दामिनी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit webvitaminufa.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 20 Dec 2014 08:25



Daamini--30

gataank se aage…………………..

Uffff kya chudaai THEe ..

Man karta bas Papa mujhe aise hi chodte rahein aur main unke neeche chudti rahoon ......

Baap Beti ke pyaar ki chudaai mein anand ki koi seema nahin hoti ... ye aaj mujhe achhee tarah maaloom ho gaya ...



Aisi chudaai ke baad neend bhi bahut achhee aati hai...main Papa ke seene se chipak kar so gayi ... subah uTHEe to dekha main akele hi bed par thee ..mere upar ek patli si chadar rakhee thee aur Papa apne appointments mein ja chooke THE ..maine ghadi dekhi to 10 baj chooke THE ..

Maine ek badi si angdayi leTe hue beestar chod diya aur bathroom se fresh ho kar aa gayi ..nashta already laga tha ...bhookh bhi joron ki lagee thee ...main toot paDi ...aur us ke baad cmptr on kiya ...kal sham aur raat ke Bhaiyaa aur MAMMI ki harkaton ka byora dekhne ko man machal raha tha ..


E-mail tha Bhaiyaa ka ..lagta hai aaj subah subah hi unhone mail kiya tha ...Bhaiyaa bhi apni batein share karne ko lagta hai bahut utawle THE ..maine paDhna shuru kiya ....ufffff ...lijiye unke hi shabdon mein suniye ...


BHAIYAA KA E-mail :


Daamini meri bahanaa Raani ..kya bataoon ..kya mast chudaai hui Payal Aunty ke saath ..Payal Aunty to mera lauDa chodne ko taiyaar hi nahin thi .badi mushkil se wahan se phir aane ka wada kar ghar wapas aaya .

Sham ho chhooki THEe ...din bhar MAMMI ki raseelee choot ke darshan nahin hue THE ..main badhal tha ...Payal aunty se chudaai ke baad mere lund ko jaroor kuch rahat milee ..par mera man Mummmy ki choot ke bina abhi bhi bhara nahin tha ...kya karoon Daamini ..tumhari aur MAMMI ki choot ke bina main mar jaoonga ....

Main ghar aate hi MAMMI se chipak gaya ..MAMMI bhi sirf bra aur painty mein hi thi ..par din bhar ke aaraam se fresh thi ..

"MAMMI ...oooh meri raani MAMMI ..." Maine un se chipakte hue kaha ..aur unki painty ke andar haath Daalte hue unki choot apne hatheli se masalne laga ...

"Uffff ..Abhi ..din bhar chudaai ki tum ne Payal ki ..phir bhi man nahin bhara tumhara choot se ..bas aate hi peeche paD gaye meri choot ke..? " Unhone mere haath painty se bahar nikalne ki koshish kee...aur kaha "Dekh ja jaldi bathroom ja kar naha le ....aaj main apne dulhe ke ling ki pooja karoongi ..us ke baad hi phir tumhein chudaai ka mauka milega....."

" Are ye pooja paath kab se shuru kar diya aap ne MAMMI ..dekhiye na bina Pooja ke hi to mera lauDa kitna kadak hai ..."

Unhone mere louDe ke samne jhookte hue mere louDe ko apne hathon mein thaam liya aur phir use choomte hue kaha " Tabhi to pooja kar rahee hoon beta..itna mast lund hai .kisi aur choot ki nazar na lag jaye isliye mere raja bete ke lund ka nazar utarna hai ....ab ja der mat kar ..nahan le aur jaldi aa ja ..mujhe bhi nazar utarne ki jaldi hai .....meri choot bhi to tadap rahee hai ..ja jaldi ja .."

"Aap bhi na MAMMI ..ok baba ok ..jata hoon.."

" Aur han bahar aana to kapde mat pehn na , bilkul nange rehna ... " Unhone jate jate chillate hue kaha .

Main bhi hairan tha ...aakhir ye kaisi pooja hai ..lund ki nazar utarnewali ..? Jaldi jaldi nahaya ..lund aur uske charon or Payal aunty ki chudaai se jo ras aur virya lage thee ..achhee tarah saaf kar diya ..aur thode bahut baal THE unhein bhi saaf kar liya.....mera lund bilkul cheekna aur saaf tha.

