rahe THE ...ghooma rahe THE ...

Hum donon MAMMI aur main apni choot ungli se sehlaye ja rahe THE ...

Kya chudaai ho rahee thee aaj Aunty ki .wo masti mein karah rahee thi , seesak rahee thi ..chilla raheen thi

" Han mere raja ..mere Jeeju raja ..han han aise gaanD mein lauDa pele raho ....uffff Abhi ..maro maro ..chodo ..phad do aaj meri choot ..raund Daalo .....aaah ....uiiiiii "

Aur Bhaiyaa ka lund Papa ke lund se choota hua lagatar andar bahar ho raha tha ..Aunty ki choot ke har hisse mein raund raha tha ..aur

Phir unka dhakka aur , aur , aur tez hota gaya ..Papa bhi unke dhakke se sihar jate .unka lund bhi Bhaiyaa ke lund se ghis raha tha

Aur phir Bhaiyaa apna lund Aunty ki choot mein dhansaye dhansaye hi jhaDane lage ....jhaTke pe jhatka kha raha tha unka lauDa ..unka chuTaD uchal raha tha ....unka virya choot se reesta hua gaanD ki taraf ja raha tha ....gaanD aur geeli ho rahee thee Papa ke lund mein bhi virya lag raha tha ..Papa ne is mauke ka phayda uthate hue AAunty ke virya se geeli gaanD mein lund andar bahar karna chaloo kar diya ......aah Aunty to mano swarg mein thi ..choot ki chudaai khatm hote hi gaanD ki shuru ho gayee thee ..unka poora badan kanp raha tha ..Papa jyada der teek nahin sake ..pehle se kafi masti mein THE ..do chaar dhakkon ke baad unhone bhi apna lund gaanD ke andar Daale rakha aur buri tarah jhaDane lage ....aur Aunty ki choot se to bas ganga bahe ja rahee THEe ... choot se unka ras aur Bhaiyaa ka virya rees raha tha aur gaanD mein Papa ka virya bhar gaya thhha

Bhaiyaa aur Papa ke beech Aunty Papa ki god mein paDee thi , nidhal , past , ankhein band aur honthon par ek tripti aur masti se bhari muskaan .

AAJ Payal Aunty ne deekha diya wo bhi sex ki devi na sahi to sex ki bahut hi jani mani pujaran to thi hee ...



Us raat hum sab ek ajeeb hi masti , anand aur madahoshi ke sagar mein gote laga rahe THE . Ek doosre ke nashe mein choor ..wahan kaun kis ke saath tha , kiske saath kya kar rah tha kisi ko koi hosh nahin tha ..bas ek doosre ke badan se khel rahe THE ...maza le rahe THE ....

Payal Aunty to aaj itni mast ho gayeen thi , do do round chudaai ke baad ek dam dheeli aur mast thi ....tangein phailaye , haath phailaye neeche kaleen par ankhein band kiye mand mand muskura raheen thi ...unki choot aur gaanD se virya , wine aur choot ras rees rahe THE ..

Papa aur Bhaiyaa ab tak phir se wapas apne rang mein aa chooke THE .....Papa sofe par baiTHE THE aur Bhaiyaa neeche kaleen par .

Papa ne mujhe apni god mein utha liya ...main bhi apni tangein unki kamar ke gird rakhte hue unse chipak gayee ... unhone mujhe apne aur kereeb kar liya aur mere honth choosne lage ....chuchiyaan masalne lage ..aur maine unke murjhaye louDe se khelna chaaloo kar diya ....

Aur Bhaiyaa MAMMI ke upar let gaye unko apne seene se chipaka liya aur unke bhare bhare mulayam honthon ko choosna shuru kar diya ...unka lauDa Mummmy ki kamarband se takra raha tha ..unke badan mein siharan uth jati .aur lauDa kadak hota ja raha tha ... MAMMI ke gehne bhi kam sexy nahin THE ....unhone apni bahein Bhaiyaa ke peeth par rakh apni chudiyon se unnke peeth ragaD rahee thi aur kamarband unke louDe ko ..Bhaiyaa masti mein THE ...aur unka honth choosna aur tez hota jata ....peeth aur louDe mein gudgudi hoti thee ...Bhaiyaa itni masti mein aa gaye THE unhone MAMMI ke munh ko buri tarah apne munh se lagaya , jaise unka munh kha jayenge ...aur poora munh choos rahe THE.... jeebh choos rahe THE ..MAMMI ka thook aur laar andar liye ja rahe THE ...
kramashah……………………..


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 23 Dec 2014 08:47

दामिनी--37

गतान्क से आगे…………………..

