मस्तानी ताई

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:49


Taiji ko bhi bohat acha lag raha tha, woh kuch bol nahi rahi thi, par aankh band kar siskiya le rahi thi, phir meine himmat karke apna haath upar ki taraf le gaya aur unke blouse ka border mere haath mein touch hua, mera pura sharer kaanp gaya yeh sochke ke ab aage kya hua, mera dil bada teji se dhadak raha tha, aur shayad taiji ka bhi yehi haal tha, meine dheere dheere haath upar ki taraf le jane laga aur meri dhadkan tej ho rahi thi, taiji bhi excited ho rahi thi, meine apna haath taiji ke boobs tak le gaya, ab hum dono jante the kya ho raha hai par kisi ke muh se ek shabd nahi nikla, aur taiji ne roka nahi kyun ki janti the ke sheher pohchne mein abhi der thi, meine dheere dheere right boob ko sehlana shuru kiya, unka nipple erect ho gaya, aur ab meine usse halke se dabana shuru kar diya, woh aahen bhar rahi thi siskiye le rahi thi, ab meine thoda aur jor se right bood dabaya aur nipple ko ungli ke beech dabaya unke muh se jor se aaaaaahhh nikal gayi, woh aahen bharte hue puch rahi thi, beta tum yeh aaaahh kya kar rahe ho, meine kaha taiji mein to aapko comfortable kar raha hu na

Kyaa aap comfortable ho, haaan beta aaaah bada acha lag raha hai, phir meine dono haathon se unki chuchiyan dabane laga aur nipple ungliyon ke beech masalne laga, hum dono hosh kho baithe the, phir meine blouse ke 2 hook khol diye woh kehne lagi kya kar rahe ho beta koi dekh lega mein kahan koi nahi hai yahan aapke aur mere siway, woh rukne ke liye kehti rahi par mera haath hataya nahi wahan se… phir meine 2 hook khol ke blouse ko thoda uncha kiya par puri tarah ho nahi pa raha tha, phir meine 2 hook aur khol diye aur ab blouse almost upar ho chukka tha, meine bra ke upar se chuchiyon ko masal raha tha aur pagal ho raha tha, woh bhi mera pura saath de rahe thi, aur keh rahi thi ohhhh aaaaaaaaaahhhhhhhhh yeh kya kar rahe ho, hume yeh sab nahi karna chahiye, ohhh beta pls ruk jao, aaaaah aaaa uuuuiiii maaaa marrrr gayiiiii, aaah aaah uuuuuuuuiiiiiiii mmaaaaaaaaa, mein bhi bekabu hota ja ra raha tha, meine unke muh ko apni peeche ki ore moda aur unke honth pe apne honth rakh diya aur kiss karne laga, woh bhi pura saath de rahi thi, phir meine apni tongue unke muh mein daal di unhone muh khola aur usse under liya aur meri tongue to suck karne lagi, kuch der kiss karne ke baad who phir seedhi hoke baith gayi aur meine bra ke under haath daal kar nangi chuchiyon ko dabana shuru kar diya, unki awaaz badne lagi thi, woh kahe ja rahi thi, ohhhh aaaaaaaaaaahhhhhhhh , who dheere dheere keh rahi thi dabao aur dabao, ooooooooohhhhhhhh aaaaaaaaaahh hhhhhoooooooo, masal ke rakh de….

Ab meine apne haath chuchiyon se hataya aur unki tango pe ghumane laga, woh samajh gayi thi ab mein kahan ja raha hun par kuch nahi boli bas apna pura sharer mere body pe rakh ke aankh band kar ke le gayi, is samay taiji mere left shoulder pe sar rakh ke leti hui thi, unki peeth meri chhati se chiki hui thi, unka blouse aadhe se jyada khula hua tha aur chuchiyan bahar thi, bada hi exciting view tha, aur mein soch bhi nahi sakta tha ke unhe pane ka armaan ek samaan le jane wali auto mein pura ho raha hai, ab mein unki inner thighs feel kar raha tha, woh bas aankh band kar leti hui thi, mujhe bada maja aaraha tha, meine ab dheere dheere saree upar karna shuru kiya, unki saanse tej ho rahi thi par woh kuch boli nahi, ab mein ek haath se unki nangi chuchiyon ko daba raha tha aur doosre haath se saree upar kar raha tha, ab unki saree thighs tak upar aa chuki thi, aur unki thighs bohat chikni thi, aur shayad taiji waxing karwati thi isliye bohat mulayam bhi thi, ab mein unki inner thighs feel kar raha thi, woh pleasure se kara rahi thi, ooooohhhh aaaahhhhh, ab meine apna haath unki chut pe rakh diya, taange judi hone ki wajah se puri tarah haath nahi ghuma pa raha tha, par taiji ab bohat excited ho chuki thi, ab meine unki panty mein side se ungli dalne ki koshish kar raha tha, aur unki chut ke baal mere haath mein touch the, mere sharer mein bijli si daud gayi aur meri ungliyon ka sparsh pate hi taiji bhi seham gayi, ab mein apni ungli unki chut pe ghuma raha tha, woh kaafi gili thi, aur puri chut chikni ho chuki thi, meine woh ungli bahar nikali to taiji ne meri taraf dekha, shayad woh nahi chahti thi ke mein ruku, meine apni ungli ko pehle sungha aur phir usse chatne laga, yeh dekhkar taiji sharma gayi aur mere left gal par kiss kar diya par kuch boli nahi