Jaise main bathroom se bahar aaya , dekha MAMMI bhi bilkul nangi bahar khadi hain ...sirf kuch gehne the unke badan par ...jo unke badan ko dhankne ki bajay unke sundarta aur sex appeal ko aur bhi badhaa raha tha ...kan mein woi suhag raat wali boondein ..kamar mein patli kamar band ..pairon mein payal ..hathon mein chudiyan ..ufff ..main to bas dekhta hi raha ..choot bilkul saaf aur cheekni ..haath lagao to phisal jaye ..aur choot ki halki darar se unki gulabi phank ...mere man kiya choot abhi masal masal kar buri tarah choos Daaloon ...

MAMMI ne meri nazarein bhanpte hue kaha ""hmmm...koi shararat nahin ..pooja khatm hone tak tum mujhe bilkul nahin chhoona ...jo karna hai main karoongi ..warna ye choot tumhein phir nahin milne wali ...."

Aur unhone mera haath tham liya aur mujhe apne bed room ki taraf kheenchte hue chal paDee ....uff nangi MAMMI mere saath chal raheen thi ..unka chuTaD halchal macha raha tha ..chuchiyaan hichkole le raheen thi aur payal kabhi kabhi khanak uthti ..main kisi aur hi duniya mein khoya tha ...main bilkul jaise mantramugdh sa MAMMI ke saath saath chal paDa .jaise mujh par unhone koi jaadu kar diya ho..

Room ke andar ek kone mein aamne saamne do lakdi ke chote chote baithne ki teepai rakhee thee bilkul pas pas , donon teepayion ke beech ek thali thee aur do katore rakhe THE...MAMMI ek teepayi par baith gayi aur mujhe doosre wale par baithne ko kaha ...baithne ke baad maine dekha ek katori mein doodh tha aur doosre mein chandan ka patla lep .

Hum donon itne pas THE hamari sans ek doosre se takra rahee thee ..pair choo rahe THE ..aur mujhe siharan ho rahee thee ..phir MAMMI ne mujhe kaha:

" Dekh beta ye pooja main tere aur mere bhale ke liye hi kar raheen hoon..ek to tere louDe par kabhi kisi bhi buri choot ki nazar nahin lagegi ..aur doosri baat meri choot aur tumhare lund ka aapas mein aisa milan hoga ..kabhi bhi tootega nahin ...hamesha ke lliye donon ek doosre ke ho jayenge ..tumhare Papa ke louDe ke saath bhi meri choot ki ye milan pooja hui hai ... aur aaj tere lund ke saath hoga ...main ajaisa boloongi karte rehna aur mujhe bilkul nahin choona ..."

" Han MAMMI ..par MAMMI ye pooja to phir mere lund au Daamini ki choot se bhi karwa do na plz .."

"Han beta karwaoongi use aane do ..aur uski choot aur Papa ke lund ka bhi hoga .uske baad humara koi bhi kuch beegad nahin sakta ..."

"Chalo ab jaldi pooja shuru karte hain ...main phir se bol rahi hoon mujhe tum choona mat ..."

" Han MAMMI ..bas aap karte raho main aap jo kahengi karta jaoonga "

Ab unhone apni tangein thodi phaila dee ,,jis se unke choot ki phank khool gayi ..uffff kya mast choot thee .bilkul chamkeelee aur saaf ..jara bhi baal nahin ..hum donon ghootne upar kiye aamne saamne aise baithe THE hamare ghootne ek doosre ke ghuTano se chhoo rahe THE ...unke badan aur sanson ki khushbu mujhe madhosh kar rahee THEe ..

Unhone apne baaeen haath se mere louDe ko tham liya aur dahine haath ki ungliyon mein chandan wali katori se chandan ka lep lagate hue mere louDe mein ghiste hue lagane lagi ....ufff mera lauDa unke ungliyon ke sparsh se tann ho gaya tha ... mere louDe ki chamdi kholte hue unhone mere supaDe se le kar jad tak chandan ke lep ki malish shuru kar di .... main sihar raha tha unki malish se ...upar ka hissa poore lep se dhank gaya phir mere tannaye louDe ke neeche wale hisse mein bhi achhee tarah chandan ka lep laga diya ..mujhe laga ab jhad jaoonga ....par maine apni sans rokte hue apne aap ko kisi tarah roka ..