दोनों बुरी तरह चिपके थे एक दूसरे से ...मम्मी भी पायल आंटी की चुदाई देखते देखते बुरी तरह चुदासी थी और मैं भी .....मेरी तो चूत फडक रही थी ...लौडा अंदर लेने को बेताब थी

तभी पापा ने मेरी चूतड़ को थामते हुए मुझे और उपर कर लिया ...अपनी गर्दन तक मुझे उठा लिया ..मैने अपनी टाँगें उनके गर्दन के दोनों ओर रखते हुए सोफे की पीठ पर टीका दिया ..मेरी चूत पापा के मुँह के सामने थी ... पापा ने अपनी उंगली से मेरी चूत की गुलाबी फांकों को अलग किया ....और अपनी लपलपाति जीभ से चाटने लगे ..पूरी लंबाई तक ....उफफफ्फ़ ..मैं कांप उठी ..मेरी टाँगों ने उन्हें और भी जोरों से जाकड़ लिया ...उनकी जीभ सतासट चूत की सफाई किए जा रही थी ...मेरा पूरा बदन सिहर जाता ..फिर उन्होने अपने होंठों से मेरी चूत को जाकड़ लिया और बड़ी जोरों से चूसना शुरू कर दिया ..मुझे ऐसा लगा मेरी चूत से रस की धार निकल रही है और उनके मुँह में जा रही है.......लग रहा था जैसे मेरा पूरा बदन कोई नीचोड़ रहा हो ......पापा ने मेरे चूतड़ भी बड़े जोरों से जाकड़ रखा था .....

मम्मी का मुँह और मेरी चूत की अच्छी चुसाइ हो रही थी .... भैया के लंड की घिसाई भी हो रही थे मम्मी के कमरबन्द से ....और पापा का लंड हवा में लहरा रहा था , एक दम तन्नाया ...

हम सभी सीसक रहे थे , सिसकारियाँ भर रहे थे ....ऊऊऊऊऊ....आआआआआआः ....उफफफफफफ्फ़ ....

'पापा ...पापा ....अब और नहीं ...देखिए ना आप का लंड कितना कड़क है..और मेरी चूत कितनी गीली ....अब प्लज़्ज़्ज़ डाल दो ना लंड मेरे अंदर ..प्लज़्ज़्ज़ पापा ...." मैने अपने हाथ पीछे करते हुए उनका लंड थाम लिया और कहा.

" हाँ ..मेरी रानी बेटी ..हाँ .....मैं भी तड़प रहा हूँ कई दिनो से तुम्हारी चूत के लिए .....लो लो मेरा लौडा ..लो ...." और ऐसा कहते हुए मुझे उन्होने थोड़ा नीचे कर दिया ...मैं उनका लौडा अपने हाथ मे जड़ से थामते हुए अपनी चूत उसके उपर रख बैठ गयी .....चूत इतनी गीली थी ..पूरा लंड जड़ तक समा गया ......और इतनी सिहरन हुई मुझे , मैने पापा को जाकड़ लिया ...उनसे बुरी तरह लिपट गयी ...और पापा नीचे से धक्के लगाने लगे और मैं भी उनके धक्के में ताल मिलाते हुए उपर नीचे होने लगी .....मेरी पीठ झूकि थी ..मेरा चूतड़ उपर उठा था ..और गान्ड के होल ख़ूले थे ....मैं पापा की कमर जाकड़ उन्हें चोद रही थी ..सतासट फतचा फतच ..

तभी शायद मम्मी ने मेरी गान्ड की गुलाबी होल देख ली थी ...उन्होने कहा " उफफफफ्फ़ दामिनी ..क्या गान्ड की होल है रे तेरी ..मन करता है चाट जाऊं ......"

और फिर उन्होने भैया को अपने उपर से हटाया और उनसे फूसफूसाते हुए कुछ कहा ,,मुझे सिर्फ़ आवाज़ सुनाई दी ..मैं तो बस पापा से चुद्ने में मस्त थी ...

थोड़ी देर बाद मुझे अपनी गान्ड की होल में कुछ ठंडक महसूस हुई और कुछ गीलापन भी ..थोड़ा पीछे मूड कर देखा तो मम्मी डॉगी पोज़िशन में बिल्कुल पीछे खड़ी थी ..कमर झुकाए ..जिस से उनका चूत और गान्ड दोनों उपर उठे थे और भैया अपना तननाया लौडा हाथ में लिए सोच रहे थे के कहाँ से शुरू करूँ ..मम्मी की गान्ड यह चूत ..?? दोनों होल मस्त थे उनके और मम्मी झूकि हुई मेरी गान्ड चाट रही थी .......