Tabhi taiji ne time dekha to woh samajh gayi kuch hi der mein sheher aane wala hai, unhone apne kapde thik kiye aur tarike se baith gayi, kuch hi minute baad sheher aagaya hum utar gaye, ab hum dono ek doosre se najar nahi mila rahe the, meine us rickshaw wale se pucha ke aap wapas jaoge uss area mein to usne kaha haan par 2 ghante baad yahin se gujrunga, woh sheher mein kuch samaan dekar wapas aane wala tha, par usne kaha auto khali nahi hoga usme samaan hoga meine kaha koi baat nahi.


Khair hum doctor ke pass thoda chale ke pohche wahan se tauji ki dawaai aur maalish ka tel wagera liya, taiji ne kaha unhe ghar ka bhi kuch samaan lena hai, phir hum ghar ka samaan le kar free ho chuke the, phir taiji ne kaha unhe fresh hona hai aur hum ek chote guest house gaye wahan humne fresh hone ke liye room manga to room tha nahi par unhone kaha ke agar bathroom jana hai to unka bathroom use kar sakte the, phir hum dono baari baari kar ke fresh hue, takreeban 2 ghante beet gaye the par hum dono ne ek doosre se kaam ke ilawa koi baat nahi ki, phir meine unse pucha wapas jane ko koi sadhan milege to unhone batay ke bus mil jayegi jahan hum utre the wahan se. phir meine ek dukaan mein jake 2-3 condom packet ke khareed liye, phir hum chalte chalte highway pe pohch gaye, bus stop pe kaafi bheed thi, phir jab bus aati to iss baar taiji ne kaha isse jane de agli bus le lenge, kuch der tak wait karne ke baad woh auto wala phir se wahan se gujra aur hume dekh kar ruk gaya, meine taiji ki taraf dekha to unhone mujhe ek naughty smile di, aur kehne lagi lagta hai isi mein jana thik rahe ga, phir hum auto ke peeche baith gaye, usne utni hi jagah banayi jitni subeh thi.

Pehle mein baitha aur phir taiji, shuruaat mein too woh aage ki taraf baithi thi, phir jab auto shuru hua to aaram se mere lund pe baith gayi, iss baar woh thoda bold pesh aa rahi thi par kuch bol nahi rahi thi, phir jab meine unke pet par haath rakha to kuch bhi jawab nahi aaya, meine samajh gaya ke woh bhi usi ka intzar kar rahi thi, phir meine bina hichkichai blouse ke ek ek karke sare hook khol diye aur jor jor se boobs bra ke upar se dabane laga, who siskiya bhar rahi thi, ab meine piche se bra ka hook bhi khol diya aur nange boobs ko apne haath mein lekar bheechne laga, aur unki nipples ko ungli ke beech le kar dabane laga, woh bhi pure josh mein aa rahi thi, aur jor jor se uuufffff aaaaahhhh aaurrr jorr see keh rahi thi, phir meine unki saree upar kar di aur ishare se unhe thoda uthne ke liye kaha aur jab woh uthi to meine saree kamar tak upar le li, ab aage se agar koi dekhta to pata nahi chalta ke saree piche se kamar tak chadayi hui hai, phir meine apna haath unki jhangho aur chut ke pass ghumane laga aur panty ke upar se hi chut sehla raha tha, woh pagal hue ja rahi thi, unhone mujhe bohat tight pakad rakha tha matlab unke haath meri tango pe the, aur woh aahen bhare ja rahi thI .
kramashah................