MAMMI ki choot se bhi pani tapak raha tha , aur neeche rakkhe thali mein jama ho raha tha ,,unki snasein bhi tez thi ...

Phir unhone apni tangein aur choot phailate hue teepayi aur pas kheench leen , itne pas ki unki choot mere louDe ko choo rahee THEe ...phir unhone apni choot mein mere louDe ke supaDe ko andar ghusa liya ..bas sirf itna ke baki lauDa bahar thaa aur sirf supaDa andar tha ..MAMMI khood bhi kanp uthi ..aur mera to bura haal tha hi .


Ab unhone ek haatheli ki ungliyon se louDe ko thame rakha jis se ki bahar na aa jaye ..aur doosre haath se doodh ki katori leTe hue louDe ke upar dheere dheere doodh boond boond kar Daalne lagi ..unhone louDe ko thoda upar uthaya jis se doodh louDe ke upar se hota hua unki choot tak jata raha aur phir wahan se neeche rakhee thali par gir raha tha ..aur louDe ko dheere dheere apni choot mein upar neeche ghisne lageen ...

Ufffff....main pagal ho raha tha ..unke choot ke andar ki garmi aur doodh ki thandak , main madahoshi ke aalam mein tha ...lagatar MAMMI doodh Daale ja rahee thi aur choot ki ghisai bhi kar raheen thi mere louDe se ..unka lauDa thamna bhi ab kaphi tight ho gaya tha ...choot ke andar mere louDe se hote hue doodh aur chandan jane se choot mein kaphi phislan ho rahee thee aur unhein bhi maza aa raha tha mera lauDa choot mein ghisne se .unki ankhein bhi band ho raheen thi ..dheere dheere karah raheen thi ...katore ka doodh bhi ab khatm hone wala tha ..ab unhone apni teepayi aage karte hue mere louDe ko apni choot ke andar le liya ... doodh andar jane se choot kaphi geeli THEe aur thoda bahut chandan bhi tha doodh ke saath ..jis se unhein andar aur bhi jyada siharan ho rahee thee ...mujhe laga ki main unhein tham loon aur jordar dhakke lagaoon ...par mujhe to choona mana tha ...... main bebas tha ..meri ankhon mein tadap THEe , ek bebasi thee ,,,

MAMMI ne meri ankhon mein dekhte hue meri bebasi ko bhanpte hue apne haath se louDe ko , jo adhha andar tha , joron se choot ke andar hi andar ghisne lagi ..doodh aur chandan ke hone se itna gharsan tha andar main kanp utha ..MAMMI bhi kanp uthi ...do char baar kaphi joron se unhone ghisai ki ..mujh se raha nahin gaya , mera lauDa jhaTke khata hua unki choot mein pichkari chodna chaloo kar diya ....itne joron se aaj tak main nahin jhada tha ... MAMMI mere garm lawa ki dhar se mast ho uthi aur chuTaD hilate hue jhaDane lageen mera virya ..doodh aur unka raas sab rees rees kar unki choot se behte hue neeche rakhe thali mein jama ho rahe the...


MAMMI ke choot ka ras ..mera virya doodh aur chandan ke saath milta hua neeche rakhee thali mein jama ho raha thaa ..hum donon hanf rahe THE ..teepayi par baithe THE aur hamara ras rees raha tha , thaali mein jama ho raha tha ..


Hum donon aise hi baithe rahe jab tak ki hum donon poori tarah khali nahi ho gaye .

Main unhein choone aur apni bahon mein lene ko tadap raha thaa ... unka bhi yei haal tha ...

Phir wo uthi ..aur mujh se bhi uthne ko ishara kiya ..thali mein jama mere virya , doodh , unke choot ras aur chandan ke mixture ko doodh ke katore mein Daal diya ..uff kya gadha mixture tha ..katore se pehle unhone apni hathon se use mujhe pilaya aur baki ka khood pee liya ..aur bacha kucha jo bhi katore mein tha use jeebh se chaaT chaaT kar poora saf kar diya .

" Beta ab hamari choot aur tumhare lund ka milan poora ho gaya ..ab aao mujhe apni god mein utha lo aur chod Daalo apni choot ko ..aaj se poori tarah ye choot tumhari aur tumhare Papa ki hai ..bas jaise jee chahe chod lo .."
kramashah……………………..


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 20 Dec 2014 08:26

दामिनी--31

गतान्क से आगे…………………..