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 23 Dec 2014 08:48

उफफफ्फ़ मैं तो जैसे स्वर्ग में थी ..पापा का लंड चूत में और मम्मी की लपलपाति जीभ मेरी गान्ड के होल में .....गान्ड चाटने से चूत भी सिहर जाती ...."ऊऊऊऊऊऊओ उउउउउउउउउउउउ ...आहह " की रट मैं लगाई थी

और उधर भैया पीछे से मम्मी की कमर जकड़ते हुए पहले उनकी गान्ड पर हमला बोल दिया .....मैने पीछे सर मोड़ कर देखा .....मम्मी चीहूंक गयीं और उनका मेरा गान्ड चाटना और तेज़ी पकड़ लिया .....और मेरी चूत लगातार पापा के लंड को शराबोर किए जा रही थी ..पापा को धक्के लगाने में खूब मज़ा आ रहा था ..इतनी गीली हो गयी थी मेरी चूत .....पानी जैसे बह रहा था ...इतनी फिस्लन थी अंदर ..पापा थोड़ा सा पुश करते और लंड फिसलता हुआ जड़ तक पहुचता था

और भैया के लंड को तो दो दो होल का मज़ा मिल रहा था ..वे बारी बारी से मम्मी की गान्ड और चूत दोनों का मज़ा ले रहे थे ..दो बार गान्ड में डालते तो दो बार उनकी चूत में .....मम्मी कहती जातीं ....

"वाह ..वा मेरे राजा ..आख़िर है तो मेरा बेटा ..अब चुदाई एक्सपर्ट हो गया है ...हाँ हाँ आज फाड़ डाल मेरी गान्ड और चूत ....उफफफफफफफफफफ्फ़ .....आआआआआअहह ........हाई ..हाई ..उईईईईईईईईईईईईईईईईईईई"

और उनका मेरा गान्ड चाटना खूब तेज़ हो गया था ..उनके चाटने से गान्ड का होल खूल गया था ..मम्मी अब जीभ अंदर डाल दी मेरी गान्ड में और जीभ से मेरी गान्ड चोदने लगीं .......'

मेरी चूत और गान्ड दोनों चुद रहे थे ....चूत में पापा का लंड और गान्ड में मम्मी की जीभ ..माँ और बाप दोनों बेटी को चोद रहे थे

बेटा माँ की गान्ड और चूत दोनों ले रहा था ..क्या चुदाई थी ..पूरी फॅमिली एक साथ .......उफफफफफफ्फ़ ....उस दिन जैसा मज़ा कभी नहीं आया ..

पापा के धक्के ज़ोर पकड़ते गये ..मेरा भी उनके लंड पर उछलना उनके धक्कों के साथ ताल मिलता था ..और मम्मी की चुदाई जितनी ज़ोर पकड़ती उतने जोरों से मेरी गान्ड जीभ डाल देतीं ..उनकी तो गान्ड और चूत दोनों बारी बारी से चुद रहे थे ....

और पायल आंटी लगातार अपनी चूत में उंगली डाले जा रहीं थी ..पैर फैलाए ...हाीइ हाईईइ अफ उफफफ्फ़ कर रही थी

फिर पापा और भैया के धक्कों ने बड़ी ज़ोर पकड़ ली ..मम्मी की कमर झूक जातीं

''बेटा मेरी चूत में ही झड़ना ..." जब उन्हें ऐएहसास हुआ के भैया अब झडने वाले हैं उन्होने उन्हें समझा दिया

"हाआँ मम्मी ..हाां ....आआआआआआआअहह ऊहह " उन्होने उनकी चूत में लंड डाल जोरों से धक्के लगाना शूर्रू कर दिया था .और इधर पापा भी झडने के करीब थे ..मैं उनसे चिपक गयी ..और चूत उनके लंड पर दबाए रखा ..पापा ने भी मुझे जाकड़ लिया ..मुझे चूमने लगे ..मेरी चुचियाँ चूसने लगे और मेरी चूत में उनका लौडा झट्के ख़ाता झाड़ रहा था

भैया भी मम्मी की पीठ पर उनकी कमर जकड़े ढेर थे और लंड उनकी चूत में गर्म गर्म वीर्या की धार लगातार झट्के ख़ाता चोदे जा रहा था .......

हम चारों एक दूसरे पर निढाल हो कर पड़े थे ....

और पायल आंटी भी झाड़ रही थी ...

वो रात हमें हमेशा याद रहती है ....ऐसी रात जिसमें चुदाई का कोई अंत नहीं था ..मस्ती की कोई सीमा नहीं थी , हम सब मदहोश थे .....

हम सब एक ऐसी दुनिया में खोए थे , जहाँ हम अपने आप को भूल बैठे थे ....और एक दूसरे में खो गये थे ....एक दूसरे का मज़ा ले रहे थे , एक दूसरे को मज़ा दे रहे थे ..वहाँ कौन छोटा , कौन बड़ा , कौन बाप , कौन बेटी , कोई रिश्ता नहीं था ....रिश्ता था तो सिर्फ़ चूत और लंड का ...भाषा भी इन्हीं दोनों की थी ....इसी भाषा में हम अपनी भावनाए व्यक्त कर रहे थे ....और ये ऐसी भाषा थी जो सब रिश्तों से उपर प्यार और नज़दीकी की भाषा थी ....जिसस्में ज़ुबान कम और स्पर्श का ज़्यादा काम होता ...

खूब चुदाई , चुसाइ हुई..