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:49

गतान्क से आगे...............

फिर एक बार मेने उन्हे उठने का इशारा किया वो समझ गयी और हल्का सा उठ गयी, फिर मेने झट से उनकी पॅंटी नीचे सर का दी, वो फिर से बैठ गयी, अब मेने हल्का सा उनकी टाँगो को फैलाया ताकि चूत पे आछे से हाथ घुमा सकूँ, उनकी एग्ज़ाइट्मेंट का ठिकाना नही रहा, उनके पाँव शेक कर रहे थे, पर दोस्तों इन सब के बीच हम एक दूसरे से बात नही कर पा रहे थे, क्यूँ की हम जानते थे यह ग़लत है पर अपने अपने शरीर के हाथों मजबूर हो चुके थे, फिर में अपने हाथ से उनकी चूत को दबा रहा था, वो बोहत तेज़ी से साँस ले रही थी और अपने होंठ अपने दातों तले दबा रही थी ताकि आवाज़ आगे ना जा पाए, फिर मेने दोनो हाथों से उनकी चूत खोली, उसमे से बोहत सारा पानी मेरे हाथों में आगया, और मेरे दोनो हाथों की उंगली गीली और चिकनी हो गयी थी

फिर में उनकी चूत के दाने को सहला ने लगा, वो पागल होगयी और मेरे लेग्स को और ज़ोर से दबाने लगी, और छटपटा ने लगी, और फिर मेने उनकी चूत में उंगली डाल दी, हालाकी उनकी चूत टाइट नही थी, पर काफ़ी कसी हुई थी उनकी एज को देखते हुए, जैसे ही मेने उंगली अंदर डाली उनके मूह से ज़ोर से आआआआआआहह निकल गई उउउउईईईई माआआआआ ऊऊऊऊऊऊऊहह आआआआआआहह, दोस्तों क्या बताउ उनकी चूत कितनी गर्म थी, मेने उंगली अंदर तक डाल दी, और उसे बाहर निकाल के सूंघने और चाट ने लगा, वो बोहत गरम हो चुकी थी पर कुछ कर या बोल नही पा रही थी, अब मेने 2 उंगली उनकी चूत में डाल दी वो ज़ोर से चिल्ला उठी, हाऐईयईईईईईईईईईई दाईईईय्ाआआआ मर गयी, और मेने उंगली अंदर बाहर करने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी और उंगली के साथ उपर नीचे हो रही थी, मेने धीरे धीरे अपनी स्पीड बढ़ाई वो भी मेरी उंगली का पूरा साथ दे रही थी, और ज़ोर ज़ोर से ग्रोन कर रही थी, फिर अचानक धीरे से उन्होने ने कहा राज और तेज शायद वो झड़ने वाली थी, मेने अपनी स्पीड बढ़ा दी और वो एग्ज़ाइट्मेंट में ओह आअहह हाआन हाना और तेज आऔर तेजज कह रही थी, रुकना नही आआहाआ आहह, फिर उनकी बॉडी अकड़ गयी में समझ गया या वो झाड़ गयी या झड़ने वाली है, और फिर उनकी चूत से बोहत सारा गरम पानी निकला सारा मेरे हाथ में गिर गया और कुछ मेरी पॅंट पे गिर गया, मेने पूरा पानी चाट के सॉफ कर दिया, वो मुझे देखती ही रह गयी, फिर उनका शरीर ढीला पड़ने लगा, वो मुझ पे टेका देके लेट गयी, घर पोहचने का टाइम भी हो रहा था, फिर मेने उनसे कहा शायद हम पोहचने वाले हैं, उन्होने अपने कपड़े ठीक किए और सब कुछ ठीक तक किया और हम अपने घर के रोड पे उतर गये, हम घर की ओर पेदल चल रहे थे, हम दोनो एक दूसरे से बात नही कर रहे थे, नही आँख मिला पा रहे थे, हम जब घर के करीब पोहचे तो देखा सुजाता दीदी बस स्टॉप की तरफ आरही थी.