मैं तो जैसे इस पल का इंतेज़ार ही कर रहा था ..मैने उन्हें उनको अपनी बाहों में लेते हुए अपनी गोद में लिया ..मम्मी मेरे गले को अपने हाथों से जकड़ते हुए मुझ से चिपक गयीं ..मैने उन्हें उठाया और थोड़ी ही दूर पर पड़े बेड पर लीटा दिया.

उफफफफफफ्फ़ .क्या बताऊं दामिनी रानी ..पूजा का असर था ..या फिर पता नहीं क्या बात थी ..हम दोनों एक दूसरे के लिए पागल हो रहे थे .....मन कर रहा था मम्मी को अपने से इतनी जोरों से चिपका लूँ के बस उनके अंदर ही समा जाऊं ...मेरा लौडा फिर से तननाय्या था ....हिल रहा था ..इतना कड़क था ..और मम्मी को जैसे मैने बीस्तर पर लीटाया ..उन्होने अपनी टाँगें फैला दी और बाहें फैलते हुए तड़प्ते हुए मुझ से कहा :

" बेटा आ जा ..आ जा अब देर मत कर ..मेरी बाहों में आ जा ना ....उफफफफफ्फ़ ...मैं मर जाउन्गि ...मेरा एक एक अंग तुम्हारे लिए तड़प रहा है ......आ जा ...आ जा मेरे बेटे ..."

उनकी आवाज़ में इतनी कशिश ...तड़प और प्यार था ..मैं बिल्कुल कूदते हुए उनके टाँगों के बीच अपनी जंघें रखता हुआ उन से बुरी तरह चिपक गया .....मेरा तननाया लौडा उपर से ही उनकी चीकनी चूत को जोरों से दबा रहा था .... और मैने अपने होंठ उनके होंठों से लगाता हुआ उन्हें चूसने लगा ,,मानो उन्हें आम की तरह चूस जाऊँगा ..मम्मी ने भी मेरी पीठ को जकड़ते हुए और भी खींच लिया अपनी तरफ ..हमारी साँसें टकरा रही थी ....बुरी तरह एक दूसरे को चूस रहे थे ...एक दूसरे को भींचे जा रहे थे ..ज़ोर और ज़ोर ..जैसे मम्मी मुझे और मैं मम्मी को अपने अंदर लेने की लगातार कोशिश में लगे थे ..

उनकी चुचियाँ मेरे सीने से ऐसी चिपकी थी के स्पंज की तरह चिपटि हो गयीं थी ...हम एक दूसरे को चाट रहे थे ..चूम रहे थे .चूस रहे थे उर मम्मी मेरे नीचे टाँगें फैला फैला कर , टाँगों से मेरे चूतड़ जाकड़ जाकड़ मेरे लौडे को चूत में अंदर लेना चाह रहीं थी ..पर मुझे तो मम्मी का पूरा स्वाद लेना था ....अपनी माँ का स्वाद ..कितना मीठा ..अमृत अगर होता होगा तो बस मम्मी के मुँह के टेस्ट जैसा ......फहीर मैं उनकी टाँगों के बीच आ गया और उनकी चूत फैलाता हुआ अपने होंठों से उनकी चूत जाकड़ ली और दशहरी आम की तरह चूसने लगा ......आआआआआआआः ...दामिनी ...उनकी चूत के अंदर से मेरा वीर्य , दूध और चंदन और उनका रस सब एक साथ मेरे मुँह में पिचकारी की तरह घुस गये ..इतनी जोरों से मैने चूसा था ....ये भी एक अलग ही टेस्ट था ...शायद अमृत से भी बढ़ कर ...

मम्मी की चूतड़ उछाल रही थी .उनकी टाँगें कांप उठी और वह चिल्ला उठी " अभिईीईई ...आआआआआआआआआः ......ऊऊऊऊऊः बस बस बेटा बस ......और नहीं ....अब चोद डालो बेटे राजा ..तुम्हारी चूत है ..अब तो तेरी है मेरे राजा .....चोदो ना .....उफफफफफफ्फ़ "

उनकी आवाज़ों से मेरा लौडा और भी तन्ना गया था ..दर्द सा हो रहा था ..पर मैं माँ का अमृत चूस रहा था ..उसे अपने अंदर समा रहा था और मम्मी तड़प रहही थी ...बार बार चूतड़ उछाल रही थी ..टाँगें जाकड़ रही थी ..और मैं लगातार उनकी चूत चूसे जा रहा था ...उफफफ्फ़ माँ को चूसने का इतना मज़ा क्यूँ होता है दामिनी ....तुम्हें भी मैं ऐसे ही चूसूंगा ...हाँ दामिनी ....उफ़फ्फ़ ..मन नहीं भरता ..