हमने पूछा तो उन्होने बताया कि दुकान से कुछ समान लेना है, फिर मेने उनसे वो लिस्ट ली और समान लेने चला गया, जब थोड़ी देर बाद समान लेकर लौटा तो देखा सुजाता दीदी खाना लगा रही थी, मेने उनसे पूछा ताइजी और पूजा कहाँ है तो कहने लगी मा हाथ मूह धो रही है और पूजा अपने दोस्त के यहाँ पढ़ने गयी है फिर हम तीनो ने मिलकर खाना खाया और इस दौरान ना ताइजी ने ना मेने उनकी तरफ देखा, में और सुजाता ही बात कर रहे थे, फिर हम सोने चले गये, शाम करीबन 5 बजे जब में उठा तो देखा दीदी अपना घर का काम कर रही थी, और ताइजी गरम पानी में पाँव डाले बैठी थी, उनके पाँव की उंगलिया सूज गयी थी, शाम ऐसे ही बीत गयी, फिर रात में मैं बाहर निकल गया और देर से घर आया देखा तो ताउजी के कमरे की लाइट भी ऑफ थी, सोचा सब सो गये होंगे, अब मेरा मंन और कहीं नही लग रहा था, मैं बस ताइजी को चोदने के लिए बेताब हुआ जा रहा था, पर ऐसे ही बिना कुछ हुए काफ़ी दिन बीत गये, फिर एक दिन दीदी ने कहा के उन्हे यूनिवर्सिटी से कुछ पेपर लेने जाना है शहेर, तो पूजा के साथ जाने के लिए ताइजी से पूछ रही थी, ताइजी ने हां कर दी, दूसरे दिन सुबेह तड़के वो दोनो शहेर के लिए निकल गये, अब में ताउजी और ताइजी ही थे, सुबेह जब में उठा तो ताइजी घर का सारा काम कर चुकी थी और मुझे देख के कहा नाश्ता कर लो, फिर मुझे जाना है और दोपेहेर तक वापस भी लौटना है, मेने हिचकिचाते हुए पूछा आप कहाँ जा रही है, तो उन्होने बताया के ताउजी की बीमारी के बाद खेत खलियान पे ध्यान नही दिया है और वोही देखने जाना है, मेने कहा में भी चलता हूँ आपके साथ तो उन्होने कहा घर पे कौन रहेगा मेने कहा किसी नौकर को कह दो, तो वो कुछ नही बोली, और कहा पहले नाश्ता कर ले फिर देखते हैं.


फिर नाश्ता करने बाद में तैयार बैठा था तभी ताइजी नीचे आई और उन्होने ब्राउन कलर की सारी पहनी थी और मॅचिंग ब्लाउस भी पहना था, वो बड़ी ही सेक्सी लग रही थी, में उन्हे देख के मुस्कुराया वो भी देख के मुस्काई और हम चल पड़े खेत की तरफ, मेने पूछा घर पे कौन रहेगा तो उन्होने कहा चल तो सही, फिर हम पंप हाउस पे पोहचे वहाँ भोला और पार्वती दोनो थे, मेने दोनो पे ध्यान नही दिया, ताइजी को देख कर उन्होने राम राम किया और उनसे वहाँ आने का कारण पूछा, तभी ताइजी ने कहा भोला तुम और पार्वती घर जाओ और भोला तुम मालिक का ख़याल रखना और पार्वती तुम घर का काम और दोपेहेर का खाना बना लेना, और मेरे वापस आने तक वहीं रुकना, वो यह सुनते ही घर की ओर चल दिए, ताइजी भी आगे बढ़ गयी, में भी उनके पीछे पीछे चल पड़ा, ताउजी का खेती का बड़ा काम है, उनके पास बोहत जयदाद थी, ताउजी ने हर खेत को किसी ना किसी को चलाने दिया था, काफ़ी देर चलने से ताइजी के पाँव दुखने लगे थे, मेने कहा थोड़ी देर आराम कर लो, उन्होने कहा के थोड़ा दूर ही पंप हाउस है वहाँ आराम कर लेंगे, हम दोनो पस्सीने से भीग गये थे, और शरीर में काफ़ी मिट्टी भी लग चुकी थी, पंप हाउस पहुचते ही मेने देखा के बोरेवेल्ल ऑन है, मेरा मंन किया के नहा लूँ, पर फिर कुछ कहा नही, हम दोनो पंप हाउस के अंदर चले गये ताइजी खाट बे बैठ गयी और राहत की साँस लेने लगी, मेने उन्हे पानी दिया और वो शायद बोहत प्यासी थी उन्होने पूरा पानी पी लिया फिर मेने एक और ग्लास भर के दिया थोड़ा उनकी सारी पर से ब्लाउस पे गिर गया और उनकी काले रंग की ब्रा नज़र आने लगी यह सब देख के मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा था.


मेने फिर ताइजी के लिए हाथ पंखा चलाया उन्हे काफ़ी आराम मिल रहा था, हम दोनो के कपड़े पसीने से भीग चुके थे, मेने कहा बोहत गर्मी है तो उन्होने कहा हां है तो सही पर क्या कर सकते हैं, मेने कहा मेरा तो नहाने का मॅन कर रहा है, वो बोली मंन तो मेरा भी कर रहा है पर यहाँ कैसे नहाएँगे, मेने कहा आप कोई और कपड़ा पहन लो, वैसे इतनी तेज धूप में कौन आएगा और भोला और पार्वती तो घर पे है, वो कुछ नही बोली थोड़ी देर, फिर कहने लगी कपड़े कहाँ है नहाने के, मेने कहा आप कोई चादर या कपड़ा लपेट लो और अपने कपड़े सूखने डाल दो, वो सोचने लगी और फिर कहा जा तू जाके नहाना शुरू कर में देखती हूँ कुछ, फिर उन्होने बताया के साबुन वगेरा कहाँ पड़ा है, में बाहर चला गया और अपने सारे कपड़े उतार दिए और सूखने डाल दिए, वहाँ एक गमछा सुख रहा था, शायद भोला का था मेने वो बाँध लिया और पाइप से निकलते हुए ठंडे पानी के नीचे खड़ा हो गया, मुझे बड़ा आराम मिल रहा था, फिर थोड़ी देर बाद ताइजी बाहर आई, मेने देखा उन्होने पेटिकोट पहन रखा है शायद वो पार्वती का होगा, उन्होने सारे कपड़े सुखाने डाल दिए, जब वो कपड़े सूखा रही थी तो मेने देखा के उन्होने भी मेरी तरह अंदर कुछ नही पहना था, में बोहत खुश हुआ और उनके पानी में आने का इंतज़ार करने लगा.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:50



फिर उन्होने मुझसे हटने को कहा और खुद पाइप के नीचे खड़ी होगयि, जैसे ही पानी उनके उपर से बहने लगा पेटिकोट पूरा उनके शरीर से चिपक गया और उनकी बॉडी का शेप क्लियर दिखने लगा, ताइजी की गांद मेने सोचा था उससे भी बड़ी थी, फिर क्या था उनकी गांद देख के मेरा लंड एक दम खड़ा हो गया, अब इतना बड़ा हो चुक्का था के गम्चे से बाहर दिखने लगा था, फिर ताइजी पत्थर पे बैठ गयी और अपने आप को हाथ से साफ करने लगी, मेने साबुन नही लगाया था अभी तक, उन्होने मेरी तरफ देखा और कहा साबुन नही लगाना जल्दी कर कोई आजाएगा, मेने कहा आप ही लगा दो ना, वो बोली क्यूँ तू नही लगा सकता मेने कहा लगा तो सकता हूँ पर थक गया हूँ, फिर बोल बोली तू पत्थर पे बैठ जा में साबुन लगा देती हूँ, मेरी खुशी का तो ठिकाना नही है, फिर में पत्थर पे बैठ गया, और ताइजी ने पहले मेरे सर पे और फिर पीठ पे आछे से साबुन लगाया और फिर छाती और पेट पे लगाने लगी, वो जैसे नॉर्मली साबुन लगाते हैं वैसे नही लगा रही थी, वो मेरी बॉडी के एक एक पार्ट को फील कर रही थी, और अपनी आँखें बंद कर एंजाय कर रही थी, फिर उन्होने कहा चल खड़ा हो जा बाकी शरीर में भी लगा देती हूँ, उनके स्पर्श से मेरा लंड एक दम टाइट हो चुक्का था, और जब में खड़ा हुआ तो उन्होने मेरे लंड की तरफ देखा और मुस्कुराने लगी, फिर वो मेरे आगे झुक के टाँगो पे साबुन लगा रही थी, इस पोज़िशन मेरा लंड उनके मूह से कुछ ही दूर था, वो मेरी टाँगो पे साबुन लगाने के बाद उपर से नीचे तक हाथ घुमा रही थी, अब उनका हाथ अप्पर थाइस पर भी टच हो रहा था, फिर उन्होने कहा गमछा निकाल दे में आछे से साबुन लगा देती हूँ, मेने कहा मुझे शरम आती है, तो वो हंस पड़ी और कहने लगी के बचपन में तू नंगा ही घूमता रहता था घर में, और वैसे भी वो सब करते शरम नही आई जो अब शर्मा रहा है, उनका मतलब पंप हाउस और ऑटो की बात से था, मेने कुछ नही बोला और सर झुका लिया उन्होने मेरा गमछा निकाल दिया और पहले मेरी कमर और नीचले भाग में साबुन लगाया और फिर मेरी बॉल्स पे और उसके नीचे पे साबुन लगाया, और फिर साबुन हाथ में मलते हुए मुझसे चिपक गयी और मेरी गांद पे साबुन लगाने लगी, इस पोज़िशन में मेरा लंड उनकी चूत से टकरा रहा था, और मुझे बड़ा मज़ा आरहा था, और मूह से आवाज़ें निकल रही थी, पर में कुछ बोला नही और इस सिचुयेशन का आनंद उठा रहा था, वो भी मुझसे चिपक के खड़ी थी और मेरे लंड का मज़ा ले रही थी, हम दोनो ही एक दूसरे की बॉडी का मज़ा ले रहे थे, फिर थोड़ी देर बाद वो अलग हुई और दोनो हाथों में साबुन मलते हुए मेरे लंड पे साबुन लगाने लगी, सच बताउ दोस्तों जैसे ही उनका नरम हाथ मेरे लंड पे पड़ा मुझे लगा में स्वर्ग में हूँ, और वो इतने प्यार से मेरे लंड पे हाथ घुमा रही थी और उसे घुरे जा रही थी, वो शायद मेरे लंड का साइज़ देख के हैरान थी, कुछ देर बाद मुझे ऐसा लग रहा था के वो मुझे मास्टरबेट करवा रही हैं, और एक पल तो ऐसा आया के में झड़ने वाला था, पर उन्होने शायद भाप लिया और मेरे लंड से हाथ हटा दिया, में बड़ा निराश हुआ, ताइजी ने मुझे बड़ी ही नॉटी स्माइल दी, और कहने लगी चल अब नहा ले और में भी साबुन लगा के नहा लेती हूँ.