मम्मी सहन नहीं कर सकीं और उनका चूतड़ उपर और उपर हवा में उठता गया ..और मेरे मुँह के अंदर उनके रस का फव्वारा छूट रहा था ..मैं पीते जा रहा था ....पूरे का पूरा ....मम्मी शांत हो गयीं ..पर मेरा लौडा जैसे जड़ से उखाड़ने की तरह कड़क हो गया था

अब मैने मम्मी की चूतड़ उठाते हुए उनके रस से सराबोर चूत के अंदर अपना लौडा डालते हुए एक झट्के में ही अंदर पेल दिया और उन्हें जकड़ते हुए , उनकी चुचियाँ चूस्ते हुए जोरदार धक्के लगाने लगा ..हाए धक्के में मम्मी " हाई हाई ...मार डालो ..फाड़ डालो .." की रट लगती जाती ..मैं पागल था ..मदहोश था .....पागलों की तरह उन्हें चोदे जा रहा था ....चोदे जा रहा था ....उउफफफ्फ़ .....सतासट ..फतचफतच ....."हाँ बेटा ...ये चूत तुम्हारी है ..उफफफ्फ़ ,..हाँ ..हाआँ जोरों से चोद ..चोद ...."

और मैने उन्हें बुरी तरह जाकड़ लिया ....उनसे चिपक गया उन्होने भी मुझे अपनी बाहों से चिपका लिया अपने सीने से ..और मेरा लौडा उनकी चूत में इतनी तेज़ धार मारते हुए झाड़ रहा था ..उनका एक एक अंग सिहर उठा ..मैने उन्हें जाकड़ रखा था ..फिर भी उनका पूरा बदन कांप रहा था मेरी बाहों में .......

उनकी चूत का एक एक कोना मेरे वीर्य की धार से फडक रहा था ..मैं अपने लौडे पर महसूस कर रहा था उनकी चूत का फड़कना ...उनका झड़ना ...

हम दोनों एक दूसरे से चिपके लंबी लंबी साँसें लेते हुए लेटे थे ...

एक दूसरे को अपने अंदर महसूस कर रहे थे .....ये था शायद लंड और चूत का सम्पुर्न मिलन ....


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: दामिनी

Unread post by rajaarkey » 20 Dec 2014 08:27

भैया का ई-मैल पढ्ने के बाद मेरी तो बुरी हालत थी ...पढ्ते पढ्ते ही मेरी चूत से लगातार पानी रीस रहा था ....आँखें भी भर आईं थी ...हाँ भैया के मम्मी और मुझ से बे-इंतहा प्यार से ..कितना प्यार था उन्हें हम से ....

मेरे साथ भी लिंग पूजा करना चाहते थे...मैं तो सिर्फ़ इस सोच से ही सिहर उठी थी ...मैं उनका लंड अपनी चूत में लिए दूध और चंदन से घिसाई करूँगी...उफफफफ्फ़ ...मुझे इतना रोमांच हुआ ...मैं झडने लगी ...

मुझे भैया की बहुत याद आ रही थी ..और मम्मी की भी ...मैने सोच लिया था आज शाम को पापा से घर वापस जाने को बोलूँगी ...मुझ से अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था ...भैया के लंड के बिना मेरी चूत बिल्कुल खाली खाली सी लगती थी ...

मैने देखा घड़ी में 12 बज चुके थे ..मैने कम्प्यूटर ऑफ किया और बाथरूम चली गयी ..चूत को अच्छी तरह साफ किया ....कितनी गीली हो गयी थी ..जांघों तक चीपचीपा हो गया था ..

नहाने के बाद लंच ऑर्डर किया और फिर लंच ले कर सो गयी...

अचानक मेरी नींद खूल गयी...देखा फोन की घंटी बज रही थी ..मैने फोन उठाया , भैया की आवाज़ आई

" अर्रे दामिनी मैं कितनी देर से रिंग कर रहा हूँ..कहाँ थी ..? सब ठीक तो है ना..??"