मेने उनसे पूछ लिया के क्या में भी आप को लगा दूं, तो वो बोली नही में लगा लूँगी पर में उनसे ज़िद करने लगा के में लगा देता हूँ, बोली ठीक है, अब में खड़ा था उनके सामने और वो बैठी हुई थी, अब मेने पहले उनके सर पे साबुन लगाया और आछे से उनके सर पे हाथ घुमाया, उन्हे बड़ा आराम मिल रहा था, फिर साबुन हाथ में मल के मेने उनके नेक और शोल्डर पे लगाया उनका शरीर काफ़ी चिकना था एक दम मक्खन के जैसा मुझे बड़ा मज़ा आरहा था और वो भी आँख बंद किए साबुन लगवा रही थी और मज़े ले रही थी, फिर मेने साबुन को हाथ में मला और छाती का जो हिस्सा पेटिकोट से बाहर था उसपे लगाने लगा, क्या बताउ कितना मज़ा आरहा था, मंन कर रहा था पेटिकोट के अंडर हाथ डाल के चुहिया को फिर से भीच दूं, पर मेने उन्हे और सिड्यूस करने का सोचा, और फिर उसी तरह मेने पीठ का जो हिस्सा पेटिकोट से बाहर था उसपे साबुन लगाया, अब मेने ताइजी से कहा आप खड़ी हो जाइए ताकि में बाकी के शरीर पे भी साबुन लगा सकूँ, वो खड़ी हो गयी और जैसे ही मेने साइड से नाडा खोलने की कोशिश की और मेरे हाथ को रोक दिया मेने कहा क्या हुआ, तो वो बोली रहने दे, मुझे कुछ समझ नही आया, और मेने उनसे पूछा तो में साबुन कैसे लगाउन्गा वो बोली ऐसे ही लगा ले, तब उन्होने के कहा के यह ओपन जगह है कोई भी आ सकता है, मेने समझ गया और कुछ नही बोला फिर मेने साबुन अपने हाथों में लिया और घुटनो के बल नीचे बैठ गया और उनके पाँव पे साबुन लगाने लगा, मेने साबुन आछे से अपने हाथों पे मला और पूरी टाँगो पे लगाने लगा, में उनके पाँव पे नीचे से उपर तक हाथ घुमा रहा था, पर में उनकी चूत पे नही गया, और फिर वैसे ही साबुन को हाथ में मलके पेटिकोट के अंदर हाथ डालकर टाँगो के पीछे के हिस्से में उपर से लगाने लगा, ताइजी की टाँगे गोरी थी और एक भी बाल नही था, उन्हे छू ने में मुझे बड़ा मज़ा आरहा था, और अब में खड़ा हुआ और उनके पीछे खड़ा हो गया और हाथ में साबुन लेके उनके पेटिकोट के अंदर हाथ डालकर उसे कमर तक उँचा कर दिया और अब वो नीचे से पूरी नंगी थी, मेरे पीछे होने के वजह से मैं उनकी चूत तो नही देख पाया पर उनके चूतड़ ज़रूर देखे, एक दम गोरे गोरे फूले हुए, वो बोली क्या कर रहा है मेने कहा साबुन लगा रहा हूँ, वो कुछ नही बोली, अब मेने साबुन लगा हाथ उनकी चूत पे रख दिया वो काँप गयी और अपने शरीर का वजन पीछे की तरफ करने लगी, फिर मेने दोनो हाथ से उनकी चूत पर उपर से नीचे तक साबुन लगाया और आछे से हाथ घुमा रहा था, अब मेने उनकी चूत की लकीर पे उंगली घुमा रहा था, और वो एक दम गरम हो चुकी थी, मेने उनके चूत के दाने को दबाया तो उनके मूह से हल्की सी चीख निकल गयी, उन्होने कुछ नही बोला और ज़ोर ज़ोर से साँसे लेने लगी, अब में थोड़ा झुका और इस पोज़िशन में मेरा लंड ताइजी की गांद के छेद के सामने था, मेने अपने लंड सीधा किया और उनकी चूतदों के बीच सेट कर दिया, अब में उनकी चूत में उंगली कर रहा था और उनकी गांद पे लंड भी घिस रहा था, वो भी मेरे साथ दे रही थी, वो अपनी गांद पीछे की तरफ पुश कर रही थी, और मेरी उंगली उनकी चूत की सैर कर रही थी, इतना अछा और थ्रिलिंग एक्सपीरियेन्स लाइफ में कभी नही मिला था, जैसे ही में झड़ने वाला था मेने अपने आप को रोक दिया और उनसे अलग हो गया यह देख के ताइजी निराश हुई और गुस्से से मेरी तरफ देखा मेने वोही मुस्कान उन्हे वापस दी जो उन्होने मुझे दी थी जब उन्होने बीच में छोड़ा जब में झड़ने वाला था तब, खैर में उनके सामने आके खड़ा हो गया और फिर से अपने हाथ में साबुन लगाया और उनका पेटिकोट उँचा करके उसके अंदर हाथ डालकर उनकी गांद पे साबुन लगाने लगा, ओह्ह वो तो खुश हुई पर मुझे भी बड़ा मज़ा आरहा था, अब मेरा लंड उनकी चूत के सामने था, और मेने उन्हे अपने से सटा लिया और गांद पे साबुन लगाकर हाथ घुमाने लगा, वो भी ऊऊओ आआअहह हाआआआईयईईई, फिर मेने उनके चूतड़ को फैलाया और उनके चूतड़ के बीच हाथ घुमाने लगा, उनकी गांद गरम थी, अब मेने एक उंगली उनकी गांद में घुसाने की कोशिश की, वो रेज़िस्ट कर रही थी पर मुझे हटाया नही और कुछ बोली भी नही, मेने धीरे धीरे उनकी गांद में उंगली घुसा दी और उसे अंदर बाहर करने लगा, मेने जिंदेगी में पहली बार किसी औरत की गांद में उंगली की थी, और क्या मज़ा आया, उस आनंद को बयान करना मुश्किल है उनकी गांद अंदर से किसी भट्टी की तरह गरम थी, अब मेरा लंड उनकी चूत से टकरा रहा था, वाह क्या मज़ा आरहा था, मंन कर रहा था लंड घुसेड दूं पर अब में उनके मूह से सुन ना चाहता था, में ऐसे ही लंड टच करता रहा, कई बार तो ऐसी पोज़िशन में आए के लंड उनकी चूत के मूह पे ही अटक गया पर मेने पुश नही किया, ताइजी समझ गयी कहने लगी चल नहा ले, बोहत साबुन लगा लिया..