" मैं यही थी भैया..ज़रा आँख लग गयी थी ..वहाँ क्या हाल है..मम्मी कहाँ हैं ..?"

" मम्मी अपने रूम में सो रही हैं ..कल की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मस्त सो रहीं हैं .."

"हाँ वो तो है ..उफफफफ्फ़ .भैया कितना मज़ा आया होगा ना लिंग पूजा में ...मैं तो सिर्फ़ पढ़ के गरम हो गयी ...भैया मेरे साथ भी तुम्हारे लंड की पूजा होगी ..."

"अरे हाँ दामिनी बिल्कुल होगी मेरी रानी ..तुम आ तो जाओ ..कब तक आओगी..? मैं बहुत मिस कर रहा हूँ ...तेरे बिना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता दामिनी ..प्ल्ज़्ज़ जल्दी आ जाओ .."

"मेरा भी येई हाल है भैया ..बस तुम्हारे लंड के बिना मैं भी तड़प रहीं हूँ ..मेरी छूट बिल्कुल खाली खाली है मेरे राजा भैया ...मन करता है अभी वहाँ पहुँच जाऊं और तुम्हारे लंड के उपर बैठ जाऊं .....उफ़फ्फ़ कितना कड़क रहता है तुम्हारा लौडा ..."

" हाँ दामिनी तुम्हारी चूत भी तो कितनी टाइट रहती है ..जब तक तुम्हारी चूत नहीं मिलती ना मेरी रानी बहना ..मेरे लौडे की भी भूख नहीं मिट ती ..आ जाओ रानी ..बस अब और देर मत करो ..."

" हाँ भैया मैं आज ही पापा से जाने को बोलती हूँ ..."

" ठीक है ..अरे हाँ ये सलिल कौन है दामिनी..??"

" अरे मेरे कॉलेज का दोस्त है...क्यूँ क्या हुआ ..?? "

" आज थोड़ी देर पहले यहाँ आया था .. मम्मी उस समय जागीं थी ...तुम्हारे बारे पूछ रहा था ..मम्मी ईज़ इंप्रेस्ड ...काफ़ी हॅंडसम है ....कुछ चक्कर वक्कर तो नहीं है ना...और अगर है भी तो डॉन'ट वरी ....मम्मी बोल रही थी काफ़ी सीधा साधा है....अगर ऐसे लड़के से तेरी शादी हो जाए तो फिर उसे भी हम अपने साथ मिला सकते हैं ..."

" ओओओओओह भैया ....दिस ईज़ ग्रेट......मुझे आने दो मैं एक दिन उसे लाऊंगी और फिर मम्मी उस से अच्छे तरह बात कर लें ....अगर जैसा मम्मी सोच रहीं हैं ..हो जाए तो फिर कितना अच्छा रहेगा ...ऊवू ....बस अब और नहीं मैं तो कल वहाँ आउन्गि ही आऊँगी ..भले पापा नहीं आयें ...."

" हाँ दामिनी ..कितना अच्छा रहेगा ....ओक फिर तू पापा से बात कर ले और कल ही आ जा ....मैं फोन रखता हूँ ..बाइ ...मुआााआआआआआआआआः "

" मुआााः ..मुआााआः भैया ..लव यू सो मच " और मैने भी फोन रख दिया.

शाम को जैसे ही पापा आए ..मैं उनसे लिपट गयी ...और उन से कहा " पापा ....मुझे मम्मी और भैया की बहुत याद आ रही है ...मुझे घर जाना है .."

"हा .हा ,"उन्होने भी मुझे अपनी बाहों से जाकड़ लिया और मुझे चूमते हुए कहा " मैं जानता हूँ दामिनी ..तुम दोनों भाई बहेन कितना प्यार करते हो....मैने कल सुबह की फ्लाइट से बुकिंग करा ली है ..मेरा भी अब यहाँ का काम पूरा हो गया है... "

और उन्होने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और सोफे पर बैठ गये ... मैं उनके गोद में उनके लंड से खेल रही थी .और वो मेरी चूचियों से ...ऐसे ही हम ने चाइ पी .. और फिर कल सुबह जाने की तैयारी में में लग गये ...

क्रमशः……………………..